close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

डेविस कप: कश्मीर मसले से पड़ सकता है पाकिस्तान से मुकाबले पर फर्क, भारत ने लिखा पत्र

डेविस कप में भारत और पाकिस्तान का मुकाबला 14 और 15 सितंबर को इस्लामाबाद में प्रस्तावित है. 

डेविस कप: कश्मीर मसले से पड़ सकता है पाकिस्तान से मुकाबले पर फर्क, भारत ने लिखा पत्र
लिएंडर पेस ने डेविस कप में भारत के लिए सबसे अधिक मैच जीते हैं. (फोटो: PTI)

नई दिल्ली: भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाले डेविस कप (Davis Cup) मुकाबले में संकट के बादल मंडरा रहे हैं. अखिल भारतीय टेनिस संघ (एआईटीए) इस्लामाबाद में होने वाले इस मुकाबले को लेकर सुरक्षा इंतजाम के बारे में चिंतित है. एआईटीए (AITA) ने अंतरराष्ट्रीय टेनिस महासंघ (आईटीएफ) को इस बारे में पत्र लिखा है. भारत ने हालांकि मैच का स्थान बदलने की मांग नहीं की है. भारत और पाकिस्तान का यह मुकाबला 14 और 15 सितंबर को प्रस्तावित है. 

इस बात की जानकारी एआईटीए (All India Tennis Association) के सचिव हिरनमॉय चटर्जी ने दी. चटर्जी ने कहा, ‘डेविस कप टीम वहां के पहले के सुरक्षा इंतजामात से खुश है. लेकिन यह कश्मीर मुद्दे के उठने से पहले की बात है. इसलिए अब हमने वहां की सुरक्षा व्यवस्था की समीक्षा करने के लिए पत्र लिखा है.’

इससे पहले चटर्जी ने कहा था कि पाकिस्तान की स्थिति भारतीय टीम के लिए खेलने के लिहाज से अनुकूल नहीं है. चटर्जी ने कहा था, ‘हम दो दिन का इंतजार करेंगे कि स्थिति किस तरह की रहती है. इसके बाद अगर हो सका तो आईटीएफ से बात करेंगे और कोशिश करेंगे कि स्थान बदला जा सके और कोई तटस्थ स्थान पर मैच कराया जाए. इस समय स्थिति खिलाड़ियों के लिहाज से अच्छी नहीं है कि वो लोग पाकिस्तान जाकर खेल सकें.’

अगर भारत ने खेलने से मना कर दिया तो उस पर हांगकांग की तरह प्रतिबंध लग सकता है, जिसने पाकिस्तान में खेलने से इनकार कर दिया था. इसी कारण हांग कांग की टीम निचली डिविजन में चली गई थी. भारतीय टेनिस टीम इससे पहले 1964 में पाकिस्तान गई थी और वहां 4-0 से जीत हासिल की थी. 

भारत और पाकिस्तान के आगामी मुकाबले का ड्रॉ फरवरी में आ गया था और तभी पुलवामा में आतंकवादी हमला हुआ था. इसलिए इस तरह की चर्चा तभी से हो रही थी कि भारतीय टीम पाकिस्तान जा कर खेलेगी या नहीं. लेकिन जब आईटीएफ ने पाकिस्तान को मैच की मेजबानी सौंपी तो एआईटीए ने खिलाड़ियों को चुनने की प्रक्रिया शुरू कर दी. खेल मंत्रालय ने भी भारत के पाकिस्तान जाकर खेलने के रास्ते को साफ कर दिया है. दोनों टीमें डेविस कप में 2006 से नहीं भिड़ी हैं.