close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Davis Cup: हम अंडरडॉग्स, लेकिन टीम के अनुभव पर भरोसा: महेश भूपति

भारतीय टीम का अगले महीने डेविस कप वर्ल्ड ग्रुप क्वालीफायर में इटली से मुकाबला होना है. यह मुकाबला कोलकाता में खेला जाएगा. 

Davis Cup: हम अंडरडॉग्स, लेकिन टीम के अनुभव पर भरोसा: महेश भूपति
महेश भूपति भारतीय डेविस कप टीम के नॉन प्लेइंग कैप्टन हैं. (फोटो: IANS)

कोलकाता: भारतीय टेनिस टीम को अगले महीने यहां डेविस कप वर्ल्ड ग्रुप क्वालीफायर में इटली के खिलाफ कोर्ट पर उतरना है. टीम के नॉन प्लेइंग कप्तान महेश भूपति ने माना कि टीम अंडरडॉग है, लेकिन उसके पास भी अनुभव है. भूपति ने साथ ही कहा कि ग्रास कोर्ट पर टीम के जीतने की संभावना को नकारा नहीं जा सकता. 

भारतीय टीम के लिए बुधवार को कलकत्ता जिमखाना क्लब में पहले अभ्यास सत्र का आयोजन किया गया. महेश भूपति ने इसके बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘किसी को भी हल्के में नहीं लिया जा सकता. हम बड़े अंडरडॉग्स हैं, लेकिन मुझे लगता है कि हमारे जीतने की भी अच्छी संभावना है.’ भारतीय कप्तान ने कहा, ‘मेरे लड़कों के पास अनुभव है. इसलिए जब डेविस कप आता है तो रैंकिंग मायने नहीं रखती. आप जानते हैं कि यह सभी उच्च स्तर पर खेले हैं. रामकुमार रामनाथन और प्रजनेश गुणेश्वरन दोनों ग्रैंड स्लैम और टूर टूर्नामेंट्स में खेल चुके हैं.’

यह भी पढ़ें: VIDEO: एमएस धोनी ने कहा- ये आंख बंद करके रोकेगा, इसको इधर से डाल सकता है और विकेट मिल गया

महेश भूपति का मानना है कि इटली के खिलाड़ी हार्ड कोर्ट पर ज्यादा प्रभावी होते हैं. इसलिए ग्रास कोर्ट पर उनको परेशानी आएगी. भूपति ने भारत के नंबर-1 और वर्ल्ड नंबर-109 खिलाड़ी प्रजनेश की तारीफ की. साथ ही रामनाथन को भी खतरनाक खिलाड़ी बताया. उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि प्रजनेश ने पहली बार ग्रैंड स्लैम (आस्ट्रेलियन ओपन) के लिए क्वालीफाई किया था. इसलिए उनका आत्मविश्वास ऊंचा होगा. पिछला साल उनका शानदार रहा है.’

महेश भूपति ने कहा, ‘आप जानते हैं कि इस तरह के कोर्ट पर राम भी काफी खतरनाक हो सकते हैं. हम सभी ने देखा था कि पिछले साल उन्होंने न्यूपोस्ट में क्या किया था. उन्होंने फाइनल में जगह बनाई थी, हालांकि वे जीत नहीं सके थे. इसलिए हम सकारात्मक हैं.’ 44 साल के भूपति ने 12 ग्रैंडस्लैम डबल्स खिताब जीते हैं. भारत के लिए उनसे ज्यादा डबल्स खिताब सिर्फ लिएंडर पेस ने जीते हैं. 

इटली के टीम में दो शीर्ष-50 में शामिल खिलाड़ी हैं. वह हालांकि अपने शीर्ष खिलाड़ी फाबियो फोगनिनि के बिना उतरेगी. उसकी टीम में वर्ल्ड नंबर-18 मार्को चेचोहिनाटो, वर्ल्ड नंबर-50 आंद्रे सेप्पी के अलावा माटेयो बेरेटिन (54), थॉमस फाबियानो (102) के अलावा डबल्स वर्ग में वर्ल्ड नंबर-88 सिमोने बोलेली हैं.

(इनपुट: आईएएनएस)