IPL 2019: चौथी बार फाइनल में भिड़ रही हैं मुंबई-चेन्नई, इस बार ये हैं खास बातें

आईपीएल के सीजन 12 में रविवार को खिताब बचाने के लिए चेन्नई की टीम मुंबई से भिड़ेंगी. 

IPL 2019: चौथी बार फाइनल में भिड़ रही हैं मुंबई-चेन्नई, इस बार ये हैं खास बातें
(फोटो: PTI)

हैदराबाद: इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 12वें सीजन के फाइनल में  रविवार को  मुंबई और गत विजेता चेन्नई की टीमें आमने-सामने होंगी. इस बार मुंबई की टीम क्वालिफायर वन में चेन्नई को ही हराकर  फाइनल में पहुंची थी और उसे लीग मैच में भी दोनों ही मैच चेन्नई से जीत हासिल की थी. वैसे तो ये टीमें फाइनल में चौथी बार आमने सामने होंगी, लेकिन इस बार कई बातों पिछले मुकाबलों से काफी अलग और दिलचस्प हैं. 

चौथी बार होंगी ये दोनों बातें
दोनों टीमें भले ही चौथी बार फाइनल में आमने-सामने हैं लेकिन इत्तेफाक यह भी है कि यह दोनों अपने चौथे खिताब के लिए लड़ेंगी. इन दोनों टीमों के बीच हुए बीते तीन फाइनल मैचों में से दो में मुंबई को जीत मिली है तो वहीं एक बार चेन्नई जीत हासिल करने में सफल रही है. वहीं एक संयोग ही है कि पिछले सीजन में भी चेन्नई कवालिफायर वन मुकाबला हार कर फाइनल में पहुंची थी. 

इस बार शुरू से ही चेन्नई पर हावी रही मुंबई
चेन्नई को एक ऐसी टीम माना जाता है जो ग्रुप स्टेज में दमदार खेल दिखाती है. वहीं मुंबई को धीमी शुरुआत करने वाली टीम के तौर पर देखा जाता है. मुंबई ने धीमी शुरुआत के बाद वापसी की तो चेन्नई शुरू से अंकतालिका में पहले स्थान पर थी और प्लेऑफ में जाने वाली पहली टीम बन गई थी. मुंबई ने बाद में चेन्नई को पहले स्थान से अपदस्थ कर दिया था. यह भी पहली बार ही होगा कि मुंबई की टीम का पलड़ा चेन्नई पर इतना ज्यादा भारी होगा.  

किसी टीम का घरेलू मैदान नहीं है यह
इस बार एक खास बात यह है कि दोनों टीमों में से कोई भी टीम अपने घर पर नहीं खेल रही है. इस तरह से घरेलू पिच का फायदा किसी भी टीम को नहीं मिलेगा. वहीं दोनों टीमों को इस मैदान पर कोई मैच भी नहीं हुआ है जिससे इस मैदान केे आंकड़े भी किसी टीम के पक्ष में नहीं हैं. 

अब तक मुंबई हावी, लेकिन प्लेऑफ में चेन्नई ने ही वापसी की है
चेन्नई के लिए एक और डर की बात यह है कि इस मैच से पहले दोनों टीमें इसी सीजन में तीन बार आमने-सामने हो चुकी हैं और तीनों बार मुंबई को जीत मिली है. दो बार ग्रुप स्टेज में तो एक बार क्वीलाफायर-1 में मुंबई ने चेन्नई को हराया है. चेन्नई ने हालांकि जिस तरह से क्वालीफायर-2 में दिल्ली कैपिटल्स को मात दी उसे देखकर फाइनल में मुंबई का पलड़ा भारी है यह कहना गलत होगा. चेन्नई के स्पिनरों ने दमदार प्रदर्शन करते हुए दिल्ली को 20 ओवरों में नौ विकेट के नुकसान पर 147 रनों से आगे नहीं जाने दिया. इस लक्ष्य को उसने शेन वाटसन और फाफ डु प्लेसिस द्वारा दी गई पहली शुरुआत के दम पर हासिल कर लिया. 

सारा खेल इस बार भी दबाव का है
अनिश्चितता आईपीएल में निरंतर रही है. यह ऐसा सत्य है जो हर सीजन में देखने को मिला है. ऐसी कोई वजह सामने नहीं आती जिससे लगे कि फाइनल किसी भी तरह से अलग होगा, लेकिन यह अब उस बात पर निर्भर है कि कौन बड़े दिन के दबाव को झेल पाता है. मुंबई भी आठवीं बार फाइनल में पहुंची चेन्नई को हल्के में नहीं ले सकती है क्योंकि चेन्नई के पास वो कप्तान महेंद्र सिंह धोनी है जो बड़े मैचों में टीम को जीत दिलाने के आदी हैं. 

टीमें (संभावित) : 
मुंबई : रोहित शर्मा (कप्तान), हार्दिक पांड्या, युवराज सिंह, क्रुणाल पांड्या, ईशान किशन (विकेटकीपर), सूर्यकुमार यादव, मयंक मारकंडे, राहुल चाहर, अनूकुल रॉय, सिद्धेश लाड, आदित्य तारे, क्विंटन डी कॉक, एविन लुइस, केरन पोलार्ड, बेन कटिंग, मिशेल मैक्लेनघन, एडम मिल्ने, जेसन बेहरेनडॉर्फ, अनमोलप्रीत सिंह, बरिंदर सरन, पंकज जायसवाल, रसिख सलाम, जसप्रीत बुमराह. 

चेन्नई : महेंद्र सिंह धोनी (कप्तान और विकेटकीपर), अंबाती रायडू, शेन वॉटसन, सुरेश रैना, केदार जाधव, रवींद्र जडेजा, ड्वेन ब्रावो, दीपक चहर, शार्दुल ठाकुर, हरभजन सिंह, इमरान ताहिर, मुरली विजय, ध्रुव शौरे, फाफ डु प्लेसिस, ऋतुराज गायकवाड़, मिशेल सैंटनर, डेविड विली, सैम बिलिंग्स, समीर, मोनू कुमार, कर्ण शर्मा, केएम आसिफ, मोहित शर्मा. 

(इनपुट आईएएनएस)