अचानक जेएलएन स्टेडियम पहुंचे राज्यवर्धन राठौड़; साइ अधिकारियों से कहा, प्रशासकों की मानसिकता छोड़ो

खेल मंत्री बने देश के पहले ओलंपियन 47 साल के राठौड़ ने अधिकारियों से कहा कि ‘सेवा’ को ध्यान में रखते हुए काम किया जाना चाहिए.

अचानक जेएलएन स्टेडियम पहुंचे राज्यवर्धन राठौड़; साइ अधिकारियों से कहा, प्रशासकों की मानसिकता छोड़ो
राठौड़ सुबह लगभग नौ बजकर 15 मिनट पर स्टेडियम पहुंचे, जबकि कई अधिकारी उस समय तक कार्यालय भी नहीं पहुंचे थे. (Rajyavardhan Rathore‏/Twitter)

नई दिल्ली: खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने बुधवार (6 सितंबर) को जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) कार्यालय का औचक दौरा किया और इस दौरान प्रशासकों को संदेश दिया कि उन्हें खिलाड़ियों की जरूरतों के अनुसार ढलना होगा. कुछ दिन पहले मंत्रिमंडल में फेरबदल के बाद विजय गोयल की जगह खेल मंत्रालय का प्रभार संभालने वाले राठौड़ सुबह लगभग नौ बजकर 15 मिनट पर स्टेडियम पहुंचे जबकि कई अधिकारी उस समय तक कार्यालय भी नहीं पहुंचे थे. खेल मंत्री बने देश के पहले ओलंपियन 47 साल के राठौड़ ने अधिकारियों से कहा कि ‘सेवा’ को ध्यान में रखते हुए काम किया जाना चाहिए.

खेल मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया, ‘‘उन्होंने कहा कि साइ और अन्य सभी स्टेडियम को सिर्फ एक मानसिकता के साथ काम करना चाहिए और वह है सेवा. प्रशासक की मानसिकता को खत्म करना होगा. खिलाड़ियों को लगना चाहिए कि उनका ख्याल रखा जा रहा है क्योंकि उनकी जरूरतें सर्वोच्च हैं.’’ मंत्री ने जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम के प्रत्येक कमरे का भी निरीक्षण किया. इसी स्टेडियम में भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) का कार्यालय भी है. उन्होंने सफाई देखने के लिए कैंटीन का भी निरीक्षण किया.

अधिकारी ने कहा, ‘‘मंत्री ने यह भी देखा कि खिलाड़ियों के आंकड़े कैसे तैयार किए जाते हैं और खिलाड़ियों के रिकार्ड के पूरी तरह से डिजिटलीकरण का सुझाव दिया और स्थिति रिपोर्ट मांगी.’’ एक अन्य अधिकारी ने कहा, ‘‘वह काफी हद तक संतुष्ट दिखे लेकिन मुख्य जोर इस बात पर था कि हमारे खिलाड़ियों के साथ होने वाले व्यवहार के प्रति मानसिकता बदली जानी चाहिए.’’

(इनपुट एजंसी से भी)