IPL 2020: 7वीं हार के बाद खुली धोनी की आंखे, किया आगे की रणनीति का खुलासा

राजस्थान के हाथों चेन्नई को मिली सीजन की सांतवीं हार, पहली बार चेन्नई सुपरकिंग्स का प्लेऑफ में पहुंचना मुश्किल, धोनी ने कहा परिणाम नहीं बल्कि प्रक्रिया पर गौर करना होगा

IPL 2020: 7वीं हार के बाद खुली धोनी की आंखे, किया आगे की रणनीति का खुलासा
एमएस धोनी (फोटो-BCCI/IPL)

अबुधाबी: चेन्नई सुपरकिंग्स (CSK) के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (MS Dhoni) ने इंडियन प्रीमियर लीग (IPL 2020) में लगातार सातवीं हार के बाद कहा कि उनकी टीम को परिणाम नहीं बल्कि प्रक्रिया पर गौर करने की जरूरत है और इसके लिए उसे आगे के मैचों में ठोस कदम उठाने होंगे.

चेन्नई की टीम राजस्थान रॉयल्स (RR) के खिलाफ पहले बल्लेबाजी करने उतरी और पांच विकेट खोकर 125 रन ही बना सकी. जिसके जवाब में रॉयल्स ने ये लक्ष्य तीन विकेट खोकर ही हासिल कर लिया. सीएसके के दस मैचों में केवल छह अंक हैं और उस पर आईपीएल में पहली बार प्लेऑफ में नहीं पहुंच पाने का खतरा मंडरा रहा है.

धोनी ने मैच के बाद कहा, ‘परिणाम हमेशा आपके अनुकूल नहीं होता है. हमें देखना होगा कि क्या प्रक्रिया गलत थी. परिणाम इस प्रक्रिया का नतीजा होता है. यही सच्चाई है कि अगर आप प्रक्रिया पर ध्यान केंद्रित रखते हो तो परिणाम को लेकर बेवजह का दबाव टीम पर नहीं पड़ता है. हम इससे निपटने का प्रयास कर रहे हैं’.

धोनी ने पहले नौ ओवरों में ही दीपक चाहर और जोश हेजलवुड का कोटा पूरा करवा दिया था. उन्होंने कहा कि पहली पारी की तरह स्पिनरों को दूसरी पारी में अधिक मदद नहीं मिल रही थी.

धोनी ने कहा, ‘तेज गेंदबाजों को थोड़ी मदद मिल रही थी. इसलिए मैंने यह देखने के लिए कि गेंद कितना रुककर बल्ले पर आ रही बीच में एक ओवर (रविंद्र) जडेजा को दिया. यह पहली पारी की तरह नहीं था इसलिए मैंने तेज गेंदबाजों से अधिक ओवर करवाए. मुझे नहीं लगता कि स्पिनरों को बहुत मदद मिल रही थी’.

धोनी ने लगातार हार के बावजूद टीम में बहुत अधिक बदलाव नहीं करने के बारे में कहा, ‘आप बहुत अधिक बदलाव नहीं चाहते क्योंकि तीन-चार-पांच मैचों में आप किसी चीज को लेकर सुनिश्चित नहीं होते है. मैं टीम में असुरक्षा का भाव नहीं चाहता हूं.

युवाओं को कम मौके देने के बारे में उन्होंने कहा, ‘यह सही है कि हमने इस बार (युवाओं को) उतने मौके नहीं दिए. ऐसा भी हो सकता है कि हमें अपने युवाओं में जुनून न दिखायी दिया हो. हम आगे उन्हें मौका दे सकते हैं और वे बिना किसी दबाव के खेल सकते हैं’.

(इनपुट-भाषा)