ट्रायल्स की बहस पर मैरी कॉम ने बिंद्रा को दी सलाह, तो नहीं दिया निखहत को भाव

Boxing:  ट्रायल्स की बहस पर मैरी कॉम ने अभिनव बिंद्रा के ट्वीट और निखहत जरीन के खेल मंत्री को लिखे खत पर तीखा जवाब दिया है. 

ट्रायल्स की बहस पर मैरी कॉम ने बिंद्रा को दी सलाह, तो नहीं दिया निखहत को भाव
मैरी कम ने विश्व बॉक्सिंग चैम्पियनशिप में सिल्वर मेडल जीता था. (फाइल फोटो)

कोलकाता: इस समय भारतीय खेल जगत में एक बड़ी बहस चल रह ही है. क्या किसी खिलाड़ी को उसके पिछले प्रदर्शन के आधार पर वर्तमान में होने वाले किसी टूर्नामेंट के लिए चयन प्रक्रिया से फिर से गुजरना जरूरी होना चाहिए? यह मुद्दा मुक्केबाजी (Boxing) को लेकर चर्चा में है क्योंकि भारत की स्टार महिला मुक्केबाज एमसी मैरी कॉम (MC Marry Kom) को हाल ही में विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में 51 किलो वर्ग में बिना ट्रायल्स के भेजा था. इसके बाद से अब यह बहस बड़ा रूप लेती जा रही है. इस मामले में मैरी कॉम ने भी आलोचकों को जवाब दिया है. 

क्या है मामला
ओलम्पिक क्वालीफायर के लिए 51 किलोग्राम भारवर्ग में ट्रायल्स नहीं होंगी और मैरी कॉम सीधे तीन से 14 फरवरी के बीच चीन के वुहान में होने वाले क्वालीफायर में खेलेंगी. निखहत जरीन ने एफआई के इस फैसले पर नाराजगी जताई थी. उन्होंने खेल मंत्री को ट्रायल्स के संबंध में पत्र भी लिखा. जरीन द्वारा पत्र लिखने के बाद मैरी कॉम ने कहा है कि वह निखत को नहीं जानती. मैरी कॉम और निखहत ओलम्पिक क्वालीफायर के लिए ट्रायल्स के आयोजन को लेकर एक-दूसरे के आमने-सामने हैं.

यह भी पढ़ें: VIDEO: प्रेमी ने बीच मैदान में महिला क्रिकेटर को किया प्रोपोज, जानिए फिर क्या हुआ

बीएफआई को फैसला करने दें- मैरी कॉम
मैरी ने अंग्रेजी समाचार चैनल रिपब्लिक टीवी से कहा, "निखहत जरीन कौन है? मैं उन्हें नहीं जानती. जो हो रहा है मैं उससे बेहद दुखी हूं. मैंने विश्व चैम्पियनशिप में आठ पदक अपने नाम किए हैं, जिसमें छह स्वर्ण पदक हैं. भारतीय मुक्केबाजी महासंघ (बीएफआई) को फैसला करने दीजिए की वह किसे भेजना चाहते हैं. वह इस तरह की बातें कैसे कर सकती हैं? भारतीय टीम में जगह बनाने के लिए वह लॉबिइंग नहीं कर सकतीं. यह सही नहीं है."

यह भी पढ़ें: IND vs SA: रोहित ने लगाया अपने टेस्ट करियर का पहला दोहरा शतक, बनाए ये भी रिकॉर्ड

निखहत को मिला था बिंद्रा का समर्थन
निखहत ने बुधवार कोकहा था कि बीएफआई अध्यक्ष अजय सिंह से संपर्क करने में विफलता के बाद वह खेल मंत्री से बात करेंगी और निखहत ने ठीक वैसा ही किया. उन्होंने गुरुवार को ट्वीटर पर खेल मंत्री को लिखे पत्र को साझा भी किया था. निखहत के ट्वीट को ओलम्पिक स्वर्ण पदक विजेता निशानेबाज अभिनव बिंद्रा का भी समर्थन मिला था. मैरी कॉम ने बिंद्रा को भी आड़े हाथों लिया है और कहा है कि उन्हें निशानेबाजी पर ध्यान देना चाहिए.

यह भी बोलीं मैरी कॉम
मैरी कॉम ने कहा, "मैं जानती हूं कि इसके पीछे कौन है. यह जेएसडब्ल्यू के लोग हैं और मैं अभिनव बिंद्रा से कहना चाहती हूं कि आप मुक्केबाजी के बारे में कुछ नहीं जानते हैं इसलिए आप कृपया निशानेबाजी पर ध्यान दें. मैं एक दशक से ज्यादा से मुक्केबाजी कर रही हूं और मुझे कितनी बार ट्रायल्स से गुजरना होगा. क्या मेरे रिकार्ड और पदक मेरे बारे में नहीं बताते."

खेल मंत्री उठाएंगे यह कदम
रिजिजू ने कहा है कि वह मंत्री होने के नाते खिलाड़ियों के चयन का हिस्सा नहीं होते. उन्होंने कहा, "मैं इस बात को बीएफआई तक जरूर ले जाऊंगा ताकि देश को प्राथमिकता देते हुए सर्वश्रेष्ठ नतीजा निकाला जा सके."
(इनपुट आईएएनएस)

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.