T20 दूसरा इंटरनेशनल मैच: आज जिम्बाब्वे के खिलाफ वापसी के इरादे से उतरेगा भारत

शुरूआती मैच में शिकस्त का सामना करने वाली भारतीय टीम के युवा खिलाड़ियों को जिम्बाब्वे खिलाफ तीन मैचों की सीरीज में बने रहने के लिये होने वाले दूसरे ट्वेंटी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में अपने खेल में सुधार करना होगा।भारतीय टीम जब से दौरे पर है, तब से पहली बार उनके खेल की परीक्षा हुई और वे महत्वपूर्ण मौके पर लड़खड़ा गये। इस कारण उन्हें उम्मीद के विपरीत हार का मुंह देखना पड़ा।

T20 दूसरा इंटरनेशनल मैच: आज जिम्बाब्वे के खिलाफ वापसी के इरादे से उतरेगा भारत

हरारे: शुरूआती मैच में शिकस्त का सामना करने वाली भारतीय टीम के युवा खिलाड़ियों को जिम्बाब्वे खिलाफ तीन मैचों की सीरीज में बने रहने के लिये होने वाले दूसरे ट्वेंटी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में अपने खेल में सुधार करना होगा।भारतीय टीम जब से दौरे पर है, तब से पहली बार उनके खेल की परीक्षा हुई और वे महत्वपूर्ण मौके पर लड़खड़ा गये। इस कारण उन्हें उम्मीद के विपरीत हार का मुंह देखना पड़ा।

कप्तान महेंद्र सिंह धोनी अंतिम ओवर में टीम को जीत नहीं दिला सके लेकिन इसके लिये वो बल्लेबाज भी दोषी रहे जो अच्छी शुरूआत करने के बाद अहम मौके पर आउट हो गये।मनीष पांडे ने तेजी से 48 रन बनाये, पदार्पण कर रहे मंदीप सिंह भी टीम के लिये अंत तक खेलकर जीत दिलाना पसंद करते लेकिन वह आउट हो गये।

धोनी दूसरे छोर पर थे और भारत को अंतिम ओवर में आठ रन की जरूरत थी, अक्षर पटेल लूज शाट पर आउट हो गये जिससे मेहमान टीम के लिये मुश्किल खड़ी हो गयी।टीम की बेंच स्ट्रेथ आजमाने के लिये दूसरे दर्जे की टीम चुनी गयी और युवाओं के पास शुरू में तीन वनडे की सीरीज में शानदार जीत के बाद अच्छा प्रदर्शन करने का यह आदर्श मंच था। लेकिन सीरीज में पहली बार चुनौती मिलने पर वे दबाव में आ गये।

बल्लेबाजों ने जहां वो संयम नहीं दिखाया जिसकी जरूरत थी तो गेंदबाजों ने भी निराश किया जिन्हें दौरे में पहली बार मौका दिया गया था। इसका श्रेय जिम्बाब्वे को जाना चाहिए जिन्होंने वनडे सीरीज में करारी हार के बाद वापसी की, लेकिन भारतीय गेंदबाजों की गलतियों की वजह से उन्होंने 170 रन का स्कोर खड़ा किया।

आल राउंडर रिषि धवन आस्ट्रेलियाई दौरे के बाद पहली बार भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं, उन्होंने अपना टी20 अंतरराष्ट्रीय आगाज करते हुए सामान्य प्रदर्शन किया और चार ओवरों में 42 रन लुटा दिये।तेज गेंदबाज जयदेव उनादकट :43 रन देकर कोई विकेट नहीं: पर भी दबाव था, जो करीब तीन साल बाद भारतीय टीम में खेल रहे हैं। प्रारूप में अपना आगाज करने के बाद उनादकट की लाइन एवं लेंथ निरंतर नहीं रही जिसका उन्हें खामियाजा भुगतना पड़ा।

यह देखना होगा कि उन्हें एक और मैच मिलता है या नही, या फिर धवन को अंतिम एकादश से बाहर करके बरिंदर सरन और धवल कुलकर्णी नयी गेंद से गेंदबाजी के लिये उतरते हैं या नहीं। लेग स्पिनर युजवेंद्र चाहल ने वनडे में प्रभावित किया था, उनका भी प्रदर्शन साधारण रहा जिससे वह भी कल वापसी करना चाहेंगे।इस मैच से पहले धोनी ने अपने खिलाड़ियों को बचे हुए मुकाबलों में यही गलतियां नहीं दोहराने के लिये चेता दिया है।

टीम इस प्रकार है : भारत : महेंद्र सिंह धोनी :कप्तान:, केएल राहुल, फैज फजल, मनीष पांडे, करूण नायर, अम्बाती रायुडू, रिषि धवन, अक्षर पटेल, जयंत यादव, धवल कुलकर्णी, जसप्रीत बुमरा, बरिंदर सरन, मंदीप सिंह, केदार जाधव, जयदेव उनादकट और युजवेंद्र चाहल।

जिम्बाब्वे : ग्रीम क्रेमर :कप्तान:, वी सिबांडा, सिकंदर रजा, एल्टन चिगुम्बुरा, हैमिल्टन मासकाद्जा, वेलिंगटन मास्काद्जा, टेंडाई चतारा, चामू चिभाभा, डोनल्ड तिरिपानो, मैल्कम वालर, पीटर मूर, तापिवा मुफुद्जा, टिनोटेंडा मुतोम्बोद्जी, रिचमंड मुतुम्बामी :विकेटकीपर:, तौराई मुजारबानी, ब्रायन चारी, नेविल मादजिवा, तिमीसेन मारूमा।

मैच भारतीय समयानुसार शाम साढ़े चार बजे शुरू होगा।