close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चेन्नई में मिली सभी मैचों में जीत, फिर भी इस वजह से नाखुश हैं कप्तान एमएस धोनी

एमएस धोनी चेन्नई में सारे मैच जीत चुके हैं लेकिन इसके बावजूद चेन्नई की पिच से खुश नहीं हैं. 

चेन्नई में मिली सभी मैचों में जीत, फिर भी इस वजह से नाखुश हैं कप्तान एमएस धोनी
धोनी का मानना है कि पिच मेंबल्लेबाजी के लिए काफी मुश्किलें हो रही हैं. (फोटो IANS)

नई दिल्ली: आईपीएल 2019 के सीजन का सबसे अहम मुकाबला चेन्नई और कोलकाता के बीच का मैच माना जा रहा था. दोनों ही टीमें शीर्ष दो टीम थीं और विजेता टीम का टॉप पर आना तय था. यह मुकाबला उतना कांटे का नहीं रहा जिसकी उम्मीद थी. गेंदबाज पूरी मैच में हावी रहे, बल्लेबाज खुल कर बल्लेबाजी नहीं कर सके. यही वजह रही कि मैच लो स्कोरिंग रहा. इस मैच में जीत के बावजूद चेन्नई के कप्तान एमएस धोनी पिच से संतुष्ट नजर नहीं आए.

लो स्कोरिंग मैच हो रहे हैं चेन्नई में
इस सीजन में यह कोई पहली बार नहीं है कि चेन्नई की पिच पर लो स्कोरिंग मैच हुआ है. टूर्नामेंट के पहले मैच में भी पहली पारी का कुल स्कोर 70 रन रहा. धोनी की टीम ने अब तक इस मैदान पर हुए सभी चार मैचों में जीत हासिल की है. वैसे तो कहा जा सकता है कि पिच को पढ़ने का मौका विरोधी टीम को भी मिलता है, इसलिए विरोधी टीम अपनी हार का कोई बहाना नहीं बना सकती, लेकिन धोनी अपनी टीम की घरेलू पिच के मिजाज से खुश नहीं हैं. 

यह भी पढ़ें: धोनी की चतुराई के आगे यूं बेअसर हुए शाहरुख के रणनीतिकार

इस तरह के विकेट पर नहीं खेलना चाहते धोनी
धोनी ने इस मैच में पिच को बिलकुल सही तरीके से पढ़ते हुए बेहतरीन कप्तानी की और अपने गेंदबाजों का सटीक उपयोग करते हुए कोलकाता जैसी मजबूत टीम को केवल 108 रनों पर रोक दिया. धोनी ने कोलकाता के खिलाफ जीत के बाद कहा, ‘‘मुझे नहीं लगता कि हम इस तरह के विकेट पर खेलना चाहते हैं. इस पर बहुत कम स्कोर बन रहा है. इससे हमारे बल्लेबाजों के लिए भी थोड़ी परेशानी हो रही है. ड्वेन ब्रावो के चोटिल होने के कारण हमारे लिए सही संयोजन तैयार करने में थोड़ी परेशानी हो रही है.’’ 

MS Dhoni

यह था पहले चार मैचों का हाल
गौरतलब है कि टूर्नामेंट का पहला ही मैच चेन्नई में धोनी और विराट कोहली की टीम बेंगलुरू के बीच हुआ था. इस मैच में पहले बेंगलुरू ने बल्लेबाजी की थी और पूरी टीम 70 के स्कोर पर सिमट गई थी. चेन्नई की टीम भी 18वें ओवर तक 71 रन बना सकी थी. दूसरे मैच में चेन्नई के 175 रनों के जवाब में राजस्थान की टीम केवल 167 रन ही बना सकी. तीसरे मैच में चेन्नई के 160 के जवाब में पंजाब की टीम 5 विकेट पर 138 रन ही बना सकी. 

यह भी पढ़ें: कोलकाता ने गंवाया मैच, लेकिन रसेल ने जीता दिल, टीम को शर्मनाक स्कोर से बचाया

भज्जी और ताहिर की भी तारीफ की धोनी ने
धोनी ने अपने स्पिनर्स की भी तारीफ की जिन्होंने हालातों का बढ़िया फायदा उठाया. उन्होंने हरभजन सिंह और इमरान ताहिर की खास तौर पर तारीफ की. उन्होंने कहा, ‘‘भज्जी जिस मैच में भी खेले उन्होंने अच्छा प्रदर्शन किया. मैंने ताहिर को आजमाया और उन्होंने अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभाई. उन्हें मुझ पर भरोसा है. वे बहुत अच्छी फ्लिपर करते हैं. वे (ताहिर) ऐसे गेंदबाज हैं अगर उनसे आप कहें कि इस तेजी से गेंद करनी है तो वे हर बार ऐसा करेंगे.’’ 

(इनपुट भाषा से भी)