राष्ट्रमंडल खेल-2026 की मेजबानी नहीं करेगा भारत, बहिष्कार पर हो सकती है बात

भारतीय ओलंपकि संघ के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा का कहना है कि भारत में राष्ट्रमंडल खेल-2026 की मेजबानी का सवाल ही पैदा नहीं होता.

राष्ट्रमंडल खेल-2026 की मेजबानी नहीं करेगा भारत, बहिष्कार पर हो सकती है बात
नरेंद्र बतरा का कहना है कि पहले बहिष्कार के मुद्दे पर कार्यकारी समिति की बैठक में चर्चा की जाएगी (फोटो: IANS)

नई दिल्ली: भारत 2026 में होने वाले  राष्ट्रमंडल खेलों (Commonwealth Games 2026) की मेजबानी नहीं करेगा यह तय हो गया है. भारतीय ओलम्पिक संघ (IOA) के अध्यक्ष नरिंदर बत्रा (Narender Batra) का कहना है कि 23 नवंबर को होने वाली कार्यकारी समिति की बैठक में 2026 राष्ट्रमंडल खेलों (Commonwealth Games 2026) की मेजबानी के मुद्दे पर चर्चा करने का सवाल ही पैदा नहीं होता.

पहले संभावना जताई गई थी इस बात की
आईओए के महासचिव राजीव मेहता ( Rajeev Mehta ) ने गुरुवार को कहा था कि आईओए के शीर्ष अधिकारियों और राष्ट्रमंडल खेलों के महासंघ के बीच हुई बैठक के बाद भारत 2026 में इन खेलों की मेजबानी करने में रुचि दिखा सकता है. लेकिन राजीव के बयान से बत्रा ने साफ तौर पर असहमति जताई और कहा कि ऐसी कोई संभावना नहीं है. वहीं महासंघ नई दिल्ली में आईओए के शीर्ष अधिकारियों से इसलिए मिली थी ताकि उसे 2022 में होने वाले राष्ट्रमंडल खेलों का बहिष्कार करने से रोक सके.

यह भी पढ़ें: B'day Special:घर गिरवी रखकर खोली थी एकेडमी, साइना से सिंधु तक भारत को दिए कई स्टार

बहिष्कार पर हो सकती है चर्चा, लेकिन मेजबानी नहीं होगी
बत्रा ने शुक्रवार को  कहा, "खेलों के बहिष्कार करने के मुद्दे पर अभी भी चर्चा की जाएगी, लेकिन खेलों की मेजबानी का सवाल ही पैदा नहीं होता. मेजबानी के मुद्दे पर बैठक में अचानक से चर्चा हुई, लेकिन यह हमारे एजेंडे में पहले शामिल नहीं था." बत्रा ने कहा, "बहिष्कार के मुद्दे पर कार्यकारी समिति की बैठक में चर्चा की जाएगी और फिर हम 2026 के बारे में बात करेंगे."

निशानेबाजी का हटना है बहिष्कार की वजह
बर्मिघम में होने वाले 2022 राष्ट्रमंडल खेलों में से निशानेबाजी को हटाने का निर्णय लिया गया था जिसके बाद आईओए ने कहा कि अगर ऐसा हुआ तो भारत आगामी खेलों में हिस्सा नहीं लेगा. खेलों में निशानेबाजी की विभिन्न स्पर्धाओं में भारत शानदार प्रदर्शन करती है.
(इनपुट आईएएनएस)