भारत की टेबल टेनिस टीम एशियाई चैम्पियनशिप के लिए रवाना

अचंत शरत कमल की अगुआई में पांच पुरूष और इतनी ही महिला खिलाड़ियों की मौजूदगी वाली भारत की 10 सदस्यीय टीम थाईलैंड के पटाया में 26 सितंबर से तीन अक्तूबर तक होने वाली एशियाई टेबल टेनिस चैम्पियनशिप के लिए आज रवाना हो गई।

नई दिल्ली : अचंत शरत कमल की अगुआई में पांच पुरूष और इतनी ही महिला खिलाड़ियों की मौजूदगी वाली भारत की 10 सदस्यीय टीम थाईलैंड के पटाया में 26 सितंबर से तीन अक्तूबर तक होने वाली एशियाई टेबल टेनिस चैम्पियनशिप के लिए आज रवाना हो गई।

शरत के अलावा भारतीय पुरूष टीम में राष्ट्रीय चैम्पियन सौम्यजीत घोष, हरमीत देसाई, सानिल शेट्टी और जी साथियान को शामिल किया गया है। महिला टीम में मौमा दास, अंकिता दास, पूजा सहस्रबुद्धे, के शामिनी और मनिका बत्रा को जगह मिली है। टीम के साथ कोच भवानी मुखर्जी और अरूप बसाक गए हैं।

टूर्नामेंट के लिए रवाना होने से पहले भारतीय टीम के सभी सदस्यों ने पटियाला में 21 दिन के शिविर में हिस्सा लिया और इस सबसे महत्वपूर्ण महाद्वीपीय चैम्पियनशिप के लिए तैयार की। इस टूर्नामेंट को अंतरराष्ट्रीय टेबल टेनिस महासंघ (आईटीटीएफ) ने पहली बार विश्व चैम्पियनशिप के लिए पूर्व क्वालीफिकेशन टूर्नामेंट का दर्जा दिया है। विश्व चैम्पियन मलेशिया में फरवरी 2016 में होगी।

थाईलैंड रवाना होने से पहले शरत ने कहा, ‘इस साल की शुरूआत में चीन में विश्व चैम्पियनशिप के दौरान चोटिल होने के बाद से यह मेरा पहला प्रतिस्पर्धी टूर्नामेंट होगा। मैं बेहद कड़े अभ्यास की जगह शारीरिक अभ्यास कर रहा था। शिविर में मुझे लय अच्छी लगी। उम्मीद करता हूं कि मैं अपनी फार्म हासिल कर लूंगा।’ 

शरत दुनिया के 52वें नंबर के खिलाड़ी हैं और भारतीयों में उनकी रैंकिंग सर्वश्रेष्ठ है। वह दुनिया के 27वें नंबर के खिलाड़ी भी रह चुके हैं। कोच और टीम के सदस्य भी टीम के इस सबसे अनुभवी खिलाड़ी की वापसी से खुश हैं। मकाउ में पिछली प्रतियोगिता में भारतीय टीम स्पर्धाओं के क्वार्टर फाइनल में पहुंचने में सफल रहे थे। भारतीय खिलाड़ी टीम और व्यक्तिगत दोनों स्पर्धाओं में चुनौती पेश करेंगे।