हरमनप्रीत ने कहा, खुद को साबित करना था; 115 गेंदों पर खेली 171 रनों की बेहतरीन पारी

हरनप्रीत की 115 गेंदों पर खेली गई 171 रनों की बेहतरीन पारी के दम पर भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को 36 रनों से हराकर दूसरी बार टूर्नामेंट के फाइनल में कदम रखा.

हरमनप्रीत ने कहा, खुद को साबित करना था; 115 गेंदों पर खेली 171 रनों की बेहतरीन पारी
हरमनप्रीत ने ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की धज्जियां उड़ाकर 115 गेंद में नाबाद 171 रन बनाये. (PHOTO : @cricketworldcup/Twitter)

डर्बी: आईसीसी महिला विश्व कप के सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भारतीय महिला क्रिकेट टीम की जीत में अहम भूमिका निभाने वालीं हरफनमौला खिलाड़ी हरमनप्रीत कौर का कहना है कि उन्हें इस मैच में खुद को साबित करना था. वेबसाइट 'ईएसपीएनक्रिकइन्फो डॉट कॉम' की रिपोर्ट के अनुसार, इस मैच में हरनप्रीत की 115 गेंदों पर खेली गई 171 रनों की बेहतरीन पारी के दम पर भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को 36 रनों से हराकर दूसरी बार टूर्नामेंट के फाइनल में कदम रखा. भारतीय टीम का सामना रविवार (23 जुलाई) को लंदन के द लॉर्ड्स मैदान पर खेले जाने वाले खिताबी मुकाबले में इंग्लैंड से होगा.

मैच के बाद अपने एक बयान में हरमनप्रीत ने कहा, 'इस पूरे टूर्नामेंट में मुझे बल्लेबाजी का अवसर नहीं मिला था. इस सेमीफाइनल मैच में मुझे जब यह मौका मिला, तो मेरा लक्ष्य खुद को साबित करना था. भगवान का शुक्र है कि जो मैंने सोचा वही हुआ. मिताली राज, दीप्ति शर्मा और वेदा कृष्णमूर्ति ने भी अच्छा प्रदर्शन किया.'

हरमनप्रीत ने कहा, 'इस मैच में मेरी योजना प्रतिद्वंद्वी टीम की गेंदों पर नजर रख, उन पर अच्छे शॉट खेलने की थी. मैंने दीप्ति से कहा कि जितनी हो सके अदला-बदली होती रहे. मैंने कहा कि उन्हें अधिक दबाव लेने की जरूरत नहीं है और मुझे स्ट्राइक का मौका दें, बाकी जिम्मेदारी मेरी. उन्होंने बहुत अच्छा काम किया.'

हरमनप्रीत ने गुरुवार (20 जुलाई) को महिला क्रिकेट में बेहतरीन वनडे पारियों से एक खेलकर भारत को विश्व कप के फाइनल में पहुंचाया. भारत ने 10वें ओवर में 35 रन पर दो विकेट खो दिये थे, तब हरमनप्रीत ने ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों की धज्जियां उड़ाकर 115 गेंद में नाबाद 171 रन बनाये जिससे टीम ने बारिश से प्रभावित सेमीफाइनल में चार विकेट पर 281 रन बनाये.