close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भारतीय टीम सही दिशा में आगे बढ़ रही है: गुरप्रीत सिंह

गुरप्रीत ने इसे सराहनीय कदम बताया है और कहा है कि टीम इसका आनंद लेना चाहती है.

भारतीय टीम सही दिशा में आगे बढ़ रही है: गुरप्रीत सिंह
गुरप्रीत ने इसे सराहनीय कदम बताया है और कहा है कि टीम इसका आनंद लेना चाहती है.

अहमदाबाद: यूरोपा लीग में खेलने वाले एकमात्र भारतीय गोलकीपर गुरप्रीत सिंह संधू ने कहा है कि भारतीय टीम सही दिशा में आगे बढ़ रही है. गुरप्रीत एएफसी एशियन कप में थाईलैंड के खिलाफ मिली 4-1 की जीत में टीम के कप्तान थे. उन्होंने गुरुवार को यहां मीडिया से बातचीत में कहा, "हमने काफी सुधार किया है, खासकर पिछले पांच वर्षो में. मैंने खुद युवा प्रतिभाशाली खिलाड़ियों को देखा है, जो कि हमारे पास है. अंडर-16 और अंडर-15 वर्ग के युवा खिलाड़ियों के पास काफी अच्छी तकनीकी क्षमता और फुटबॉल के प्रति अच्छी समझ है."

नए कोच इगोर स्टिमाक के आने के बाद पिछले तीन मैचों में अब तक नौ खिलाड़ी अपना अंतर्राष्ट्रीय पदार्पण कर चुके हैं. गुरप्रीत ने कहा कि नए चेहरों का टीम में आना काफी महत्वपूर्ण है.

गुरप्रीत ने कहा, "टीम में नए चेहरों का होना काफी महत्वपूर्ण है. मुझे लगता है कि ये युवा खिलाड़ी काफी प्रतिभा सम्पन्न हैं. वे सभी तकनीकी रूप से काफी मजबूत हैं और इनके पास एक गजब का उत्साह है जो ये जानते हैं कि गेंद के साथ कैसे खेली जाती है. यह वाकई ही बहुत अच्छी टीम है और मुझे उम्मीद है कि ये आगे आने वाले समय में टीम का नेतृत्व करते नजर आएंगे."

कोच स्टिमाक के मार्गदर्शन में भारतीय टीम ने अब तक एक मुकाबला जीता है. गुरप्रीत का मानना है कि यह समय भारतीय टीम में बदलाव का समय है. उन्होंने कहा, "यह बदलाव का दौर है. हमारे पास नए कोच, नई टीम और नए खिलाड़ी हैं. टीम के लिए यह एक महत्वपूर्ण समय है, यह जानने का कि हमें उनसे किस चीज की जरूरत है."

भारतीय टीम को अब अहमदाबाद में हीरो इंटरकॉन्टिनेंटल में खेलना है, जहां भारतीय सीनियर टीम पहली बार कोई मैच खेल रही है. इसमें भारत और तजाकिस्तान के अलावा सीरिया और उत्तर कोरिया की टीमें भी हिस्सा ले रही हैं.

गुरप्रीत ने इसे सराहनीय कदम बताया है और कहा है कि टीम इसका आनंद लेना चाहती है.

गोलकीपर ने कहा, "भारत एक बहुत बड़ा देश है और यहां कनेक्टिवीटी होना बहुत जरूरी है. अगर आप किसी एक निश्वित जगह पर नहीं जाते हैं तो आपको पता नहीं चलेगा कि लोग इस खेल को पसंद करते हैं या नहीं. हम चाहते हैं कि लोग स्टेडियमों में आएं और इसका समर्थन करें. फेडरेशन द्वारा लिया गया यह एक सराहनीय कदम हैं."