मोहन बागान, जिसका एक खिलाड़ी दो करोड़ का; वह हार गया आईजोल से, जिसकी पूरी टीम का एक साल का खर्च इतना

कोलकाता के दिग्गज फुटबॉल क्लब मोहन बगान को आइजॉल के फुटबॉल क्लब से मात मिली है. मिजोरम की राजधानी आइजॉल फुटबॉल क्लब ने मोहन बागान को मात देकर एक नया इतिहास लिख दिया है. अगर देश में फुटबॉल की बात हो तो मोहन बागान का नाम सबसे पहले आता है. इस दिग्गज टीम को हराने के लिए किसी भी टीम को पसीने छूट जाते हैं. लेकिन आइजॉल फुटबॉल क्लब ने मोहन बागान को हराकर इतिहास लिखा है. शनिवार को आइजॉल के राजीव गांधी स्टेडियम में खेले गए मैच में देश के दिग्गज क्लब मोहन बगान को 1-0 से मात देकर आइजॉल ने इतिहास रच दिया. यह क्लब पहली बार आई-लीग टाइटल जीतने के बेहद करीब है. जीत का ऐलान होते ही स्टेडियम में मौजूद 11 हजार से ज्यादा मिजो खुशी से उछल पड़े.

मोहन बागान, जिसका एक खिलाड़ी दो करोड़ का; वह हार गया आईजोल से, जिसकी पूरी टीम का एक साल का खर्च इतना

नई दिल्ली: कोलकाता के दिग्गज फुटबॉल क्लब मोहन बगान को आइजॉल के फुटबॉल क्लब से मात मिली है. मिजोरम की राजधानी आइजॉल फुटबॉल क्लब ने मोहन बागान को मात देकर एक नया इतिहास लिख दिया है. अगर देश में फुटबॉल की बात हो तो मोहन बागान का नाम सबसे पहले आता है. इस दिग्गज टीम को हराने के लिए किसी भी टीम को पसीने छूट जाते हैं. लेकिन आइजॉल फुटबॉल क्लब ने मोहन बागान को हराकर इतिहास लिखा है. शनिवार को आइजॉल के राजीव गांधी स्टेडियम में खेले गए मैच में देश के दिग्गज क्लब मोहन बगान को 1-0 से मात देकर आइजॉल ने इतिहास रच दिया. यह क्लब पहली बार आई-लीग टाइटल जीतने के बेहद करीब है. जीत का ऐलान होते ही स्टेडियम में मौजूद 11 हजार से ज्यादा मिजो खुशी से उछल पड़े.

मोहन बागान एक खिलाड़ी पर खर्च करता है जो आइजोल के एक सीजन के बराबर
आइजॉल फुटबॉल क्लब बेहद कम बजट में संचालित होता है. खासतौर पर मोहन बागान से तुलना करें तो जितनी रकम वह अपने एक खिलाड़ी पर खर्च करता है, उतने में आइजॉल फुटबॉल क्लब पूरी टीम का खर्च चलाता है. मोहन बागान के लिए खेलने वाले हैती के सोनी नोर्दे को ही 2 करोड़ रुपये मिलते हैं. आई-लीग टाइटल जीतने के लिए शनिवार के मैच में आइजॉल को 2 से अधिक गोल के अंतर से जीतना जरूरी था, जबकि मोहन बागान को मैच में जीतना जरूरी था. आइजॉल के लिए इस मुकाबले में मोहन बागान से मुकाबला करना भी कठिन माना जा रहा था, लेकिन उसने 1 गोल से मात दे दी. 

अब शिलॉन्ग क्लब के खिलाफ अगले मैच में ड्रॉ खेलने या जीतने पर आइजॉल इस प्रतिष्ठित लीग पर कब्जा जमा लेगा. पूर्वोत्तर भारत से फुटबॉल के राष्ट्रीय नक्शे में कदम रखने वाली शिलॉन्ग की टीम पहली थी, लेकिन फिलहाल आइजॉल का पलड़ा भारी दिख रहा है. आइजॉल ने मोहन बागान के साथ जिस तरह से मुकाबला किया, वह काबिल-ए-तारीफ था. दिलचस्प बात यह है कि बागान की ओर से सोनी नोर्दे को दो करोड़ रुपए की सैलरी दी जाती है, जबकि आइजॉल क्लब का एक सीजन का यह कुल बजट है. आइजॉल क्लब ने इस लीग में पिछले ही सीजन में पदार्पण किया था और दूसरे सीजन में इस तरह के प्रदर्शन ने उसे चर्चा में ला दिया है.

128 साल पुराना क्लब है मोहन बागान
मैच से पहले बारिश होने के कारण मैदान गीला था. बादलों की वजह से साफ दिखाई भी नहीं दे रहा था. लेकिन राजीव गांधी स्टेडियम में बैठे 11 हजार मिजो दर्शकों का उत्साह बिल्कुल भी कम नहीं हो रहा था. वे आई लीग की मजबूत टीम मोहन बागान के खिलाफ अपनी टीम आइजोल एफसी को सपोर्ट करने के लिए बारिश के बावजूद मौजूद थे. जैसे ही 83वें मिनट में स्थानीय खिलाड़ी जोमिंगलियाना राल्टे ने गोल किया. सब झूम उठे. आइजोल एफसी ने मोहन बागान को 1-0 से हरा दिया था. आईजोल एफसी क्लब मोहन बागान के सामने बिल्कुल बौना है. 128 साल पुराना कोलकाता का मोहन बागान क्लब जितनी रकम अपने एक खिलाड़ी पर खर्च करता है, उतने में आइजोल अपनी पूरी टीम का खर्च चलाता है. मोहन बागान के लिए खेलने वाले हैती के सोनी नोर्दे को ही 2 करोड़ रुपए मिलते हैं. यह आइजोल का एक सीजन का कुल खर्च है. 

आइजोल क्लब ने सबको चौंकाया
33 साल पुराने आइजोल क्लब ने आई लीग में पिछले ही साल पदार्पण किया था. हालांकि टीम आठवें नंबर पर रही थी. लेकिन एक साल में उसने अपने प्रदर्शन से सबको चौंका दिया. क्लब पहली बार आई लीग खिताब जीतने के बेहद करीब है. यह टाइटल जीतने के लिए आईजोल को इस मैच में दो से अधिक गोल के अंतर से जीतना जरूरी था. इस जीत से आइजोल के 17 मैचों में 36 अंक हैं जबकि मोहन बागान उससे तीन अंक पीछे है. अब उसे आई लीग खिताब जीतने के लिए शिलांग लाजोंग के खिलाफ 30 अप्रैल को होने वाले आखिरी लीग मैच में सिर्फ एक ड्रॉ की जरुरत है. दो सत्र पहले अपना पहला आई लीग खिताब जीतने वाले मोहन बागान के अभी भी चैंपियन बनने की उम्मीद है. अगर वह आखिरी मैच में चेन्नई सिटी एफसी को हराए और आइजोल उसी दिन शिलांग लाजोंग से हार जाए. अगर आइजोल यह खिताब जीत जाती है तो पूर्वोत्तर से ट्रॉफी जीतने वाली पहली टीम होगी. 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.