close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'फीके' स्वागत से विनेश फोगाट मायूस, हरियाणा सरकार ने दी ये सफाई

 दिलचस्प बात यह है कि खिलाड़िय़ों को सम्मानित करने व नौकरी प्रदान करने का दावा करने वाली हरियाणा सरकार के खेलकूद मंत्री अनिल विज तथा प्रदेश सरकार का कोई भी प्रतिनिधि हवाई अड्डे पर विनेश के स्वागत के लिए नहीं पहुंचा. इससे विनेश और उसके परिजनों में रोष है. 

'फीके' स्वागत से विनेश फोगाट मायूस, हरियाणा सरकार ने दी ये सफाई
विनेश फोगाट और बजरंग पूनिया ने एशियन गेम्स में गोल्ड जीता (PIC : PTI)

भिवानी : एशियाई खेलों में पदक जीतकर देश को गौरवान्वित करने करने वाले हरियाणा के खिलाड़ियों का अपनी धरती पर पहुंचने पर बेहद फीका स्वागत किया गया. इंडोनेशिया से स्वर्ण पदक जीतकर लौटने वाली पहलवान विनेश फोगाट अपने घर लौटीं लेकिन कथित तौर पर हरियाणा और केंद्र सरकार का कोई भी प्रतिनिधि उनके स्वागत के लिए हवाई अड्डे पर नहीं था. इंडोनेशिया में चल रहे 18वें एशियाई खेलों में हरियाणा के पहलवान बजरंग पुनिया ने भारत को पहला स्वर्ण पदक दिलाया था. यह उन्होंने जापान के रेसलर ताकातिनी दायची को हराकर जीता. बजरंग ने पुरुषों के 65 किलोग्राम भारवर्ग फ्रीस्टाइल स्पर्धा में यह पदक जीता. इसी तरह फोगाट ने महिलाओं की फ्रीस्टाइल 50 किग्रा वर्ग के खिताबी मुकाबले में जापान की पहलवान यूकी इरी को एकतरफा मुकाबले में 6-2 से हराकर स्वर्ण जीता था.

बजरंग पूनिया कुछ दिन पहले अपने घर लौटे. विनेश जब दिल्ली आई तो हवाई अड्डे पर उनके परिवार के सदस्यों के अलावा केवल इनेलो नेता दिग्विजय चौटाला थे. दिलचस्प बात यह है कि खिलाड़िय़ों को सम्मानित करने व नौकरी प्रदान करने का दावा करने वाली हरियाणा सरकार के खेलकूद मंत्री अनिल विज तथा प्रदेश सरकार का कोई भी प्रतिनिधि हवाई अड्डे पर विनेश के स्वागत के लिए नहीं पहुंचा. इससे विनेश और उसके परिजनों में रोष है. 

बकौल विनेश उन्होंने भारी दबाव के बीच भारत के लिए स्वर्ण जीतकर इतिहास रचा. इसके बावजूद दिल्ली पहुंचने और हरियाणा में आने पर प्रदेश सरकार के किसी भी प्रतिनिधि ने उनका उत्साह नहीं बढ़ाया. यह भेदभाव है.

इससे पहले जब बजरंग पुनिया भारत लौटे थे तो उस समय भी हरियाणा सरकार का कोई भी प्रतिनिधि उनके स्वागत के लिए नहीं पहुंचा था. हालांकि, बजरंग पुनिया के घर आने के बाद स्थानीय निकाय मंत्री कविता जैन अपने विधानसभा क्षेत्र का होने के नाते उनसे मिलने एवं बधाई देने के लिए गई थीं.

Bajrang Punia

इस संबंध में हरियाणा सरकार ने स्पष्टीकरण दिया कि उसे विनेश के आने की जानकारी नहीं थी. फीके स्वागत से विनेश और उनके परिजन के मायूस होने के बीच प्रदेश के कृषि मंत्री ओम प्रकाश धनखड़ ने किसी अधिकारी या मंत्री के नहीं पहुंचने के मामले में सरकार का बचाव किया. उन्होंने कहा कि सरकार को विनेश के आने की जानकारी नहीं थी. 

धनखड़ ने कहा कि विनेश ने प्रदेश का ही नहीं बल्कि पूरे देश का नाम रोशन किया है. उन्होंने कहा कि विनेश या किसी और बेटी के मान-सम्मान में कोई कमी नहीं आने दी जाएगी. बकौल विनेश उन्होंने भारी दबाव के बीच भारत के लिए स्वर्ण जीतकर इतिहास रचा. इसके बावजूद दिल्ली पहुंचने और हरियाणा आने पर प्रदेश सरकार के किसी भी प्रतिनिधि ने उनका उत्साह नहीं बढ़ाया. उन्होंने कहा कि अफसोसजनक है.