close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

विराट कोहली ने कहा, मुझे नहीं लगता कि रवि शास्त्री को और समझने की जरूरत है...

रवि शास्त्री को हाल ही में टीम इंडिया का मुख्य कोच बनाया गया है. इससे पहले वह दो साल तक टीम इंडिया के डायरेक्टर भी रह चुके हैं.

विराट कोहली ने कहा, मुझे नहीं लगता कि रवि शास्त्री को और समझने की जरूरत है...
विराट कोहली को कप्तान बनवाने में रवि शास्त्री की भी भूमिका रही थी (फाइल फोटो)

मुंबई : तीन साल बाद एक बार फिर टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री की जुगलबंदी देखने को मिलेगी. शास्त्री कोच बनने से पहले 2014 से 2016 के बीच टीम इंडिया के निदेशक रह चुके हैं. इन दोनों के बीच काफी अच्छे रिश्ते रहे हैं और इनकी जोड़ी ने टीम इंडिया को नई ऊंचाई दी थी. अब जब एक बार फिर दोनों साथ आ गए हैं, तो कप्तान विराट कोहली से शास्त्री से संबंधों को लेकर भी सवाल किए जा रहे हैं, क्योंकि अनिल कुंबले से कोहली के संबंध अच्छे नहीं रहे थे और अंत में कुंबले को कोच हद छोड़ना पड़ा था. ऐसा ही एक सवाल कोहली से श्रीलंका दौरे पर रवाना होने से पहले आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में पूछा गया, जिसका उन्होंने सधा हुआ जवाब दिया... 

रवि शास्त्री के टीम इंडिया का कोच बनने के बाद पहली बार कोहली ने उनके साथ मंच साझा किया. विराट ने तीन टेस्ट, पांच वनडे और एक टी20 मैच के लिए श्रीलंका दौरे पर रवाना होने से पहली बार शास्त्री की नियुक्ति पर अपनी राय रखी.

अतिरिक्त प्रयास की जरूरत नहीं...
शास्त्री की मौजूदगी में कोहली ने कहा, ‘पिछले तीन साल में हमने साथ काम किया है. मुझे नहीं लगता कि मुझे कुछ और समझने की जरूरत है. हमने पहले भी साथ काम किया है, हमें पता है कि क्या अपेक्षा है और क्या उपलब्ध है. मुझे नहीं लगता कि इसके लिए कोई प्रयास करने की जरूरत है.’ शास्त्री ने अनिल कुंबले की जगह दी है जिनका एक साल का सफल कार्यकाल कोहली के साथ मतभेद के बाद विवादों के बीच खत्म हुआ.

हम पर कोई दबाव नहीं...
जब यह पूछा गया कि पिछले कुछ हफ्तों में जो हुआ उसे उन पर किसी तरह का अतिरिक्त दबाव है, कोहली ने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि कोई अतिरिक्त दबाव है. एक टीम के रूप में हम उपलब्धियां हासिल करने की उम्मीद करते हैं. सभी ने मुश्किल समय का सामना किया है. मैं कोई अतिरिक्त दबाव नहीं लेता. जब तक मैं कप्तान हूं मैं जिम्मेदारी लेता रहूंगा. आपको सिर्फ अपनी मानसिकता का ध्यान रखना होता है.’ 

कोहली से कुंबले को लेकर कोई प्रत्यक्ष सवाल नहीं पूछा गया लेकिन खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ के बीच संवाद से जुड़े सवाल पर कोहली ने कहा, ‘समझ और संवाद सभी चीजों पर लागू होता है. यह क्रिकेट ही नहीं बल्कि किसी भी रिश्ते पर लागू होता है. सभी लोग जीवन में कभी ना कभी रिश्तों से गुजरते हैं, समान नियम लागू होते हैं.’