2008 में चेन्नई के खिलाफ खेलकर बने थे 'मैन ऑफ द सीरीज', 2018 में उसी के लिए बने 'हीरो'

हैदराबाद के गेंदबाजों ने इस सीजन में जिस तरह का प्रदर्शन किया था उसे देखकर लग रहा था कि चेन्नई के लिए यह जीत बेहद मुश्किल होगी, लेकिन वाटसन ने एक छोर पर अकेले खड़े होकर हैदराबाद के गेंदबाजों की जमकर धुनाई की और चेन्नई को 18.3 ओवरों में ही लक्ष्य तक पहुंचा दिया.

2008 में चेन्नई के खिलाफ खेलकर बने थे 'मैन ऑफ द सीरीज', 2018 में उसी के लिए बने 'हीरो'
शेन वॉटसन ने 57 गेंद में 117 रन बनाए. फोटो : IANS

नई दिल्ली : शेन वाटसन के 57 गेंदों में नाबाद 117 रन जड़ते हुए चेन्नई को तीसरी बार इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का विजेता बना दिया. वाटसन की बेहतरीन पारी की बदौलत चेन्नई ने लीग के 11वें सीजन के फाइनल में रविवार को वानखेड़े स्टेडियम में सनराइजर्स हैदराबाद को आठ विकेट से हरा उसके दूसरे खिताब जीतने के सपने को तोड़ दिया. हैदराबाद ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवरों में छह विकेट के नुकसान पर 178 रनों का मजबूत स्कोर बनाया था.

हैदराबाद के गेंदबाजों ने इस सीजन में जिस तरह का प्रदर्शन किया था उसे देखकर लग रहा था कि चेन्नई के लिए यह जीत बेहद मुश्किल होगी, लेकिन वाटसन ने एक छोर पर अकेले खड़े होकर हैदराबाद के गेंदबाजों की जमकर धुनाई की और चेन्नई को 18.3 ओवरों में ही लक्ष्य तक पहुंचा दिया. IPL के अब तक 11 संस्करण हो चुके हैं. इस दौरान शेन वॉटसन का आईपीएल से अनोखा नाता बन गया है. पहले संस्करण में भी शेन वॉटसन आईपीएल का हिस्सा थे.

शेन वॉटसन ने की हैदराबाद के गेंदबाजों की धुनाई तो लोगों ने लिए ऐसे मजे

उस दौरान वह राजस्थान टीम का हिस्सा थे. गौर करने वाली बात ये है कि तब भी उनकी टीम चैंपियन बनी थी. उस पहले संस्करण में शेन वॉटसन मैन ऑफ द सीरीज बने थे. इस 11वें संस्करण के फाइनल में शानदार पारी खेलकर वह मैन ऑफ द मैच बने हैं. आईपीएल में अब तक उन्होंने 3 शतक लगाए हैं. इसमें से दो शतक तो उन्होंने इसी सीजन में जड़े हैं.

VIDEO : ऋषि कपूर ने खोला राज, अमरीश पुरी ने सबसे पहले बजाई थी IPL की धुन!

2008 में जब वह मैन ऑफ द सीरीज बने थे, उस समय वह राजस्थान का हिस्सा थे और फाइनल में उनकी टीम ने धोनी की टीम चेन्नई को ही हराया था. मैच मुंबई के डीवाई पाटिल स्टेडियम में खेला गया था.