close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: BCCI अध्यक्ष बनते ही अपनी पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में क्या कहा दादा ने

BCCI के नए प्रमुख सौरव गांगुली ने अपना पदभार संभालने के बाद अपनी पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में अपने काम और चुनौतियों के बारे में बात की. 

VIDEO: BCCI अध्यक्ष बनते ही अपनी पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में क्या कहा दादा ने
गांगुली का कहना है कि उनकी युवा टीम को नहीं पता है कि बीसीसीआई में पिछले तीन साल में क्या हुआ. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के नवनिर्वाचित अध्यक्ष सौरव गांगुली (Sourav Ganguly)  ने आधिकारिक तौर पर कार्यभार संभाल लिया है. अपना कार्यभार संभालने के बाद गांगुली ने अपनी पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस में अपने नए काम को चुनौती बताते हुए कहा कि वे अपने हिसाब से काम करेंगे. गांगुली ने कहा कि वे विराट कोहली से गुरुवार को बात करेंगे. इसके अलावा उन्होंने हितों के टकराव के मामले और घरेलू क्रिकेट पर भी बात की. नहीं पता

पिछले तीन साल में यहां क्या हुआ
गांगुली ने पहले अपनी टीम के बारे में बताया, "यह काम एक चुनौती है. हमारी टीम युवा है. हमें सब कुछ समझना होगा. हम नहीं जानते कि पिछले तीन चार सालों में यहां क्या हुआ है क्योंकि यहां कोई सालाना एजीएम की मीटिंग नहीं हुई थी. न ही हममें से कोई इसका हिस्सा रहा. हम यहां भारतीय क्रिकेट को बेहतर करने आए हैं और ऐसा करने की पूरी कोशिश करेंगे. हम कोशिश करेंगे कि हम भ्रष्टाचार मुक्त कामकाज दे सकें"

यह भी देखें: तस्वीरों में देखें, कैसे दर्ज की टीम इंडिया ने रांची में ऐतिहासिक जीत

विराट कोहली के बारे में
गांगुली ने विराट के बारे में बात करते हुए कहा कि वे विराट से गुरुवार को बात करेंगे. उन्होंने कहा कि विराट से वे कल (गुरुवार को) बात करेंगे. उन्होंने कहा कि विराट टीम इंडिया क कप्तान हैं. वे भारतीय क्रिकेट के लिए बहुत ही खास आदमी हैं. हमें उन्हें हर तरह का सहयोग देंगे."  

हितों का टकराव
दादा ने हितों के टकराव के मुद्दे पर भी अपने इरादे जाहिर किए.  उन्होने कहा कि बोर्ड का क्लॉज 38 (जो कि हितों के टकराव को लेकर बीसीसीआई के नियम से संबंध रखता है), को बदलने की जरूरत है. प्रशासकों की समिति इस पर काम कर चुकी है. उन्होने पहले ही सुप्रीम कोर्ट में इस मामले को रख दिया है. अब देखना है कि यह किस तरह बदल पाता है. प्रशासकों की समिति का गांगुली के अध्यक्ष पद संभालते ही अस्तित्व खत्म हो गया है. 

घरेलू क्रिकेट पर
गांगुली पहले ही कह चुके हैं कि उनकी प्राथमिकता घरेलू क्रिकेट पर ध्यान देने की होगी. उन्होंने कहा कि रणजी उनकी प्राथमिकता ही होगी. रणजी का प्रारूप आदि सब कुछ देखा जाएगा. यही वह प्रारूप है जहां से हमें कोहली और धोनी मिले हैं.