साइना नेहवाल साल के आखिर में PBL कराने पर खुश नहीं, बताई यह वजह

साइना नेहवाल का कहना है कि साल के आखिर में पीबीएल खेलना शरीर पर असर डालता है

साइना नेहवाल साल के आखिर में PBL कराने पर खुश नहीं, बताई यह वजह
साइना नेहवाल का मानना है कि पीबीएल सबसे कठिन टूर्नामेंट में से एक है. (फाइल फोटो)

मुंबई: भारत की स्टार बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल का मानना है कि साल भर के व्यस्त सत्र के बाद आखिर में प्रीमियर बैडमिंटन लीग खेलने का शरीर पर असर पड़ता है. साइना ने कहा, ‘‘हर कोई अपना शत प्रतिशत देना और जीतना चाहता है. लेकिन यह साल के आखिर में होती है और कई बार शरीर पर असर पड़ता है. खिलाड़ियों के लिये यह आसान नहीं है. यह सबसे कठिन टूर्नामेंट में से एक है लेकिन सभी अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हैं.’’ 

नौ टीमों की लीग में नार्थ ईस्टर्न वारियर्स की कप्तान साइना से पूछा गया था कि खिलाड़ी क्या सुपर सीरिज टूर्नामेंटों की तरह पीबीएल में प्रदर्शन कर सकते हैं. साइना ने कहा, ‘‘यह एक टूर्नामेंट की तरह नहीं बल्कि टीम स्पर्धा है जिसे खेलने में मजा आता है. हमारे लिए यह त्यौहार की तरह है. इससे युवाओं को भी फायदा होता है और इसकी वजह से खेल का प्रचार हो रहा है.’’ 

खिलाड़ियों को प्रदर्शन सुधारने में मदद मिलती है
ओलंपिक और विश्व चैम्पियन कैरोलिना मारिन ने कहा, ‘‘दबाव एकदम अलग तरह का है. हमें अपने बारे में नहीं टीम के बारे में सोचना है.’’ राष्ट्रीय बैडमिंटन कोच पुलेला गोपीचंद ने कहा कि इस लीग से किदाम्बी श्रीकांत जैसे खिलाड़ियेां को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अपने प्रदर्शन में सुधार में मदद मिली है. उन्होंने कहा, ‘‘श्रीकांत का ही उदाहरण लीजिए. इस लीग से उसे कितना फायदा मिला है. इससे युगल खिलाड़ियों को भी बहुत फायदा मिला है.’’

शनिवार से शुरू हो रहा है पीबीएल का चौथा सीजन 
कैरोलिना मारिन, पी वी सिंधू समेत कई शीर्ष सितारे शनिवार से यहां शुरू हो रहे प्रीमियर बैडमिंटन लीग के चौथे सीजन में नजर आयेंगे. नौ टीमों और 17 देशों के 90 खिलाड़ियों की इस लीग का समापन 13 जनवरी को बेंगलूरू में होगा. इसमें डेनमार्क के विक्टर एक्सेलसन, कोरिया के ली योंग दाए और भारत के एच एस प्रणय, के श्रीकांत और साइना नेहवाल भी भाग लेंगे.

PBL-4

मारिन की अगुवाई में नई टीम है पुणे की
लीग में पुणे सेवन एसेस नई टीम है जिसकी अगुवाई मारिन करेंगी. नौ टीमें दिल्ली डैशर्स, अहमदाबाद स्मैश मास्टर्स, अवध वारियर्स, बेंगलूरू रैप्टर्स, मुंबई राकेट्स, हैदराबाद हंटर्स, चेन्नई स्मैशेस, नार्थ ईस्टर्न वारियर्स और पुणे सेवन एसेस हैं जो छह करोड़ की ईनामी राशि के लिये भिडेंगी. विजेता को तीन करोड़ रूपये और उपविजेता को डेढ करोड़ रूपये मिलेंगे. तीसरे और चौथे स्थान की टीमों को 75. 75 लाख रूपये दिये जायेंगे. साइना नार्थ ईस्टर्न वारियर्स की कप्तान है जबकि सिंधू हैदराबाद हंटर्स की कमान संभालेंगी.

(इनपुट भाषा)