सचिन तेंदुलकर को दो बार आउट करने वाला ये गेंदबाज आज कर रहा टमाटर की खेती, ऐसे बिता रहा जिंदगी

पूरी दुनिया में कई ऐसे क्रिकेटर हुए हैं जिन्होंने भले ही क्रिकेट के मैदान पर कम वक्त बिताया लेकिन शानदार प्रदर्शन किया. ये वो खिलाड़ी हैं जिन्होंने अपने शानदार प्रदर्शन से लोगों का दिल जीता.

सचिन तेंदुलकर को दो बार आउट करने वाला ये गेंदबाज आज कर रहा टमाटर की खेती, ऐसे बिता रहा जिंदगी
एडो ब्रांडेस (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: पूरी दुनिया में कई ऐसे क्रिकेटर हुए हैं जिन्होंने भले ही क्रिकेट के मैदान पर कम वक्त बिताया लेकिन शानदार प्रदर्शन किया. ये वो खिलाड़ी हैं जिन्होंने अपने शानदार प्रदर्शन से लोगों का दिल जीता. उन खिलाड़ियों के सामने दूसरी टीम के खिलाड़ी भी डरते थे, मगर रिटायरमेंट के बाद उन खिलाड़ियों को दुनिया बहुत आसानी से भुला देती है. आज हम आपको ऐसे ही खिलाड़ी के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्होंने सचिन जैसे महान बल्लेबाज को भी अपनी गेंदबाजी से आउट किया था, मगर आज वो घर चलाने के लिए टमाटर की खेती कर रहे हैं.

दरअसल, हम यहां बात कर रहे हैं जिम्बाब्वे के पूर्व तेज गेंदबाज एडो ब्रांडेस (Eddo Brandes) की. एडो ने अपने करियर में जिम्बाब्बे के लिए 10 टेस्ट मैच और 59 वनडे मैच खेले. हालांकि एडो ब्रांडेस को इंटरनेशनल करियर में कुछ खास करने का मौका नहीं मिला, लेकिन वो 96 विकेट अपने नाम कर चुके हैं. भले ही उनका करियर लंबा नहीं रहा लेकिन कम वक्त में भी उन्होंने अपने आपको साबित कर दिया था. इतना ही नहीं टीम इंडिया के खिलाफ भी वो कई बार खेल चुके हैं और अपनी गेंदबाजी से 4 बार जिम्बाम्बे को जीत भी दिला चुके हैं. एडो ने सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) को दो बार आउट किया था और उनकी टीम ने भारतीय टीम के खिलाफ चार बार जीत दर्ज की. एडो ने साउथ अफ्रीका में खेले गए वनडे सीरीज में टीम इंडिया को हराने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

ये भी पढ़ें: धोनी के रिटायरमेंट की अटकलों पर पत्नी साक्षी रावत ने दिया ये बयान, देखिए वीडियो

आखिरी बार एडो बरांडेस ने साल 1999 में श्रीलंका के खिलाफ इंटरनेशनल मैच खेला था, जिसके बाद उन्होंने क्रिकेट से दूरी बना ली थी. क्रिकेट के साथ-साथ ब्रांडेस ने जिम्बाब्वे को भी छोड़ दिया था और वो ऑस्ट्रेलिया में आकर बस गए. वहां जाकर वो लगभग 6 साल तक एक क्रिकेट टीम के कोच रहे जहां उन्होंने अपनी टीम को पहली बार ब्रिसबेन क्रिकेट प्रतियोगिता जिताई, लेकिन उसके बाद एडो ने कोचिंग भी छोड़ दी.

कोचिंग की जॉब छोड़ने के बाद एडो ने अपना दिल खेती करने में लगाया. एडो ब्रांडेस ने सनशाइन कोस्ट में टमाटर की खेती करनी शुरू कर दी. इस काम में एडो की मदद ऑस्ट्रेलिया के पूर्व विकेटकीपर इयान हीली (Ian Healy) ने भी की. उन्होंने इस बिजनेस में ब्रांडेस के बहुत से लोगों के साथ संपर्क स्थापित करवाए. आपको जानकर हैरानी होगी कि आज के समय में ब्रांडेस सिर्फ एक हफ्ते में 100 टन टमाटर की उपज करते हैं और उसे मार्किट में बेचकर काफी मुनाफा कमाते हैं और अपनी जिंदगी में काफी खुश हैं.