close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

टेनिस: रोजर फेडरर बने मियामी ओपन के चैंपियन, 101वां खिताब जीता

स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर (Roger Federer) ने मियामी ओपन (Miami Open) के फाइनल में अमेरिका के जॉन इस्नर (John Isner) को हराया. 

टेनिस: रोजर फेडरर बने मियामी ओपन के चैंपियन, 101वां खिताब जीता
स्विस स्टार रोजर फेडरर ने 2019 में दो खिताब जीते हैं. (फोटो: IANS)

मियामी: स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर (Roger Federer) ने मियामी ओपन टेनिस टूर्नामेंट (Miami Open) का खिताब जीत लिया है. उन्होंने रविवार (31 मार्च) को फाइनल में अमेरिका के जॉन इस्नर (John Isner) को हराया. फेडरर ने मियामी ओपन का खिताबी चौथी बार जीता है. इसके साथ ही उन्होंने अपने एटीपी सिंगल्स खिताबों की संख्या 101 पहुंचा दी है. फेडरर से ज्यादा सिंगल्स खिताब सिर्फ अमेरिका के जिमी कॉनर्स ही जीत सके हैं. उन्होंने अपने करियर में 109 खिताब जीते थे. फेडरर के नाम सबसे अधिक 20 ग्रैंडस्लैम सिंगल्स खिताब (पुरुष) जीतने का रिकॉर्ड भी है. 

रोजर फेडरर ने रविवार को फाइनल में मौजूदा चैंपियन जॉन इश्नर को सीधे सेटों में 6-1, 6-4 से करारी शिकस्त दी. चौथी सीड फेडरर ने मुकाबले की दमदार शुरुआत की और पहले सेट में अमेरिकी खिलाड़ी को वापसी का एक भी मौका नहीं दिया. उन्होंने पहले ही गेम में ही इश्नर की सर्विस ब्रेक की और 24 मिनट में सेट अपने नाम कर लिया. दूसरे सेट में अमेरिकी खिलाड़ी ने बेहतर खेल दिखाया, लेकिन उनके पास फेडरर के दमदार ग्राउंडस्ट्रोक्स का कोई जवाब नहीं था. स्विस खिलाड़ी ने पूरे मैच में कुल 17 विनर दागे, जिसमें छह बैकहैंड शामिल थे. 37 वर्षीय फेडरर का यह 28वां मास्टर्स खिताब है. 

यह भी पढ़ें: IPL-12 : दिल्ली और पंजाब को तीसरी जीत की तलाश, यह हो सकती है प्लेइंग XI

रोजर फेडरर ने मुकाबले को महज एक घंटे और तीन मिनट में ही जीत लिया. उन्होंने कहा, ‘मेरे लिए यह बेहतरीन सप्ताह रहा है. मैं अभी बहुत खुश हूं, यह अविश्वश्नीय है. मैंने यहां पहली बार 1999 में खेला था और 2019 में भी मैं यहीं हूं. यह मेरे लिए बहुत मायने रखता है.’ रोजर फेडरर का यह 2019 का दूसरा खिताब है. उन्होंने इससे पहले दुबई में खिताबी जीत दर्ज की थी. 

इससे पहले ऑस्ट्रेलिया की एश्ले बार्टी (Ashleigh Barty) ने मियामी ओपन का महिला सिंगल्स का खिताब अपने नाम किया. उन्होंने फाइनल में चेक रिपब्लिक की कैरोलिना प्लिस्कोवा (Karolina Pliskova) को सीधे सेटों में 7-6 (7-1), 6-3 से शिकस्त दी. अपने करियर की इस खिताबी जीत के साथ ही बार्टी ने डब्ल्यूटीए रैंकिंग में टॉप-10 खिलाड़ियों में अपना स्थान सुनिश्चित कर लिया है. 22 वर्षीय एश्ले बार्टी, सामंथा स्टोसुर के बाद ऐसा करने वाली दूसरी आस्ट्रेलियाई खिलाड़ी हैं. वे प्रतियोगिता की शुरुआत से पहले 11वें नंबर पर काबिज थीं. 

(इनपुट: आईएएनएस)