close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज ने ऋषभ पंत को बताया बच्चा, कहा- क्रिकेट बड़ों का खेल है...

ऋषभ पंत लगातार मौके मिलने के बाद भी नंबर-4 पर अपनी उपयोगिता साबित नहीं कर पाए हैं. 

ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज ने ऋषभ पंत को बताया बच्चा, कहा- क्रिकेट बड़ों का खेल है...
21 साल के ऋषभ पंत 11 टेस्ट, 12 वनडे और 20 टी20 मैच खेल चुके हैं. (फोटो: IANS)

नई दिल्ली: भारत के युवा क्रिकेटर ऋषभ पंत (Rishabh Pant) वनडे क्रिकेट में बल्ले से लगातार फ्लॉप हो रहे हैं. साथ ही, उन्हें लगातार मौके दिए जा रहे हैं. इसके लिए पूर्व क्रिकेटरों से लेकर आम प्रशंसक तक ऋषभ पंत की आलोचना करने लगे हैं. सुनील गावस्कर, ब्रायन लारा, वीवीएस लक्ष्मण जैसे क्रिकेटर पंत का बैटिंग ऑर्डर नीचे करने की सलाह दे रहे हैं. इस बीच, ऑस्ट्रेलिया के दिग्गज क्रिकेटर ने पंत को बच्चा करार दिया है. 

युवराज सिंह (Team India) जैसे कुछ क्रिकेटर ऋषभ पंत का बचाव भी कर रहे हैं. युवी का कहना है कि ऋषभ पंत पर बेवजह दबाव बनाया जा रहा है. ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर डीन जोन्स (Dean Jones) ने पंत का बचाव करने वाली युवी की खबर को लेकर ट्वीट किया. 21 साल के ऋषभ पंत 11 टेस्ट, 12 वनडे और 20 टी20 मैच खेल चुके हैं.

यह भी पढ़ें: सचिन तेंदुलकर ने बताया, क्यों करनी पड़ी थीं कोच से मिन्नतें? फेल हो जाते तो क्या होता

डीन जोन्स ने लिखा, ‘आखिर पंत द्वारा की जा रहीं गलतियां बाकी युवा क्रिकेटरों से अलग कैसे हो सकती हैं? यह बड़े लोगों का क्रिकेट है. मुझे मालूम है कि वह युवा हैं, लेकिन उन्हें यह सच्चाई जानने की जरूरत है. उन्हें अपने ऑफ साइड के खेल में सुधार लाने की भी जरूरत है.’

dean

इससे पहले युवराज सिंह ने ऋषभ पंत के खराब फॉर्म का बचाव किया था. उन्होंने कहा था, ‘ऋषभ पंत को लेकर जिस तरह की बातें की जा रही हैं, वे यह डिजर्व नहीं करते हैं. इन सबसे बाहर आने के लिए पंत को कप्तान विराट कोहली व कोच रवि शास्त्री के समर्थन की जरूरत है. इन दोनों को पंत से बात करनी चाहिए और उन्हें इस दबाव से बाहर निकलने में मदद करनी चाहिए.’

 

ऋषभ पंत को वनडे क्रिकेट में नंबर-4 पर आजमाया जा रहा है. वे इस नंबर पर आठ मैच खेल चुके हैं. इन आठ मैचों में वे सिर्फ एक बार 35 रन का आंकड़ा पार कर पाए हैं. नंबर-4 पर उनका सर्वोच्च स्कोर 48 रन है. इसी तरह टी20 क्रिकेट में उन्हें 11 बार नंबर-4 पर बैटिंग का मौका मिला है. वे इनमें से सात बार 10 रन का आंकड़ा भी नहीं छू पाए.