शेन वॉटसन ने 10 गेंद खेलकर खोला था खाता, फिर 41 गेंदों में जड़ दिया शतक

वॉटसन ने 57 गेंदों में 117 रन की नाबाद पारी खेली और चेन्नई के लिए जीत की राह आसान कर दी.

शेन वॉटसन ने 10 गेंद खेलकर खोला था खाता, फिर 41 गेंदों में जड़ दिया शतक
वॉटसन ने अकेले अपने दम पर चेन्नई को 2018 आईपीएल का चैंपियन बना दिया.

मुंबई: आईपीएल 2018 के फाइनल में हैदराबाद के 179 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी चेन्नई ने जबर्दस्त पलटवार किया. चेन्नई की ओर से एक बार फिर शेन वॉटसन चमके हैं. वॉटसन की तेजतर्रार बल्लेबाजी का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि उन्होंने अपना खाता खोलने के लिए 10 गेंदें खेली. बाद में ऐसा कहर बरपाया कि हैदराबाद के गेंदबाज पानी मांगते नजर आए. वॉटसन ने 57 गेंदों में 117 रन की नाबाद पारी खेली और चेन्नई के लिए जीत की राह आसान कर दी. 118 शेन वॉटसन ने अपनी 117 रन की नाबाद पारी में 11 चौके और 8 लंबे गगनचुंबी छक्के लगाए. इसी का नतीजा यह रहा कि चेन्नई ने हैदराबाद को 8 विकेट से हराया. हालांकि हैदराबाद ने चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया था. 

 

9 गेंद खेलकर नहीं बना पाए थे कोई रन
हैदराबाद ने आक्रामक ढंग से गेंदबाजी की शुरुआत की. भुवनेश्वर कुमार ने मेडन ओवर डाला. इतनी कसी हुई गेंदबाजी के आगे वॉटसन ने इंतजार करना ही उचित समझा. हैदराबाद की ओर से फेंके गए दूसरे ओवर में भी वॉटसन ने कोई जोखिम नहीं लिया. तीसरे ओवर को भी वॉटसन ने जैसे-तैसे निकाला. एक बार तो ऐसा लगा जैसे वॉटसन दबाव में आकर अपना विकेट न गंवा बैठे लेकिन चौथे ओवर की तीसरी गेंद पर संदीप शर्मा की गेंद पर चौका लगाकर उन्होंने अपना खाता खोला. इसके बाद तो वह हैदराबाद के गेंदबाजों पर कहर बनकर टूट पड़े और धीमी शुरुआत की भरपाई कर ली. 

shane watson csk

33 गेंदों में जड़ दी फिफ्टी
शेन वॉटसन ने 33 गेंदों में अर्धशतक जमाया. वैसे तकनीकी तौर पर देखा जाए तो उन्होंने 24 गेंदें खेलकर फिफ्टी जमाई क्योंकि शुरू की 9 गेंदों में उन्होंने कोई रन नहीं बनाया था. जब वॉटसन का बल्ला चला तो हैदराबाद की गेंदबाजों की धज्जियां उड़ा दीं. उन्होंने कई रिकॉर्ड अपने नाम कर लिए. आईपीएल फाइनल में लक्ष्य का पीछा करने के दौरान सबसे बड़ा व्यक्तिगत स्कोर अपने नाम कर लिया. उन्होंने नाबाद 117 रन बनाए. इससे पहले मनीष पांडे ने 2014 में पंजाब के खिलाफ 94 रन की पारी खेली थी.