सचिन तेंदुलकर के बाद इस खिलाड़ी ने की मयंक मार्कंडेय की लेग स्पिन की तारीफ

अपने प्रदर्शन से चौंकाने वाले मयंक मार्कंडेय की सचिन तेंदुलकर के बाद वेंकटपति राजू ने भी तारीफ की है. 

सचिन तेंदुलकर के बाद इस खिलाड़ी ने की मयंक मार्कंडेय की लेग स्पिन की तारीफ
मयंक मार्कंडेय ने अपनी प्रतिभा से टीम का ही नहीं भारतीय टीम के दिग्गजों का भी दल जीता है. (फाइल फोटो)

मुंबई : भारत के पूर्व स्पिनर वेंकटपति राजू ने आईपीएल में मुंबई के लिये गेंदबाजी करने वाले मयंक मार्कंडेय की तारीफ करते हुए कहा कि इस गेंदबाज का सबसे मजबूत पक्ष उनका ‘लेग स्पिन गेंदबाजी पर नियंत्रण’ है.  इससे पहले सचिन तेंदुलकर भी मार्कंडेय की तारीफ कर चुके हैं. तेंदुलकर ने पंजाब के इस युवा गेंदबाज की तारीफ की करते हुए कहा, ‘‘लेग स्पिनरों ने बल्लेबाजों को सोचने के लिए मजबूर किया है. मयंक ने भी ऐसा किया है और बल्लेबाजों को उस पर अधिक ध्यान देना पड़ रहा है. यह मयंक की क्षमता की तारीफ है कि वह अपनी गुगली से इतनी अच्छी तरह छकाने में सफल रहा है. यह सराहनीय है.’’ 

 आईपीएल में मुंबई के युवा लेग स्पिनर मयंक मार्कंडेय सत्र की खोज रहे हैं. पंजाब में जन्मे मार्कंडेय ने मुंबई के सभी मैचों में अच्छी गेंदबाजी की थी, उन्होंने पदार्पण करते हुए तीन विकेट हासिल किए थे जिसमें महेंद्र सिंह धोनी का विकेट भी शामिल था. हालांकि इस मैच में मुंबई को चेन्नई से हार का सामना करना पड़ा था. 

राजू ने कहा, ‘‘मार्कंडेय के बारे में सबसे अहम बात यह है कि यह उसका आईपीएल में पहला साल है और पहले ही मैच में मुंबई ने उन्हें अंतिम एकादश में रखा जिससे दिखता है कि उसमें कितनी प्रतिभा है. आपने कई युवाओं को देखा होगा जो टीम में शामिल होते हैं , एक साल रहते हैं और फिर उन्हें खिलाया जाता है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मार्कंडेय, मुजीबुर रहमान (पंजाब) और अन्य को सीधे आते ही खिलाया जा रहा है, इसका मतलब है कि ये खिलाड़ी काफी विशेष हैं.’’ राजू ने हैदराबाद के गेंदबाजी आक्रमण को भी सर्वश्रेष्ठ करार दिया. 

विकेट लेने वाले गेंदबाज होते हैं कलाई के स्पिनर्स
स्टार स्पोर्ट्स के विशेषज्ञ राजू तेलगु में कमेंटरी कर रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘‘रोहित शर्मा उसका अच्छा इस्तेमाल कर रहे हैं और उन्हें विकेट झटकने के लिये चुना गया और वह ऐसा कर भी रहा है. हमारे पास इतनी प्रतिभा मौजूद है और राष्ट्रीय व राज्य स्तर के चयनकर्ताओं के लिये यह मुसीबत होगा और यह शानदार परेशानी होगी.’’  राजू ने कहा, ‘‘इस सत्र में हमने काफी लेग स्पिनर देखे, कलाई के स्पिनर आ रहे हैं. यह अच्छी चीज है. वे कभी कभार ही हिट होंगे लेकिन आप उन्हें नहीं हटा सकते, वे मजबूत वापसी कर रहे हैं. कलाई के स्पिनर विकेट चटकाने वाले गेंदबाज हैं.’’ 

तेंदुलकर ने की कलाई के स्पिनर्स की तारीफ 
गौरतलब है कि इससे पहले ही सचिन तेंदुलकर कलाई के स्पिनर्स के बारे में खुलकर अपने विचार रख चुके हैं. उनका कहना है कि लेग स्पिन गेंदबाजी करने वाला आफ स्पिनर कई भाषा बोलने वाले व्यक्ति की तरह है. सचिन ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि इससे सिर्फ मदद ही होगी. यह इस तरह है कि आपको दो से तीन अलग-अलग भाषाएं आती हैं. अब पांच या छह अलग अलग भाषाएं जानने में कोई समस्या नहीं है. इससे आपको कोई नुकसान नहीं होगा.’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘यह अधिक विविधताएं खोजने की तरह ही है. यह कहना गलत होगा कि वे (अंगुली के स्पिनर) लेग स्पिन गेंदबाजी करके इस श्रृंखला में शामिल हो रहे हैं. नहीं, ऐसा नहीं है. इसकी जगह हमें ऐसे देखना चाहिए कि उन्होंने एक गेंद का विकास करने के लिए प्रयास किया है.’’

आफ स्पिनरों के प्रयास व्यर्थ है इस नजरिये के बारे में पूछने पर तेंदुलकर ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि यह लोगों की गलत सोच है (कि आफ स्पिनर लेग स्पिन नहीं कर सकते). मैं यहां खिलाड़ियों को दोष नहीं दे रहा. मैं यहां लोगों (धारणा) को दोष दे रहा हूं. लेग स्पिन आपके लिए तरकश का एक और तीर हो सकती है.’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘लोग आफ स्पिन गेंदबाजी कर सकते हैं लेकिन अगर आफ स्पिन के साथ वे विविधता के तौर पर लेग स्पिन फेंकने में सक्षम हैं तो फिर क्यों नहीं ऐसा किया जाए.’’ सचिन का मानना है, “अगर कोई सही लेग ब्रेक कर सकता है तो इसे उसका मजबूत पक्ष माना जाना चाहिए. अगर आफ स्पिनर के दूसरा फेंकने को उसका हथियार माना जाता है तो स्थिति की मांग के अनुसार वह लेग ब्रेक करता है तो इसे उसकी कमजोरी नहीं समझना चाहिए. इसकी जगह अगर वह इसे अच्छी तरह करता है तो इसे उसका मजबूत पक्ष समझा जाना चाहिए.’’