close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

फुटबॉल: ईरान में खत्म हुआ 40 साल पुराना बैन, महिलाओं को मिली यह आजादी...

ईरान और कंबोडिया के बीच फीफा विश्व कप क्वालीफायर के मुकाबले के साथ ही ईरानी महिलाओं के स्टेडियम में प्रवेश पर पाबंदी हट जाएगी. 

फुटबॉल: ईरान में खत्म हुआ 40 साल पुराना बैन, महिलाओं को मिली यह आजादी...
ईरान में महिलाओं पर लगे प्रतिबंधों का विरोध करती प्रशंसक. (फोटो: Reuters)

तेहरान: ईरानी महिलाओं का स्टेडियम जाकर मैच देखने का दशकों पुराना संघर्ष खत्म हो गया है. ईरानी सरकार (Iran) ने महिलाओं पर जारी वह पाबंदी हटा ली है, जिसके तहत उन्हें स्टेडियम जाकर फुटबॉल मैच देखने की मनाही थी. पाबंदी हटने के बाद ईरान का पहला फुटबॉल मैच गुरुवार को होने जा रहा है. यह मैच ईरान और कंबोडिया के बीच खेला जाएगा. इस मैच के साथ ही ईरान में फुटबॉल की महिला प्रशंसकों को वह आजादी मिल जाएगी, जो वे करीब 40 साल से मांग रही हैं. 

ईरान ने करीब 40 साल से अपने यहां किसी फुटबॉल या दूसरे स्टेडियमों में महिलाओं के आने पर रोक लगा रखी है. फुटबॉल की शीर्ष संस्था फीफा (FIFA) ने हाल ही में ईरान को ऐसी पाबंदी हटाने को कहा था. इसके बाद निलंबन से डरकर ईरानी फुटबॉल संघ ने फीफा को आश्वस्त किया था कि वह महिलाओं को स्टेडियम में आने की इजाजत देगा. 2022 फीफा विश्व कप क्वालीफायर में गुरुवार को ईरान की टीम कंबोडिया के खिलाफ तेहरान के आजादी स्टेडियम में उतरेगी. 

यह भी पढ़ें: मैरीकॉम ने रचा इतिहास, वर्ल्ड चैंपियनशिप में सबसे ज्यादा मेडल जीतने वाली बॉक्सर बनीं

एक रिपोर्ट के मुताबिक इस मैच की महिलाओं के लिए आरक्षित 3500 टिकटें एक घंटे से कम समय में बिक गईं. आजादी स्टेडियम में दर्शकों के बैठने की क्षमता करीब एक लाख है. इस मुकाबले के लिए 150 से ज्यादा महिला पुलिस अधिकारियों की भी स्टेडियम में नियुक्त की गई है. 

हाल ही में ब्लू गर्ल के नाम से मशहूर ईरानी फुटबॉल प्रशंसक सहर खोदयारी (Sahar Khodayari) की मौत हो गई थी. सहर खोदयारी को सुरक्षा अधिकारियों ने तब पकड़ लिया था जब वह मैच देखने के लिए पुरुष के भेष में स्टेडियम में घुसने का प्रयास कर रही थी. इसके बाद उसके खिलाफ मुकदमा चलाया गया. सहर खोदयारी ने जेल जाने के डर से खुद को आग लगा ली, जिसके बाद उसकी मौत हो गई थी. इस घटना के बाद दुनियाभर में ईरान की निंदा हुई. उस घटना के बाद ही फीफा ने ईरान पर और दबाव बनाना शुरू कर दिया था.