रियो ओलंपिक: भारत के लिए पदक की आस जगी, मिक्‍सड डबल्‍स के सेमीफाइनल में पहुंचे में सानिया-बोपन्ना

सानिया मिर्जा और रोहन बोपन्ना की भारतीय जोड़ी ने रियो ओलम्पिक के मिश्रित युगल वर्ग के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। अब तक रियो ओलंपिक में एक भी पदक जीतने में नाकाम रहे भारत के लिए अब इस जोड़ी से पदक की आस जगी है। ये जोड़ी अब पदक जीतने से सिर्फ एक कदम दूर है।

रियो ओलंपिक: भारत के लिए पदक की आस जगी, मिक्‍सड डबल्‍स के सेमीफाइनल में पहुंचे में सानिया-बोपन्ना

रियो डी जनेरियो : सानिया मिर्जा और रोहन बोपन्ना की भारतीय जोड़ी ने रियो ओलम्पिक के मिश्रित युगल वर्ग के सेमीफाइनल में जगह बना ली है। अब तक रियो ओलंपिक में एक भी पदक जीतने में नाकाम रहे भारत के लिए अब इस जोड़ी से पदक की आस जगी है। ये जोड़ी अब पदक जीतने से सिर्फ एक कदम दूर है।

सानिया मिर्जा और रोहन बोपन्ना ने ब्रिटेन के एंडी मरे और हीथर वाटसन को आसानी से हराकर रियो ओलंपिक मिश्रित युगल टेनिस के सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया। चौथी वरीयता प्राप्त भारतीय जोड़ी ने क्वार्टर फाइनल मुकाबला सिर्फ 67 मिनट में 6-4, 6-4 से जीता। एक और जीत से भारत का रजत पदक तय हो जाएगा। वहीं सेमीफाइनल में हारने पर सानिया और बोपन्ना के पास कांस्य जीतने का मौका रहेगा।

भारत ने ओलंपिक के इतिहास में टेनिस में अभी तक एक ही पदक जीता है जो 1996 अटलांटा खेलों में लिएंडर पेस को मिला था। मरे अपना एकल क्वार्टर फाइनल जीतने के तुरंत बाद यह मैच खेलने उतरे थे और लय में नहीं दिखे।

दुनिया के नंबर दो खिलाड़ी, तीन ग्रैंडस्लैम विजेता और ओलंपिक में एकल वर्ग में गत चैम्पियन र्मे ने एकल मुकाबलों के लिये अपनी उर्जा बचाकर रखी है। वाटसन वैसे खिलाड़ी दिख ही नहीं रहे थे जिसने इस साल विम्बलडन मिश्रित युगल खिताब जीता था। पहले सेट में वह ग्राउंड स्ट्रोक्स और सर्विस बरकरार रखने के लिये जूझते दिखे। सानिया और बोपन्ना ब्रिटिश खिलाड़ियों से बेहतर टीम थे और कभी भी दबाव में नहीं दिखे। बोपन्ना की सर्विस दमदार थी जबकि सानिया ने बैककोर्ट पर बेहतरीन खेल दिखाया। बोपन्ना ने डबलफाल्ट के साथ शुरूआत की और सानिया ने वॉली पर लगातार गलतियां की जिससे थोड़ा दबाव बन गया। भारतीय जोड़ी ने हालांकि तुरंत वापसी की जब वाटसन ने लव पर अपनी सर्विस गंवाई। ब्रिटिश खिलाड़ियों की कई सहज गलतियों का भारतीयों ने फायदा उठाया और बोपन्ना ने बैकहैंड पर विनर लगाकर पहला ब्रेक प्वाइंट बनाया।

सानिया ने अगले पर ब्रेकप्वाइंट बचाया और स्कोर 2-2 हो गया। वाटसन ने इसके बाद सर्विस गंवा दी और फोरहैंड पर सानिया के बेहतरीन रिटर्न पर भारत ने 4-3 की बढ़त बना ली। अगले सेट में सानिया की दमदार सर्विस पर बढत 5- 3 की हो गई और बोपन्ना ने दो ऐस लगाये जिससे भारत ने पहला सेट जीत लिया। दूसरे सेट में ब्रिटिश टीम ने बेहतर खेला लेकिन भारतीय जोड़ी ने पांचवें गेम में र्मे की सर्विस तोड़कर 5-2 की बढ़त बना ली। इसके बाद तीसरे मैच प्वाइंट पर शानदार स्मैश लगाकर बोपन्ना ने भारतीय जोड़ी की जीत तय कर दी।