फेड कप: अंकिता रैना की जीत के बावजूद कोरिया से हार गई भारतीय टीम, चौथे स्थान पर रही

भारतीय टीम को तीसरे स्थान के लिए हुए मुकाबले में 1-2 से हार का सामना करना पड़ा. 

फेड कप: अंकिता रैना की जीत के बावजूद कोरिया से हार गई भारतीय टीम, चौथे स्थान पर रही
भारत के लिए एकमात्र मुकाबला अंकिता रैना ने जीता. (फाइल फोटो)

अस्ताना (कजाखस्तान): भारतीय महिला टीम फेड कप टेनिस (Fed Cup) के अंतिम क्लासिफिकेशन मुकाबले में दक्षिण कोरिया से हारकर चौथे स्थान पर रही. कोरियाई महिला टीम ने भारतीय टीम को शनिवार (9 फरवरी) को 2-1 से हराया. भारतीय टीम इससे एक दिन पहले कजाकिस्तान से हारकर विश्व कप से बाहर हो गई थी. 

भारतीय टीम को दक्षिण कोरिया के खिलाफ करमन कौर थांडी की कमी खली. वे चोटिल होने के कारण इस मुकाबले में नहीं खेल सकीं. कप्तान विशाल उप्पल ने करमन की जगह राष्ट्रीय चैंपियन महक जैन को मौका दिया. फेड कप में पदार्पण कर रही महक ने पूरी कोशिश की लेकिन ना रि किम की चुनौती से पार नहीं पा सकीं. भारतीय खिलाड़ी को 2-6, 6-3, 1-6 से हार का सामना करना पड़ा. 

यह भी पढ़ें: INDWvsENGW: मिताली ही संभालेंगी महिला टीम की कमान, कल्पना की 3 साल बाद वापसी, हेमलता बाहर

इसके बाद अंकिता रैना मुकाबले में उतरीं. उन्होंने दूसरे सिंगल्स मुकाबले में सुनाम जिओंग को 6-3, 6-3 से हराकर भारत की वापसी कराई. भारतीय खिलाड़ी को यह मुकाबला जीतने में महज एक घंटे 18 मिनट लगे. इसके बाद दोनों टीमें 1-1 की बराबरी पर आ गईं. 

1-1 की बराबरी के बाद जीत का दारोमदार डबल्स मुकाबले पर था. इस तरह भारत की जीत का दारोमदार अंकिता और प्रार्थना थोंबारे के कंधे पर आ गया. लेकिन भारतीय जोड़ी उम्मीदों पर खरी नहीं  उतरी. कोरिया की सु जेओंग जांग और किम जोड़ी ने भारतीय जोड़ी को 6-4, 6-4 से मात दी. इसके साथ ही कोरिया ने 2-1 से मुकाबला अपने नाम कर लिया. 

यह भी पढ़ें: INDvsNZ: टीम इंडिया के पास पहली बार न्यूजीलैंड में टी20 सीरीज जीतने का मौका

फेड कप महिला टेनिस का सबसे बड़ा टीम इवेंट है. यह टूर्नामेंट 1963 से हर साल खेला जा रहा है. साल 1995 तक इसे फेडरेशन कप के नाम से जाना जाता था. बाद में इसका नाम फेड कप कर दिया गया. अमेरिका ने सबसे अधिक 18 बार यह टूर्नामेंट जीता है.

(इनपुट: भाषा)