close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

भारतीय महिला हॉकी टीम के बाद पुरुष टीम ने भी किया टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई

भारतीय महिला हॉकी टीम के बाद पुरुष टीम ने भी टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई कर लिया है. 

भारतीय महिला हॉकी टीम के बाद पुरुष टीम ने भी किया टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालिफाई
रूस की टीम दोनों चरणों में भारत के सामने पानी मांगती नजर आई.

भुवनेश्वर:भारतीय महिला हॉकी टीम (Indian Women Hockey team) के बाद पुरुष टीम ने भी टोक्यो ओलंपिक (Tokyo Olympics 2020) के लिए क्वालिफाई कर लिया है. पुरुष हॉकी टीम (Indian men Hockey team) ने कलिंगा स्टेडियम में खेले गए दो चरण के ओलंपिक क्वालीफायर में एकतरफा प्रदर्शन करते हुए रूस को 11-3 के एग्रीगेट स्कोर से हराकर अगले साल होने वाले टोक्यो में होने वाले ओलंपिक खेलों का टिकट पक्का कर लिया है. रूस की टीम दोनों चरणों में भारत के सामने पानी मांगती नजर आई. 

शनिवार को खेले गए दूसरे चरण के मैच में तो भारत ने गोलों की एक तरह से बरसात कर दी और 7-1 से जीत हासिल की. वहीं शुक्रवार को खेले गए पहले चरण के मैच में भी भारत ने रूस को 4-2 से पटका था. रूस ने शनिवार को जिस तरह की शुरुआत की उसने भारत को परेशानी में डाल दिया. मेजबान टीम ने हालांकि सब्र रखा और धीरे-धीरे मैच में से रूस को बाहर करती चली गई.

मैच शुरू होते ही भारत के चेहरे पर उदासी छा गई क्योंकि 30 सेकेंड का ही मैच हुआ था और एलेक्सी सोबोलेव्स्कली ने शानदार फील्ड गोल कर रूस को 1-0 से आगे कर दिया. आठवें मिननट में भारत को पेनाल्टी कॉर्नर मिला जिस पर रमनदीप सिंह गोल करने में विफल रहे. यहां से भारत ने लय हासिल कर ली थी जिसका फायदा उसे दूसरे क्वार्टर में मिला. 17वें मिनट में अपना 100वां अंतर्राष्ट्रीय मैच खेल रहे ललित उपाध्याय ने भारत के लिए पहला गोल किया. भारत को पेनाल्टी कॉर्नर मिला और हार्दिक सिंह के पास को ललित ने अपनी हॉकी स्टीक से नेट में पहुंचा दिया.

LIVE टीवी: 

रूस की मुसीबत यहां से बढ़ गई क्योंकि 23वें मिनट में भारत को एक और पेनाल्टी कॉर्नर मिला जिसे आकाशदीप ने गोल में बदल भारत को मैच में 2-1 से आगे कर दिया. दूसरे क्वार्टर का अंत समीप था. जाते-जाते आकाशदीप ने एक और गोल कर भारत की बढ़त को 3-1 कर ओलंपिक के दरवाजे के और करीब पहुंचा दिया. रूस काफी पीछे थी लेकिन उसके पास अभी दो क्वार्टर बाकी थे. तीसरे क्वार्टर में उसने कोशिशें की जो विफल रही. वहीं भारत ने भी रूस के घेरे से कदम वापस नहीं लिए और लगातार आक्रमण करती रही. तीसरे क्वार्टर में हालांकि कोई भी गोल नहीं हो सका.

चौथे क्वार्टर में भारत ने चार गोल और अपने खाते में डाले. 47वें मिनट में नीलकांत शर्मा ने गेंद को नेट के कोने में डाला तो वहीं 49वें मिनट में मिले पेनाल्टी कॉर्नर पर रूपिंदर पास सिंह ने गोल कर भारत को 5-1 से आगे कर दिया. भारत के सर्वश्रेष्ठ ड्रैग फ्लीकरों में शुमार रूपिंदर यहीं नहीं रुके. उन्होंने 58वें मिनट एक और पेनाल्टी कॉर्नर को गोल में बदल दिया. 60वें मिनट में अमित रोहिदास ने पेनाल्टी कॉर्नर पर एक और गोल कर भारत को मजबूत स्कोर के साथ ओलंपिक में पहुंचाया.