close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सुदीरमन कप: चीन की बादशाहत फिर कायम, जापान को हराकर 11वीं बार चैंपियन बना

जापान को अपने विश्व चैंपियन खिलाड़ी केंटो मोमोटा से बड़ी उम्मीदें थीं. मोमोटा के उलटफेर का शिकार होते ही जापान की उम्मीदें भी खत्म हो गईं. 

सुदीरमन कप: चीन की बादशाहत फिर कायम, जापान को हराकर 11वीं बार चैंपियन बना
विश्व चैंपियन केंटो मोमोटा ने चीन के शी युकी के खिलाफ एक घंटे नौ मिनट तक संघर्ष किया, लेकिन हार नहीं टाल सके. (फोटो: IANS)

नानिंग: मेजबान चीन ने सुदीरमन कप (Sudirman Cup) का खिताब जीतकर इंटरनेशनल बैडमिंटन में अपना दबदबा फिर कायम कर लिया है. उसने फाइनल में जापान को 3-0 से हराया. बैडमिंटन प्रेमियों को जापान और चीन के इस मुकाबले में कड़ी टक्कर की उम्मीद थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. चीन ने 2015 के बाद यह खिताब जीता है. इससे पहले दक्षिण कोरिया चैंपियन था. 

सुदीरमन कप बैडमिंटन (Sudirman Cup Badminton) का मिक्स्ड टीम इवेंट है. इसमें महिला और पुरुष दोनों खिलाड़ी हिस्सा लेते हैं. 1989 में शुरू हुए इस टूर्नामेंट के 16 एडीशन हो चुके हैं. इनमें से 11 खिताब चीन ने जीते हैं. दक्षिण कोरिया ने चार और इंडोनेशिया ने एक बार यह खिताब जीता है. 

यह भी पढ़ें: World Cup 2019: इस कोच ने मुंबई को IPL चैंपियन बनाया, पर देश की टीम से जुड़ने से मना किया

जापान ने कभी भी सुदीरमन कप नहीं जीता है और इस बार भी उसे 0-3 से हार का मुंह देखना पड़ा. चीन ने जापान के खिलाफ पुरुष डबल्स के जरिये 1-0 से बढ़त बना ली. इसके बाद चेन युफेई और अकाने यामागुची (Akane Yamaguchi) के बीच महिला सिंगल्स का मुकाबला हुआ. इसे चीन की चेन युफेई (Chen Yufei) ने 17-21, 21-16, 21-17 से जीता. इसके साथ ही चीन की बढ़त 2-0 हो गई. 

Akane Yamaguchi
अकाने यामागुची ने हारने से पहले एक घंटे 21 मिनट संघर्ष किया. (फोटो: IANS)

पहले दो मुकाबले हारने के बाद जापान की उम्मीदें केंटो मोमोटा (Kento Momota) पर लगी थीं, लेकिन वे भी दबाव में बिखर गए. केंटो मोमोटा दुनिया के नंबर-1 खिलाड़ी हैं. जापान को मुकाबले में बने रहने के लिए मोमोटा की जीत की दरकार थी. लेकिन वे चीन के शी युकी (Shi Yuqi) से हार गए. दुनिया के नंबर-2 खिलाड़ी शी युकी ने विश्व चैंपियन केंटो मोमोटा को 15-21, 21-5, 21-11 से हराया. यह मुकाबला एक घंटे नौ मिनट तक चला. 

शी युकी की जीत के साथ ही चीन की बढ़त 3-0 हो गई. इस कारण मिक्स्ड डबल्स और महिला डबल्स के मुकाबले नहीं खेले गए. भारतीय टीम इस टूर्नामेंट में चीन और मलेशिया से हारकर खिताबी रेस से बाहर हो गई थी.