close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

गोपीचंद ने कहा, भारतीय खिलाड़ी जीतेगा ऑल इंग्लैंड खिताब, इन खिलाड़ियों से है उम्मीद

भारतीय खिलाड़ियों के पिछले एक साल के प्रदर्शन को देखते हुए राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद को लगता है कि इस बार ऑल इंग्लैंड खिताब भारतीय खिलाड़ी ही जीतेगा.

गोपीचंद ने कहा, भारतीय खिलाड़ी जीतेगा ऑल इंग्लैंड खिताब, इन खिलाड़ियों से है उम्मीद
गोपीचंद को भारतीय बैडिमिंटन खिलाड़ियों से इस साल काफी उम्मीदें हैं. (फोटो : PTI)

हैदराबाद: भारतीय बैडमिंटन के राष्ट्रीय कोच पुलेला गोपीचंद ने सोमवार को उम्मीद जतायी की आगामी ऑल इंग्लैंड खिताब को कोई भारतीय खिलाड़ी जीत कर 18 साल से चला आ रहा सूखा खत्म करेगा. गोपीचंद इस खिताब को जीतने वाले आखिरी भारतीय खिलाड़ी है जिन्होंने यह कारनामा 2001 में किया था. उन्होंने कहा कि इस साल मार्च में ऑल इंग्लैंड चैम्पियनशिप और अगस्त में विश्व चैम्पियनशिप बड़ी प्रतियोगिताएं है.

साइना-सिंधु से उम्मीद है गोपीचंद को
साइना नेहवाल और पीवी सिंधू ने हाल के दिनों में अच्छा प्रदर्शन किया है और इस पूर्व भारतीय खिलाड़ी ने कहा कि ये दोनों ऑल इंग्लैंड में अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं. उन्होंने कहा, ‘‘मुझे उम्मीद है कि इस बार कोई भारतीय खिलाड़ी ऑल इंग्लैंड टूर्नामेंट को जीतेगा. साइना (नेहवाल), (पीवी) सिंधू और (किदांबी) श्रीकांत अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं. मुझे ऐसा लग रहा कि इस साल ऑल इंग्लैंड में हमारा प्रदर्शन शानदार होगा.’’ भारतीय कोच ने कहा, ‘‘साइना ने हाल ही में इंडोनेशिया ओपन का खिताब जीता है और सिंधू ने भी अच्छा प्रदर्शन किया. इसलिए मुझे लगता है कि दोनों खिलाड़ी अच्छा कर सकते है. उम्मीद है कि हमारा कोई खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करेगा. खिताब जीते हुए 18 साल हो गए और मुझे लगता है कि इस साल हार का सिलसिला टूटेगा. 

श्रीकांत से भी अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद 
गोपीचंद ने इस खिताब को 2001 में जीता था और उनसे पहले प्रकाश पादुकोण ने 1980 में इस उपलब्धि को हासिल किया था. उन्होंने श्रीकांत से भी बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद जतायी जो इन दिनों खराब फार्म में चल रहे है.उन्होंने कहा, ‘‘ श्रीकांत ने अच्छा किया है. वह ऐसा खिलाड़ी है जिससे मुझे इस साल अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है.’’ 

बैंडमिंटन के लिए अच्छे कोच तैयार करना चुनौती
गोपीचंद ने कहा कि देश में बैडमिंटन की बढ़ती लोकप्रियता के साथ खिलाड़ियों की संख्या काफी बढ़ी है लेकिन उस अनुपात में कोच नहीं बढ़े जिस पर ध्यान देने की जरूरत है. कोटक महिंद्रा बैंक के साथ करार के मौके पर पूर्व भारतीय खिलाड़ी ने कहा, ‘‘देश में अच्छे कोचों की काफी कमी है. हमारे लिए सबसे बड़ी चुनौती बेहतरीन कोच की अगली पीढ़ी को तैयार करने की है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘ हाल के दिनों में विदेशी कोच पर निर्भरता बढ़ गयी है ऐसे में यह जरूरी है कि हम घरेलू कोच तैयार करे और यह साझेदारी उस दिशा में एक बड़ा कदम है.’’ 

6 एयर कंडीशंड बैडमिंटन कोर्ट बनेंगे
इस करार के तहत कोटक महिद्रा यहां के पुलेला गोपीचंद अकादमी में एक एक हाई परफोर्मेंस प्रशिक्षण केंद्र का निर्माण करेगा, जिसमें छह एयर कंडीशंड बैडमिंटन कोर्ट और एक स्पोर्ट्स साइंस सेंटर है होगा. इस केंद्र में खिलाड़ियों के सर्वांगीण विकास के लिए न्यूट्रीटनिस्ट, फिजियोथेरेपिस्ट और स्ट्रेंथ एवं कंडिस्निंग विशेषज्ञों के साथ खिलाड़ियों के लिए वैश्विक स्तर के कोच होंगे. कोटक महिद्रा इसके तहत कोच और खिलाडियों के समर्थन के लिए प्रमाणन और फैलोशिप कार्यक्रम भी चलाएगा. 

(इनपुट भाषा)