close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कहर बनकर टूटे अमित मिश्रा, भारत ने न्यूजीलैंड को 190 रनों से रौंदा, सीरीज पर 3-2 से कब्जा

पांच मैचों की वनडे सीरीज के आखिरी और निर्णायक मुकाबले में भारत ने आज (शनिवार) विशाखापट्टनम के एसीए-वीडीसीए स्टेडियम में न्यूजीलैंड को 190 रनों हरा दिया। भारतीय टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 269 रन बनाये थे। भारत ने टेस्ट सीरीज जीतने के बाद वनडे सीरीज 3-2 से अपने नाम कर लिया।

कहर बनकर टूटे अमित मिश्रा, भारत ने न्यूजीलैंड को 190 रनों से रौंदा, सीरीज पर 3-2 से कब्जा

विशाखापट्टनम : पांच मैचों की वनडे सीरीज के आखिरी और निर्णायक मुकाबले में भारत ने आज (शनिवार) विशाखापट्टनम के एसीए-वीडीसीए स्टेडियम में न्यूजीलैंड को 190 रनों हरा दिया। भारतीय टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 269 रन बनाये थे। भारत ने टेस्ट सीरीज जीतने के बाद वनडे सीरीज 3-2 से अपने नाम कर लिया। अमित मिश्रा ने 5 विकेट चटकाये।
मैच का ताजा हाल जानने के लिए लाइव स्कोर कार्ड पर क्लिक करें- LIVE SCORE CARD 

रोहित शर्मा और विराट कोहली के अर्धशतकों के बाद लेग स्पिनर अमित मिश्रा की कलाईयों की जादूगरी से भारत ने आज यहां न्यूजीलैंड को 5वें और निर्णायक वनडे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच में 190 रन से करारी शिकस्त देकर पांच मैचों की सीरीज 3-2 से जीतने के साथ देशवासियों को दीवाली की पूर्वसंध्या पर खूबसूरत तोहफा दिया। 

भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए धीमे विकेट पर छह विकेट पर 269 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर खड़ा किया। रोहित शर्मा ने फॉर्म में वापसी करते हुए 65 गेंदों पर 70 रन की पारी खेली जबकि विराट कोहली ने अच्छा प्रदर्शन जारी रखते हुए 76 गेंदों पर 65 रन बनाये। इनके अलावा कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (41) तथा डेथ ओवरों में केदार जाधव (नाबाद 39) और अक्षर पटेल (24) ने उपयोगी पारियां खेली। न्यूजीलैंड के बल्लेबाज किसी भी समय पिच से सामंजस्य नहीं बिठा पाये और उसकी टीम 23.1 ओवर में 79 रन पर ढेर हो गयी जो उसका भारत के खिलाफ न्यूनतम स्कोर है। 

मिश्रा के हावी होने के बाद तो उसकी पारी ताश के पत्तों की तरह बिखर गयी। कीवी टीम ने अपने आखिरी आठ विकेट 16 रन के अंदर गंवाये। मिश्रा ने 18 रन देकर 5 विकेट लिये। अक्षर पटेल ने 9 रन देकर 2 जबकि उमेश यादव, जयंत यादव और जसप्रीत बुमराह ने 1-1 विकेट लिया। न्यूजीलैंड के केवल तीन बल्लेबाज दोहरे अंक में पहुंचे। भारत की यह न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे में रनों के लिहाज से सबसे बड़ी और ओवरआल चौथी बड़ी जीत है।

इस तरह से न्यूजीलैंड का भारतीय सरजमीं पर पहली बार सीरीज जीतने का सपना पूरा नहीं हो पाया। उसने रांची में चौथा वनडे जीतकर सीरीज 2-2 से बराबर करायी थी लेकिन आखिरी मैच में उसकी टीम किसी भी समय मुकाबले में नहीं दिखी। भारत ने इस तरह से टेस्ट में 3-0 से क्लीन स्वीप करने के बाद वनडे सीरीज जीतकर अपनी धरती पर व्यस्त सत्र का शानदार आगाज किया। 

