दो और ग्रैंडस्लैम के लिए पेस को नए जोड़ीदार की तलाश

सफल 2016 के बाद भारत के दिग्गज टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस नये जोड़ीदार की तलाश में हैं और उनका लक्ष्य अपने ग्रैंडस्लैम खिताबों की संख्या को 20 तक पहुंचाना है। पेस ने इस साल स्विट्जरलैंड की महान खिलाड़ी मार्टिना हिंगिस के साथ फ्रेंच ओपन का खिताब जीतकर मिश्रित युगल में करियर ग्रैंडस्लैम पूरा किया था।

दो और ग्रैंडस्लैम के लिए पेस को नए जोड़ीदार की तलाश

पुणे : सफल 2016 के बाद भारत के दिग्गज टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस नये जोड़ीदार की तलाश में हैं और उनका लक्ष्य अपने ग्रैंडस्लैम खिताबों की संख्या को 20 तक पहुंचाना है। पेस ने इस साल स्विट्जरलैंड की महान खिलाड़ी मार्टिना हिंगिस के साथ फ्रेंच ओपन का खिताब जीतकर मिश्रित युगल में करियर ग्रैंडस्लैम पूरा किया था।

रामकुमार रामनाथन के साथ मिलकर पुणे चैलेंजर के पहले दौर का मैच जीतने के बाद पेस ने कहा, ‘कड़े वर्ष में मैंने अपने सभी लक्ष्य पूरे किए। अपने लक्ष्य पूरे करने के बाद मैं बेहद खुश हूं। अब मैं कुछ हफ्तों का ब्रेक लूंगा और अपनी बेटी और पिता के साथ समय बिताउंगा। मेरा लक्ष्य 20 ग्रैंडस्लैम खिताब जीतना है।’ दिसंबर 1997 के बाद पेस पहली बार भारत में किसी चैलेंजर प्रतियोगिता में खेल रहे हैं।

पेस और रामकुमार ने सिद्धार्थ रावत और अंवित बेंद्रे की जोड़ी को 6-3 6-4 से हराकर क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई। पेस ने खुलासा किया कि वह आंद्रे बेगेमैन के साथ जोड़ी नहीं बनाएंगे जिनके साथ उन्होंने बुसान और बिएला में चैलेंजर खिताब जीते और सेंट पीटर्सबर्ग और विंसटन सले में दो एटीपी 250 प्रतियोगिता में उप विजेता रहे।

पेस ने कहा कि जोड़ीदार का चयन आसान नहीं होगा। उन्होंने कहा, ‘मैं अगले साल के लिए साझेदारी ढूंढ रहा हूं। 20 सुनने में अच्छी संख्या लगती है। इस साल काफी उतार चढ़ाव देखने को मिली, अगर आप टीमों को देखो को किसी एक टीम ने दबदबा नहीं बनाया।’ पेस ने कहा, ‘मैं चार हफ्तों में ट्रेनिंग शुरू करूंगा। मैं 10 महीने पहले ही तुलना में अब अधिक फिट हूं।’ भारत में चैलेंजर टूर्नामेंट में खेलने के फैसले के बारे में पूछने पर पेस ने कहा कि वह भारतीय टूर्नामेंटों का समर्थन करना चाहते हैं।

पेस ने कहा कि उन्होंने रामकुमार को इस टूर्नामेंट के लिए चुना जबकि उनके पास बाहर से किसी बड़े खिलाड़ी को लाने का विकल्प था। पेस ने 21 साल के रामकुमार की तारीफ करते हुए कहा, ‘मेरे करियर के इस चरण में मुझे लगता है कि मेरा काम इन युवाओं को प्रेरित करना है, उनके खेल में मदद करना और घरेलू टूर्नामेंट में हिस्सा लेना है। हम दोनों पहली बार साथ खेल रहे हैं लेकिन कोर्ट पर हमारी कैमिस्ट्री काफी अच्छी है।’