close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जानिए, जडडू की यह पारी इतनी खास क्‍यों है....

रविंद्र जडेजा अपने करियर में भरपूर मौके, क्षमता के बाद भी अब तक 'बल्‍ले' से  निराश करते आए हैं. यह शिकायत उनके प्रशंसकों से लेकर कोच और सुनील गावस्‍कर-कपिल देव जैसे दिग्‍गजों तक को है. इस सीजन में गेंदबाजी में अपना भरपूर जलवा दिखाने के बाद जडेजा ने सोमवार के दिन को बल्लेबाजी की शिकायत को दूर करने के लिए चुना. उनकी यह पारी मैच पलट सकती है. धर्मशाला टेस्‍ट में रविवार को टीम मुश्किलों से घिरी थी, लेकिन सोमवार सुबह जडेजा ने उसे अपने अनूठे आक्रामक अंदाज में काफी हद तक परेशानी से निकाल लिया.

जानिए, जडडू की यह पारी इतनी खास क्‍यों है....
रविंद्र जडेजा की शानदार बल्‍लेबाजी कर देगी आलोचकों का मुंह बंद (PIC : BCCI)

नई दिल्ली : रविंद्र जडेजा अपने करियर में भरपूर मौके, क्षमता के बाद भी अब तक 'बल्‍ले' से  निराश करते आए हैं. यह शिकायत उनके प्रशंसकों से लेकर कोच और सुनील गावस्‍कर-कपिल देव जैसे दिग्‍गजों तक को है. इस सीजन में गेंदबाजी में अपना भरपूर जलवा दिखाने के बाद जडेजा ने सोमवार के दिन को बल्लेबाजी की शिकायत को दूर करने के लिए चुना. उनकी यह पारी मैच पलट सकती है. धर्मशाला टेस्‍ट में रविवार को टीम मुश्किलों से घिरी थी, लेकिन सोमवार सुबह जडेजा ने उसे अपने अनूठे आक्रामक अंदाज में काफी हद तक परेशानी से निकाल लिया.

अश्विन को पछाड़ जडेजा बने नंबर 'वन', कोहली से आगे निकले पुजारा

जडेजा ने पहली पारी में ऐसे वक्‍त पर 63 रन की पारी खेली, जब टीम को इसकी सबसे ज्‍यादा जरूरत थी. उनकी इस पारी को अब तक की सर्वश्रेष्‍ठ पारी माना जा सकता है. दरअसल, इस पारी ने टीम इंडिया को ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ पहली पारी के आधार पर बढ़त दिलाने में अहम योगदान दिया. यहां सबसे खास बात है कि यह पारी तेज गेंदबाजों (कुछ हद तक स्पिनरों के लिए भी) के मददगार विकेट पर खेली गई. गौरतलब है कि जडेजा घरेलू क्रिकेट में 3 तिहरे शतक बना चुके हैं, लेकिन इंटरनेशनल क्रिकेट में अभी तक एक भी शतक उनके नाम नहीं है. टेस्‍ट में सात (धर्मशाला की पारी को मिलाकर) और वनडे में 10 अर्धशतक जरूर उनके नाम पर दर्ज है, जो उनकी प्रतिभा के साथ न्‍याय नहीं करते.  

दुनिया की नजरें थी अश्विन पर, चुपके से टेस्ट में बेस्ट बन गया टीम इंडिया का ये बॉलर

इस पारी में जडेजा ने धैर्य और आक्रामक क्षमता, दोनों का प्रदर्शन किया. अपनी 63 रनों की पारी के दौरान जड्डू ने 95 गेंदों का सामना किया और चार चौके तथा इतने ही छक्‍के लगाए. इस दौरान स्पिन और तेज गेंदबाजों के खिलाफ बल्‍ले का मुंह खोलने से भी वे नहीं चूके. जबकि इस दौरान जोश हेजलवुड और पैट कमिंस बेहद सधी गेंदबाजी कर रहे थे. 

मैच के दूसरे दिन की समाप्ति पर टीम इंडिया का स्‍कोर 6 विकेट पर 248 रन था और ऐसा लग रहा था कि ऑस्‍ट्रेलिया के 300 रन के पहले ही कहीं टीम इंडिया की पहली पारी समाप्‍त न हो जाए. इस आशंका के पीछे वजह भी थी. हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला का विकेट शुरुआत घंटे में तेज गेंदबाजों की मदद करता है. 

ऐसा माना जा रहा था कि हेजलवुड और कमिंस की जोड़ी पहले घंटे में ही टीम इंडिया पर भारी पड़ सकती है लेकिन साहा और जडेजा की जोड़ी ने ऐसा नहीं होने दिया. इन्‍होंने पहले घंटे में ऑस्‍ट्रेलियाई गेंदबाजों को कोई विकेट नहीं लेने दिया और टीम को बढ़त पर पहुंचा दिया. भले ही यह बढ़़त 32 रन की हो और देखने में जरा अहम न लगे लेकिन यह बढ़त ऑस्‍ट्रेलिया पर 'मनोवैज्ञानिक जीत' मानी जा सकती है. जिस तरह से पिच पर गेंदबाजों को मदद मिल रही है, जडेजा से इसी तरह के प्रदर्शन की उम्‍मीद दूसरी पारी में भी होगी. आशा है हमें इस मैच में एक ऐसा परिपक्‍व क्रिकेटर मिलेगा, जिसकी कोहली एंड कंपनी को सबसे अधिक जरूरत है. 

एक सीजन में 500+ रन और 50+ विकेट लेने में जडेजा बने नंबर 1

1. रविंद्र जडेजा (556 रन , 68 विकेट), 2016-17 
2. कपिल देव (535 रन, 63 विकेट), 1979-80
3. मिचेल जॉनसेन (527 रन, 60 विकेट), 2008-09

इस सीजन के सिक्सर किंग बने जडेजा

रविंद्र जडेजा (21)
मिशले स्टार्क (16)
मुरली विजय (10)
क्विंटन डि कॉक, मेंडिस, स्टोक्स (8)

जडेजा 1000 रन और 100 विकेट 'डबल' पूरा करने वाले 10वें भारतीय

जडेजा ने चौथे टेस्ट मैच की पहली पारी में अपनी नाबाद 16 रन की पारी के दौरान 1000 टेस्ट रन और 100 विकेट का ‘डबल’ पूरा किया. वह यह उपलब्धि हासिल करने वाले दसवें भारतीय क्रिकेटर हैं. अपना 30वां टेस्ट मैच खेल रहे सौराष्ट्र के इस ऑलराउंडर के नाम पर अब 1004 टेस्ट रन और 139 विकेट दर्ज हैं. वह वनडे (1888 रन और 151 विकेट) में इस तरह का डबल पहले ही पूरा कर चुके थे. भारत की तरफ से टेस्ट क्रिकेट में 1000 रन और 100 विकेट का डबल पूरा करने वाले खिलाड़ियों की सूची इस प्रकार है.

1. वीनू मांकड़ (2109 रन, 162 विकेट) 
2. कपिल देव (5248 रन, 434 विकेट) 
3. रवि शास्त्री (3830 रन, 151 विकेट) 
4. अनिल कुंबले (2506 रन, 619 विकेट) 
5. जवागल श्रीनाथ (1009 रन, 236 विकेट) 
6. हरभजन सिंह (2224 रन, 417 विकेट) 
7. इरफान पठान (1105 रन, 100 विकेट) 
8. जहीर खान (1231 रन, 311 विकेट) 
9. रविचंद्रन अश्विन (1903 रन, 272 विकेट)
10. रविंद्र जडेजा (1004 रन, 139 विकेट)