किसी कोच को नहीं मिला होगा ऐसा ‘इनाम’, टीम 61-13 से जीती इसलिए हुए निलंबित

अमेरिकन कोच रॉब शेवर की टीम ने अपनी विरोधी टीम को 61-13 से हराया था. 

किसी कोच को नहीं मिला होगा ऐसा ‘इनाम’, टीम 61-13 से जीती इसलिए हुए निलंबित

वॉशिंगटन: खिलाड़ी जब भी मैदान पर उतरता है तो उसकी कोशिश मैच जीतने की होती है. यही ख्वाहिश उसके कोच की होती है. कोई भी कोच चाहता है कि उसकी टीम शानदार जीत दर्ज करे. जब ऐसा होता है तो इसका श्रेय कोच को भी मिलता है. पुरस्कार और इनाम भी मिलते हैं. लेकिन अमेरिका में एक अनोखा मामला सामने आया है. अमेरिकन फुटबॉल के एक कोच को सिर्फ इसलिए निलंबित कर दिया गया क्योंकि उसकी टीम ने शानदार जीत दर्ज की थी. 

अमेरिका में जिस कोच को निलंबित किया गया, उनका नाम रॉब शेवर है. वे लॉन्ग आईलैंड में प्लेनेज हाई स्कूल के हेड कोच हैं. पिछले हफ्ते ही उनकी टीम का मैच साउथ शोर स्कूल से हुआ. प्लेनेज हाई स्कूल ने इस मुकाबले में 61-13 से जीत दर्ज की. इसी जीत की सजा के तौर पर रॉब शेवर को निलंबित कर दिया गया. यह नियम तीन साल पहले बनाया गया था. इसके तहत यह पहला निलंबन है. 

यह भी पढ़ें: बांग्लादेश ने 1000वें टी20 मैच में भारत को हराया, जानें किसने जीते हैं सबसे अधिक मैच 

दरअसल, अमेरिका की इस काउंटी में खेल से जुड़ा एक विशेष नियम ‘लूपसाइडेड स्कोर पॉलिसी’ बनाई गई है. इसी नियम के तहत यह तय किया गया है कि जीत का अंतर 42 प्वाइंट से अधिक नहीं होना चाहिए. रॉब शेवर की टीम की जीत का अंतर 48 प्वाइंट था. यह ‘लूपसाइडेड स्कोर पॉलिसी’ का उल्लंघन है. उन्हें इसी की सजा मिली. 

रॉब शेवर को इस भारी-भरकम जीत के बाद नसाऊ काउंटी की लूपसाइडेड स्कोर कमेटी के सामने पेश होना पड़ा. कमेटी ने फैसला दिया रॉब शेवर अपनी टीम के अजेय स्थिति में आने के बाद भी पहली प्लेइंग XI में शामिल खिलाड़ियों को सही ढंग से सब्स्टिट्यूट नहीं कर सके. इसलिए उन्हें निलंबित किया जाता है. बाद में रॉब ने भी माना कि हां यह सही है. वे ऐसा नहीं कर सके. 

बता दें कि ‘लूपसाइडेड स्कोर पॉलिसी’ का उद्देश्य खेलभावना को बनाए रखना है. इसमें एक प्रावधान यह भी शामिल है कि अगर कोई मजबूत टीम किसी कमजोर टीम के सामने है, तो मुकाबला बेहद एकतरफा नहीं होना चाहिए. मजबूत टीम को इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि उसकी जीत ऐसी हो, जिससे सामने वाली टीम का मनोबल ना टूटे. रॉब की टीम ने इसी प्रावधान का उल्लंघन किया था.