केविन पीटरसन ने आत्मकथा में ‘असली गुरु’ राहुल द्रविड़ को किया सलाम

इंग्लैंड के बल्लेबाज केविन पीटरसन का अपने करियर के दौरान अपने टीम के कोचों के साथ कभी बहुत अच्छे संबंध नहीं रहे और ऐसे में उनकी ‘असली गुरु’ पाने की कवायद भारत में जाकर खत्म हुई जहां उनके शब्दों में पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ ने उनकी तकनीक पर गहरा प्रभाव छोड़ा।

केविन पीटरसन ने आत्मकथा में ‘असली गुरु’ राहुल द्रविड़ को किया सलाम

लंदन : इंग्लैंड के बल्लेबाज केविन पीटरसन का अपने करियर के दौरान अपने टीम के कोचों के साथ कभी बहुत अच्छे संबंध नहीं रहे और ऐसे में उनकी ‘असली गुरु’ पाने की कवायद भारत में जाकर खत्म हुई जहां उनके शब्दों में पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ ने उनकी तकनीक पर गहरा प्रभाव छोड़ा।

इस सप्ताह जारी की गई अपनी आत्मकथा ‘केपी’ में पीटरसन ने भारत के इस बल्लेबाज के साथ ईमेल का लगातार जिक्र किया है जिनमें द्रविड़ ने स्पिनरों को खेलने के बारे में बात की और इससे उनके खेल में काफी अंतर पैदा हुआ। पीटरसन ने अपनी किताब में लिखा है, राहुल अपने दिनों में महान और बेजोड़ भारतीय बल्लेबाज थे। वह स्पिन गेंदबाजों को खेलने के मामले में जीनियस थे। हमारी बातचीत और ईमेल एक असली गुरू से निजी मास्टरक्लास थी।

उन्होंने कहा, राहुल ने मेरी क्रिकेट में सुधार किया और मेरी अपने खेल के बारे में सोच को विकसित करने में मदद की। उनकी उदारता हमेशा मेरे साथ बनी रहेगी। पीटरसन ने एक ईमेल का जिक्र किया है जिसमें द्रविड़ ने उन्हें ‘चैंपियन’ करार दिया है और उन्हें गुर सिखाये हैं। द्रविड़ ने इसमें लिखा है, केपी आप वास्तव में बहुत अच्छे खिलाड़ी हो। आपको गेंद को अच्छी तरह से देखने और खुद पर विश्वास करने की जरूरत है। किसी को भी यह कहने का मौका नहीं दो कि आप स्पिन नहीं खेल सकते। मैंने आपको देखा है और आप स्पिन खेल सकते हो।

पीटरसन ने लिखा है कि वह अक्सर इस ईमेल को पढ़ते है और यह उनके चेहरे पर मुस्कान बिखेर देता है। उन्होंने कहा, आईपीएल में समय बिताने और विशेषकर राहुल द्रविड़ से बात करने के बाद स्पिन को खेलने की मेरी क्षमता कई गुना बढ़ गयी। इंग्लैंड में बल्लेबाजों को स्पिन गेंदबाजों के खिलाफ स्पिन खेलना सिखाया जाता है। भारत में स्पिन के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी इसके खिलाफ खेलना सिखाते हैं।

दक्षिण अफ्रीका में जन्में क्रिकेटर ने कोच एंडी फ्लावर की अगुवाई में इंग्लिश ड्रसिंग में धौंस जमाने की प्रवृति का खुलासा करके इंग्लैंड क्रिकेट में बवाल मचा दिया। इंग्लैंड के कप्तान एलिस्टेयर कुक ने पीटरसन पर टीम के सफल युग की छवि को बिगाड़ने का आरोप लगाया। अपनी आत्मकथा में पीटरसन ने अपने साथियों के रूखे व्यवहार के बारे में खुलकर बात की है लेकिन उन्होंने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में अच्छे माहौल की जमकर तारीफ की है।

दिल्ली डेयरडेविल्स के इस खिलाड़ी ने लिखा है, आईपीएल भविष्य है। मैं पैसे और आईपीएल के बारे में आपसे दिन भर बात कर सकता हूं लेकिन केवल दोस्ती के लिये मैं मुफ्त में खेलने के लिये तैयार हूं। मैंने सभी विदेशी खिलाड़ियों से अपनी दोस्ती आईपीएल में खेलते हुए बनायी। इंग्लैंड ड्रेसिंग रूम में इससे मदद नहीं मिलती। वहां इस तरह का दोस्ती नहीं होती है। पीटरसन ने इसके साथ ही दावा किया कि क्रिकेट के प्रति सामान्य संस्कृति उपमहाद्वीप में बेहतर है। उन्होंने भारतीय खिलाड़ियों को स्वच्छंद करार देते हुए कहा कि वे वास्तव में क्रिकेट को सच्चा प्यार करते हैं।