इंडिया ओपन: प्रणव और सिक्की हारे, युगल में भारतीय चुनौती समाप्त

मथियास और क्रिस्टीना की डेनमार्क की पांचवीं वरीय जोड़ी ने अंतिम चार के मुकाबले में भारतीय जोड़ी को 45 मिनट में 21-16 21-19 से हराया.

इंडिया ओपन: प्रणव और सिक्की हारे, युगल में भारतीय चुनौती समाप्त
प्रणव जैरी चोपड़ा और एन सिक्की रेड्डी को डेनमार्क की जोड़ी के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: प्रणव जैरी चोपड़ा और एन सिक्की रेड्डी की भारत की आठवीं वरीय मिश्रित युगल जोड़ी को शनिवार (3 फरवरी) को यहां इंडिया ओपन 2018 के सेमीफाइनल मथियास क्रिस्टियनसन और क्रिस्टीना पैडरसन की डेनमार्क की जोड़ी के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा जिससे युगल स्पर्धाओं में मेजबान देश की चुनौती समाप्त हो गई. मथियास और क्रिस्टीना की डेनमार्क की पांचवीं वरीय जोड़ी ने अंतिम चार के मुकाबले में भारतीय जोड़ी को 45 मिनट में 21-16 21-19 से हराया. प्रणव और सिक्की के पास मथियास और क्रिस्टीना की तेजी का कोई जवाब नहीं था. डेनमार्क की जोड़ी ने सिक्की को निशाना बनाया और इसमें सफलता भी हासिल की. पांचवीं वरीय जोड़ी ने स्मैश और ड्राप शाट का शानदार इस्तेमाल किया.

डेनमार्क की जोड़ी ने अच्छी शुरुआत करते हुए 4-3 के स्कोर पर लगातार चार अंक के साथ बढ़त बनाई. प्रणव और सिक्की ने स्कोर 7-9 किया, लेकिन ब्रेक तक डेनमार्क की जोड़ी 11-8 से आगे थी. प्रणव और सिक्की ने ब्रेक के बाद वापसी करते हुए स्कोर 12-12 किया. ब्रेक से पहले कमजोर कड़ी रही सिक्की ने बाद में बेहतर खेल दिखाया. बीच में हालांकि भारतीय जोड़ी के बीच सामंजस्य की कमी भी दिखी.

मथियास और क्रिस्टीना ने 15-15 के स्कोर पर लगातार चार अंक के साथ स्कोर 19-16 किया. इस दौरान दोनों ने एक-एक दमदार स्मैश भी लगाया. मथियास ने शानदार ड्राप शाट के साथ चार गेम प्वाइंट हासिल किए और फिर प्रणव के नेट पर शाट उलझाने के साथ 18 मिनट में पहला गेम जीत लिया.

दूसरे गेम में प्रत्येक अंक के लिए कड़ी मशक्कत देखने को मिली. शुरूआत में मथियास ने काफी गलतियां की जिसका फायदा उठाकर प्रणव और जैरी ने डेनमार्क की जोड़ी को बड़ी बढ़त नहीं बनाने दी. ब्रेक तक डेनमार्क की जोड़ी 11-8 से आगे थी. भारतीय जोड़ी ने पिछड़ने के बाद वापसी करते हुए स्कोर 13-13, 15-15 और फिर 17-17 किया. 

प्रणव ने गलत सर्विस करके मथियास और क्रिस्टीना को 19-18 की बढ़त दी और फिर नेट पर शाट मारकर विरोधी जोड़ी को दो मैच प्वाइंट दिए. भारत ने चौथे बार सही समय पर चैलेंज लेकर पहला मैच प्वाइंट बचाया लेकिन प्रणव इसके बाद मथियास के शाट को बाहर मार बैठे और डेनमार्क की जोड़ी ने फाइनल में जगह बनाई.

फाइनल में विजेता जोड़ी का सामना ही जिटिंग और ड्यू युई की चीन की छठी वरीय तथा प्रवीण जोर्डन और मियाती देइवा ओकतावियांती की इंडोनेशिया की गैरवरीय जोड़ी के बीच होने वाले मैच के विजेता से होगा.