आखिर नए कोच रवि शास्त्री ने ऐसा क्यों कहा, शास्त्री और कुंबले आते-जाते रहेंगे...

अनिल कुंबल के बाद अब रवि शास्त्री को टीम इंडिया का नया हेड कोच चुना जा चुका है. श्रीलंका दौरे से पहले हुए प्रेस कॉन्फ्रेंस में रवि शास्त्री ने  अनिल कुंबले पर कोई बात नहीं की.  

आखिर नए कोच रवि शास्त्री ने ऐसा क्यों कहा, शास्त्री और कुंबले आते-जाते रहेंगे...
भरत अरुण को गेंदबाजी कोच बनाए जाने पर बोले रवि शास्त्री

नई दिल्ली : अनिल कुंबल के बाद अब रवि शास्त्री को टीम इंडिया का नया हेड कोच चुना जा चुका है. श्रीलंका दौरे से पहले हुए प्रेस कॉन्फ्रेंस में रवि शास्त्री ने  अनिल कुंबले पर कोई बात नहीं की.  

श्रीलंका दौरे पर जा रही भारतीय टीम की की इस प्रेस कांफ्रेंस में शास्त्री ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, किसी भी निजी व्यक्ति के मुकाबले टीम की गठन अहम है. शास्त्री और कुंबले आएंगे और चले जाएंगे. लेकिन टीम इंडिया हमेशा बनी रहेगी. 

शास्त्री ने भरत अरुण को बॉलिंग कोच बनाए जाने का भी बचाव किया. उन्होंने कहा, भरत अरुण टीम के सदस्यों और पूरी व्यवस्था को मुझसे भी बेहतर ढंग से जानता है. क्योंकि वह टीम के साथ पिछले पंद्रह सालों से है. भारत के पूर्व कप्तान रवि शास्त्री ने यह भी कहा कि पिछले श्रीलंका दौरे के मुकाबले अब वह परिपक्व हो गये हैं. उन्होंने कहा कि पिछले दो सप्ताह ने बेहद मैच्योर बनाया है. 

भरत अरुण को टीम इंडिया का गेंदबाजी कोच बनाने के बाद हुए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में रवि शास्त्री ने सौरव गांगुली पर भी तंज कसा था. भरत अरुण के गेंदबाजी कोच बनने के बाद रवि शास्‍त्री ने कहा, 'मैं पहले से ही इस बात को लेकर पूरी तरह स्‍पष्‍ट था कि मुझे अपनी टीम में कौन चाहिए. मैं इंग्‍लैंड में टेनिस देख रहा था उस समय भी मेरे दिमाग में यह साफ था कि मेरी कोर टीम में कौन रहेगा.' 

वहीं, जहीर और द्रविड़ के बारे में उन्‍होंने कहा कि सब कुछ इन दोनों दिग्‍गजों की उपलब्‍धता पर निर्भर करता है. यह देखना होगा कि वे टीम को कितने दिन दे पाते हैं. निश्चित रूप से उनके इनपुट टीम इंडिया के लिए अमूल्‍य होंगे और इन दोनों का स्‍वागत है. रवि शास्‍त्री यह कहने से भी नहीं चूके कि उनकी इन दोनों दिग्‍गज क्रिकेटरों से बात हुई है.

गौरतलब है कि गेंदबाजी कोच को लेकर शास्त्री और गांगुली में काफी तनातनी चल रही थी. सौरव जहीर खान को गेंदबाजी कोच बनाना चाहते थे तो रवि की पसंद भरत अरुण थे. 

गौरतलब है कि सौरव गांगुली, सचिन तेंदुलकर और वीवीएस लक्ष्‍मण की तीन सदस्‍यीय क्रिकेटर सलाहकार समिति ने जहीर की गेंदबाजी कोच और द्रविड़ की बल्लेबाजी कोच के तौर पर नियुक्ति की सिफारिश की थी. समिति ने यह भी कहा था कि इन दोनों के बारे में मुख्‍य कोच शास्‍त्री से बात करके सहमति ले ली गई है.

लेकिन, मंगलवार का घटनाक्रम बदला हुआ रहा और भरत अरुण की नियुक्ति को लेकर रवि शास्‍त्री अपनी बात मनवाने में सफल रहे.