close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

विश्व कप 2019 में होंगी सिर्फ 10 टीमें, सचिन ने जताई आपत्ति

एसोसिएट देश भले ही 2019 में होने वाले विश्व कप में केवल दस टीमों को शामिल करने के विचार से नाखुश हों लेकिन आईसीसी चेयरमैन एन श्रीनिवासन ने आज कहा कि उन्हें हताश होने की जरूरत नहीं है क्योंकि प्रारूप में उन्हें इस क्रिकेट महाकुंभ के लिये क्वालीफाई करने के अच्छे मौके मिलेंगे।

विश्व कप 2019 में होंगी सिर्फ 10 टीमें, सचिन ने जताई आपत्ति

मेलबर्न : एसोसिएट देश भले ही 2019 में होने वाले विश्व कप में केवल दस टीमों को शामिल करने के विचार से नाखुश हों लेकिन आईसीसी चेयरमैन एन श्रीनिवासन ने आज कहा कि उन्हें हताश होने की जरूरत नहीं है क्योंकि प्रारूप में उन्हें इस क्रिकेट महाकुंभ के लिये क्वालीफाई करने के अच्छे मौके मिलेंगे।

इंग्लैंड में होने वाले अगले विश्व कप में टीमों की संख्या घटाकर 14 से दस करने के आईसीसी के फैसले की एसोसिएट देशों ने कड़ी आलोचना की। भारतीय स्टार सचिन तेंदुलकर सहित अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की कई हस्तियों ने भी इस मसले को लेकर विश्व संस्था की आलोचना की।

तेंदुलकर ने तो यहां तक कह दिया था कि इससे क्रिकेट को वैश्विक खेल बनाने के प्रयासों को झटका लगेगा। लेकिन श्रीनिवासन ने कहा कि इसको लेकर चिंता करने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा, यदि आप अगले विश्व कप पर गौर करो तो चोटी की आठ टीमें क्वालीफाई करेंगी जबकि नौवीं और दसवीं टीम के लिये छह एसोसिएट देशों के बीच प्रतिस्पर्धा होगी। इसलिए एसोसिएट देशों के पास विश्व कप में खेलने का मौका रहेगा। एसोसिएट देशों की सफलता का कारण आईसीसी का विकास कार्यक्रम है।

नयी क्वालीफाईंग प्रणाली के अनुसार मेजबान इंग्लैंड और चोटी की सात टीमों का विश्व कप में स्थान सुरक्षित रहेगा। एसोसिएट देशों को क्वालीफायर्स में आईसीसी रैंकिंग में शीर्ष आठ से बाहर की टीमों के साथ भिड़ना होगा। इससे यह भी हो सकता कोई भी एसोसिएट देश विश्व कप में जगह नहीं बना पाये।

श्रीनिवासन ने कहा कि आईसीसी एसोसिएट देशों में क्रिकेट के विकास में 30 करोड़ डालर खर्च करेगी। उन्होंने कहा, यह आठ साल का चक्र होगा और इस दौरान यह राशि खर्च की जाएगी। हम चाहते हैं कि एसोसिएट देश अपने घरेलू ढांचे का विकास करें जिससे एक अच्छी व्यवस्था तैयार करने की मदद मिलेगी। श्रीनिवासन ने वर्तमान विश्व कप को बेहद सफल करार दिया और कहा कि यहां तक कि जिन मैचों में भारत या आस्ट्रेलिया नहीं खेल रहे थे उनमें भी बड़ी संख्या में दर्शक पहुंचे। उन्होंने कहा, इसकी सफलता के लिये आपको एक उदाहरण देना ही पर्याप्त होगा। भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच एमसीजी पर खेले गये मैच में 87 हजार दर्शक पहुंचे थे। यह एक ऐसा मैच था जिसमें आस्ट्रेलिया नहीं खेल रहा था।