VIDEO : सिर्फ धोनी ही नहीं, फेडरर भी बदलते हैं हर विंबलडन से पहले अपना हेयरस्टाइल

क्रिकेट के मैदान पर महेंद्र सिंह धोनी के कई रूप देखे गए हैं, कभी सिर पर लम्बे बाल, तो कभी छोटे बाल. 2011 वर्ल्ड कप में जीत के बाद तो धोनी ने अपने बालों को अर्पण भी कर दिया था. इसके बाद भी अब तक धोनी कई बार अपना हेयरस्टाइल बदल चुके हैं.

VIDEO : सिर्फ धोनी ही नहीं, फेडरर भी बदलते हैं हर विंबलडन से पहले अपना हेयरस्टाइल
आठ बार विंबलडन कप उठाने वाले रोजर फेडरर के आठ हेयरस्टाइल (PIC : TWITTER)

नई दिल्ली : क्रिकेट के मैदान पर महेंद्र सिंह धोनी के कई रूप देखे गए हैं, कभी सिर पर लम्बे बाल, तो कभी छोटे बाल. 2011 वर्ल्ड कप में जीत के बाद तो धोनी ने अपने बालों को अर्पण भी कर दिया था. इसके बाद भी अब तक धोनी कई बार अपना हेयरस्टाइल बदल चुके हैं.

VIDEO : जब 8वीं बार विंबलडन चैंपियन बनने वाले रोजर फेडरर की आंखों से बहने लगे आंसू

आपको बता दें कि धोनी की तरह ही टेनिस के सुपरस्टार रोजर फेडरर भी हेयरस्टाइल बदलने के मामले में कम नहीं है. फेडरर अब तक आठ बार विंबलडन कप को अपने हाथों में उठा चुके हैं और आठों बार उनका हेयरस्टाइल अलग रहा है. 

अपने स्टाइल और खेल के लिए ही नहीं, अपने स्वभाव के कारण भी फेडरर काफी सम्मान पाते हैं. 'कैप्टन कूल' की उपाधि पाने वाले धोनी की तरह फेडरर की गिनती सबसे शालीन खिलाड़ियों में होती है. वे हार हो या जीत सामने वाले खिलाड़ी से बेहद सम्मान से मिलता है. 

2005 में इंटरनेशल क्रिकेट में अपने डेब्यू के बाद धोनी ने जितना तहलका अपनी बैटिंग से मचाया उतना ही कंधे तक लंबे अपने बालों से भी वह चर्चा में छाए रहे. लड़के उनकी तरह बाल बढ़ाने लगे, लड़कियां धोनी के इस लुक की दीवानी हो उठीं. 2007 में पाकिस्तानी दौरे पर तो तब के राष्ट्रपति परवेज मुफर्रफ ने धोनी के लंबे बालों की तारीफ करते हुए उन्हें कभी भी इसे न कटाने की सलाह भी दे दी थी.

धोनी ने 2008 में अपने इस नए फेड्स ऑल साइड लुक से फैंस को चौंका दिया था. नी ने जल्द ही एक बार फिर से अपना लुक बदला और इस बार उन्होंने बज हेयर कट अपनाया. इस लुक में बालों को लंबाई काफी छोटी रखी जाती है. धोनी का ये लुक भी काफी फेमस हुआ.

2011 के वर्ल्ड कप में टीम इंडिया के चैंपियन बनने के बाद कप्तान धोनी ने अपना मुंडन करा लिया, लेकिन धोनी का जलवा देखिए फैंस को ये लुक भी खूब भाया. वैसे तो स्पाइक्स लुक काफी पुराना है लेकिन जब 2012 में धोनी ने ये लुक अपनाया तो ये कुछ ज्यादा ही चर्चा में आ गया.

2013 में धोनी का एक नया लुक सामने आए, जिसे देखकर हर कोई हैरान रह गया. धोनी ने इस बार मोहाक कट करवाया था. इसमें दोनों तरफ किनारे के बालों को पूरी तरह शेव कर दिया जाता है जबकि बीच में बालों को बड़ा रखा जाता है.

014 में टीम इंडिया जब दक्षिण अफ्रीका दौर पर गई तो फैंस के सामने धोनी का एक और नया लुक आया, इस बार धोनी ने क्रू कट कराया, जिसमें साइड से दिखते उनके सफेद बाल उनके अनुभवी होते जाने को दिखा रहे थे. 2016 में एक बार फिर से धोनी एक नए लुक में नजर आए और उन्होंने इस बार बिल्कुल ही सिंपल देसी लुक अपना लिया, उनके इस अंदाज को भी लोगों ने खूब पसंद किया.

धोनी की तरह फेडरर ने भी 2003 में लंबे बालों के साथ पहली बार विंबलडन कप को हाथों में उठाया था. 2003 के बाद से 2017 तक फेडरर के कई लुक सामने और उनके फैंस को भी जमकर पसंद आए.

स्विट्जरलैंड के दिग्गज टेनिस स्टार रोजर फेडरर ने रविवार को क्रोएशिया के मारिन सिलिक को आसानी से हराते हुए साल के तीसरे ग्रैंड स्लैम-विंबलडन का पुरुष एकल खिताब जीत लिया. ऑल इंग्लैंड क्लब में फेडरर की यह रिकॉर्ड आठवीं खिताबी जीत है और इसके साथ ही फेडरर ने ओपन एरा में पीट सैंप्रास और ओवरऑल ब्रिटेन के महान खिलाड़ी विलियम रेनशॉ के रिकॉर्ड को ध्वस्त किया. सैंप्रास और रेनशॉ के नाम सात-सात बार विंबलडन जीतने का रिकॉर्ड है.

यह फेडरर का 19वां ग्रैंड स्लैम खिताब है और सर्वाधिक ग्रैंड स्लैम खिताब जीतने के मामले में वह स्पेन के राफेल नडाल (15 खिताब) से चार खिताब आगे निकल आए हैं. फेडरर ने ओपन एरा में सर्वाधिक आयु में विंबलडन खिताब जीतने का रिकॉर्ड भी कायम किया. उन्होंने 35 साल की उम्र में ये खिताब जीता है.

बता दें कि पने करियर का 19वां ग्रैंड स्लैम खिताब अपने नाम करने की दिशा में फेडरर ने 2014 में जापान के केई निशिकोरी को हराकर अमेरिकी ओपन जीत चुके सिलिक को 6-3, 6-1, 6-4 से हराया. 2014 से 16 के बीच तीन बार विंबलडन क्वार्टर फाइनल में पहुंचकर हारने वाले सिलिक ने पहली बार इस अग्रणी ग्रास कोर्ट टूर्नामेंट के फाइनल में जगह बनाई थी, लेकिन ग्रास कोर्ट का बादशाह कहे जाने वाले फेडरर ने उन्हें पहली बार विंबलडन खिताब जीतने से रोक दिया.