ICC वर्ल्ड कप का दूसरा क्वार्टर फाइनल: जीत का लय बरकरार रखने उतरेंगे धोनी के धुरंधर

लगातार छह मैच जीत चुकी भारतीय क्रिकेट टीम की असल परीक्षा 19 मार्च को बांग्लादेश के खिलाफ विश्व कप क्वार्टर फाइनल से शुरू होगी और आत्मविश्वास से लबरेज प्रतिद्वंद्वी को पछाड़कर धोनी के धुरंधर अपना अश्वमेधी अभियान बरकरार रखने के इरादे से उतरेंगे । भारत ने पिछले एक महीने से शानदार प्रदर्शन करके खुद को आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के साथ खिताब के प्रबल दावेदारों में शुमार कर लिया है ।

ICC वर्ल्ड कप का दूसरा क्वार्टर फाइनल: जीत का लय बरकरार रखने उतरेंगे धोनी के धुरंधर

मेलबर्न : लगातार छह मैच जीत चुकी भारतीय क्रिकेट टीम की असल परीक्षा 19 मार्च को बांग्लादेश के खिलाफ विश्व कप क्वार्टर फाइनल से शुरू होगी और आत्मविश्वास से लबरेज प्रतिद्वंद्वी को पछाड़कर धोनी के धुरंधर अपना अश्वमेधी अभियान बरकरार रखने के इरादे से उतरेंगे । भारत ने पिछले एक महीने से शानदार प्रदर्शन करके खुद को आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के साथ खिताब के प्रबल दावेदारों में शुमार कर लिया है ।

टूर्नामेंट का प्रारूप हालांकि ऐसा है कि असल परीक्षा नाकआउट चरण से शुरू होगी यानी तीन जीत से टीम विश्व कप चैम्पियन बन सकती है । भारत के लिये अच्छी बात यह है कि पहले मैच में पाकिस्तान को हराने के बाद उसने लय कायम रखी है । दक्षिण अफ्रीका , संयुक्त अरब अमीरात, वेस्टइंडीज , आयरलैंड और जिम्बाब्वे को हराकर भारत ने अंतिम आठ में जगह बनाई । भारत का प्रदर्शन छह मैचों में इतना जबर्दस्त रहा है कि बांग्लादेश के लिये एमसीजी पर जीतने का कोई मौका नहीं दिखता लेकिन फिर क्रिकेट अनिश्चितताओं का खेल है । बांग्लादेश ने इंग्लैंड को टूर्नामेंट से बाहर करके अपना जुझारूपन दिखाया है ।

बांग्लादेशी टीम ने ही 2007 में राहुल द्रविड़ की कप्तानी वाली भारतीय टीम को टूर्नामेंट से बाहर किया था । मौजूदा टीम में सिर्फ कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ही उस टीम का हिस्सा थे । खेल के हर विभाग में बांग्लादेशी टीम भारत के आगे उन्नीस ही है । ऐसे में उसे उम्मीद करनी होगी कि भारतीय खिलाड़ी गलतियां करे जिसका वह फायदा उठा सके ।

बल्लेबाजी की तुलना करे तो भारत के शीर्ष छह बल्लेबाज दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीम का सामना करने में सक्षम है जबकि बांग्लादेशी बल्लेबाज लगातार अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाते । रोहित शर्मा और अजिंक्य रहाणे अभी तक अच्छी पारी नहीं खेल सके हैं लेकिन वे भी विराट कोहली या सुरेश रैना से कम खतरनाक नहीं हैं । शिखर धवन अभी तक 337 रन बना चुके हैं और फार्म में होने पर किसी भी आक्रमण की धज्जियां उड़ा सकते हैं ।

कोहली ने अभी तक 301 रन बनाये हैं लेकिन पाकिस्तान के खिलाफ पहले मैच में शतक के बाद वह अच्छी शुरूआत को बड़ी पारियों में नहीं बदल सके । वहीं रैना ने जिम्बाब्वे के खिलाफ शतक जमाकर खोया आत्मविश्वास हासिल किया। कोहली ने वेस्टइंडीज और जिम्बाब्वे के खिलाफ दबाव के हालात में दो उम्दा पारियां खेली । ऐसे में तुलना की जाये तो तामिम इकबाल, इमरूल कायेस, अनामुल हक बेहतरीन बल्लेबाज होते हुए भी भारतीयों के सामने नहीं टिकते ।

फार्म में चल रहे महमूदुल्लाह ( 344 रन ) भारतीय गेंदबाजों के लिये परेशानी का सबब बन सकते हैं जिन्होंने इंग्लैंड और न्यूजीलैंड के खिलाफ शतक जमाये हैं । मुशफिकर रहीम और शाकिब अल हसन भी आक्रामक पारियां खेल सकते हैं । भारतीय गेंदबाजों का प्रदर्शन अभी तक बेहतरीन रहा है । मोहम्मद शमी ने 15 विकेट लिये हैं और उनसे फिर अच्छे आगाज की उम्मीद होगी । उमेश यादव ने लगातार अच्छा प्रदर्शन किया है और दस विकेट भी चटकाये हैं । आर अश्विन न्यूजीलैंड के खिलाफ महंगे साबित हुए लेकिन अभी तक छह मैचों में बारह विकेट ले चुके हैं ।

भारत के लिये कमजोर कड़ी रविंद्र जडेजा का प्रदर्शन रहा है । इसी मामले में बांग्लादेश का पलड़ा भारी है जिसके हरफनमौला शाकिब निश्चित तौर पर जडेजा से बेहतर हैं । बांग्लादेश की असल समस्या उसकी गेंदबाजी है । मशरेफ और रूबेल हुसैन लगातार अच्छा प्रदर्शन करने में नाकाम रहे हैं । कोई भी बांग्लादेशी गेंदबाज अभी तक दोहरे अंकों में विकेट नहीं ले सका है । तस्कीन अहमद के पास अनुभव नहीं है और वह महंगे साबित होते हैं ।

टीमें : भारत : महेंद्र सिंह धोनी : कप्तान :, रोहित शर्मा, शिखर धवन, विराट कोहली, अजिंक्य रहाणे, सुरेश रैना, आर अश्विन, रविंद्र जडेजा, उमेश यादव, मोहित शर्मा, मोहम्मद शमी, भुवनेश्वर कुमार , स्टुअर्ट बिन्नी, अंबाती रायुडू, अक्षर पटेल ।

बांग्लादेश : मशरेफ मुर्तजा : कप्तान :, अनामुल हक, अराफात सनी, इमरूल कायेस, महमूदुल्लाह, मोमिनुल हक, मुशफिकर रहीम, नासिर हुसैन, रूबेल हुसैन, शब्बीर रहमान, शाकिब अल हसन, सौम्या सरकार, ताजिउल इस्लाम, तामिम इकबाल, तस्कीन अहमद । मैच का समय : सुबह नौ बजे से ।