कप्तान केन विलियमसन (27) और रोस टेलर (19) ने कुछ देर तक विकेट गिरने का क्रम रोका लेकिन उन्हें पिच का मिजाज समझ में नहीं आ रहा था जिस पर रन बनाना आसान नहीं था। यह साझेदारी टूटते ही मिश्रा पूरी तरह से हावी हो गये और न्यूजीलैंड की पारी का पतन शुरू हो गया। अक्षर ने विलियमसन को लांग आफ पर खड़े जाधव के हाथों कैच कराकर यह साझेदारी तोड़ी जबकि मिश्रा ने टेलर और बीजे वाटलिंग को तीन गेंद के अंदर पवेलियन भेजा। 

टेलर ने कट करने के प्रयास में धोनी को कैच दिया जबकि वाटलिंग गुगली को नहीं समझ पाये और बोल्ड हो गये। जयंत ने अपने दूसरे ओवर में ही कोरे एंडरसन को पगबाधा आउट करके अपने करियर का पहला विकेट लिया। मिश्रा की गेंदबाजी देखकर तो ऐसा लग रहा था कि मानो उन्हें दीवाली का जश्न मनाने की देरी हो रही है। उन्होंने अपने अगले ओवर में दो विकेट निकाल दिये जिसमें ऑलराउंडर जेम्स नीशाम (तीन) का विकेट भी शामिल था जिन्हें उन्होंने खूबसूरत लेग ब्रेक पर बोल्ड किया। इसके बाद भारत की जीत महज औपचारिकता रह गयी थी। 

मिश्रा ने सीरीज में सर्वाधिक 15 विकेट लिये। इससे पहले भारतीय पारी में अधिकतर बल्लेबाजों ने योगदान दिया। कोहली पांच मैचों की श्रृंखला में 119.33 की औसत से 358 रन बनाकर सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज रहे। उन्हें लेग स्पिनर ईश सोढ़ी (66 रन देकर दो विकेट) ने लगातार दूसरे मैच में आउट किया। कोहली लंबा शॉट खेलना चाहते थे लेकिन उन्होंने लांग ऑफ पर सीधे कैच थमा दिया।

मनीष पांडे खाता भी नहीं खोल पाये लेकिन आखिरी क्षणों में जाधव ने 37 गेंदों पर नाबाद 39 रन बनाकर टीम को अच्छे स्कोर तक पहुंचाया। जाधव ने अक्षर (18 गेंदों पर 24 रन) के साथ 39 गेंदों पर 46 रन की साझेदारी भी निभायी। भारत ने धीमी शुरूआत की और पहले पांच ओवर में केवल 17 रन बनाये। अंजिक्य रहाणे (20) ने तेजी लाने की कोशिश की लेकिन इसके बाद टाम लैथम को शॉर्ट मिडविकेट पर कैच का अभ्यास कराया। रोहित लंबे समय बाद अपने असली रंग में दिखे। उन्होंने अपनी पारी में पांच चौके और तीन छक्के लगाये। उनके साथ कोहली ने स्ट्राइक रोटेट करने पर भी ध्यान दिया।

रोहित ने सीरीज का पहला अर्धशतक जमाया लेकिन बाद में ऐंठन के कारण उनके लिये बल्लेबाजी करनी मुश्किल हो गयी। उन्होंने ट्रेंट बोल्ट (52 रन देकर दो विकेट) की गेंद पर डीप मिडविकेट पर खड़े जेम्स नीशाम को कैच थमाया। कोहली ने इसके बाद धोनी के साथ पारी को संवारने का बीड़ा उठाया। भारतीय कप्तान को हालांकि अपने पहले अंतरराष्ट्रीय मैच में अंपायरिंग कर रहे सी के नंदन ने गलत पगबाधा आउट दिया। 

धोनी चौथे नंबर पर ही बल्लेबाजी के लिये उतरे लेकिन उनकी शुरुआत अच्छी नहीं रही। एक समय उन्होंने 17 गेंदों पर पांच रन बनाये थे। उन्होंने 25वीं गेंद पर पहला चौका लगाया। इसके बाद उन्होंने तेजी दिखायी और आउट होने से पहले अपनी पारी में चार चौके और एक छक्का लगाया। बाद में जाधव ने अच्छी तरह से जिम्मेदारी संभाली और अपनी पारी में दो चौके और एक छक्का लगाया। अक्षर ने भी अपने बल्लेबाजी कौशल का अच्छा नजारा पेश किया। उनकी पारी में एक चौका और एक छक्का शामिल है।