क्रिकेटर युवराज सिंह अरेस्ट, युजवेंद्र चहल के खिलाफ की थी जातिगत टिप्‍पणी
X

क्रिकेटर युवराज सिंह अरेस्ट, युजवेंद्र चहल के खिलाफ की थी जातिगत टिप्‍पणी

सोशल मीडिया पर अनुसूचित जाति समाज के खिलाफ टिप्पणी करने के मामले में हांसी पुलिस ने क्रिकेटर युवराज सिंह को गिरफ्तार किया था. हालांकि बाद में जमानत मिलने के बाद उन्हें छोड़ दिया गया.

क्रिकेटर युवराज सिंह अरेस्ट, युजवेंद्र चहल के खिलाफ की थी जातिगत टिप्‍पणी

हिसार: सोशल मीडिया (Social Media) पर अनुसूचित जाति के खिलाफ टिप्पणी करने के मामले में हांसी पुलिस (Hansi Police) ने शनिवार को क्रिकेटर युवराज सिंह (Yuvraj Singh) को गिरफ्तार कर लिया. ये गिरफ्तारी 2020 के एक मामले में हुई, जिसके कुछ देर बाद ही युवराज को हाई कोर्ट के निर्देशानुसार औपचारिक बेल मिल गई. अब युवराज सिंह के खिलाफ हांसी पुलिस अदालत में चालान पेश करेगी. हांसी पुलिस के पीआरओ सुभाष कुमार ने बताया, 'युवराज को कल गिरफ्तार किया गया था, उन्‍हें तफ्तीश में शामिल करते हुए बयान भी दर्ज किए हैं, डीएसपी विनोद शंकर ने युवराज सिंह से पूछताछ की है.'

वीवीआईपी ट्रीटमेंट का आरोप

मामले के शिकायतकर्ता रजत कलसन के मुताबिक हांसी पुलिस ने युवराज को हिसार स्थित पुलिस विभाग के गजेटेड ऑफिसर मैस में बैठाकर पूछताछ की तथा बाद में हाई कोर्ट के निर्देशानुसार औपचारिक जमानत पर छोड़ा गया. उन्‍होंने हरियाणा पुलिस द्वारा पूरा वीआईपी ट्रीटमेंट देने के आरोप लगाए हैं.

चहल के खिलाफ की थी टिप्पणी

दरअसल,  सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें युवराज पिछले साल लॉकडाउन के दौरान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) के साथ एक इंस्टाग्राम लाइव में बातचीत कर रहे थे. इसी दौरान उन्होंने दलितों के खिलाफ एक आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल किया था. यह शब्द उन्होंने युजवेंद्र चहल को कहा था. जिसके बाद फैंस ने उनकी जमकर आलोचना की थी. इसी के चलते दलित ह्यूमन राइट्स के संयोजक रजत कलसन ने पिछले साल 2 जून को मुकदमा दर्ज कराकर, गिरफ्तारी की मांग की थी. युवराज के खिलाफ ये शिकायत हिसार के हांसी शहर थाने में दर्ज कराई गई थी. उनके ऊपर आईपीसी की धारा 153, 153 A, 295, 505 के अलावा SC/ST एक्ट की धाराएं लगाई गई हैं.

पहले मांग चुके हैं सार्वजनिक माफी

हालांकि मामला बढ़ने पर युवराज ने माफी भी मांगी थी. उन्होंने एक ट्वीट में कहा, 'मैं ये साफ करना चाहता हूं कि मैं रंग, जाति या लिंग के आधार पर किसी तरह के भेदभाव में यकीन नहीं करता हूं. मैंने लोगों की भलाई में अपनी जिंदगी जी है और आगे भी ऐसा ही जीना चाहता हूं. मैं हर व्यक्ति का सम्मान करता हूं. मैं समझता हूं कि मैं अपने दोस्तों से बात कर रहा था और उस समय मेरी बात को गलत तरीके से लिया गया, जो अनुचित था. फिर भी, एक जिम्मेदार भारतीय होने के नाते मैं कहना चाहता हूं कि अनजाने में अगर मेरी बातों से किसी को दुख पहुंचा है तो मैं पर खेद व्यक्त करता हूं. देश और देश के लोगों से मेरा प्यार हमेशा रहेगा.'

LIVE TV

Trending news