close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'कोई भी पाकिस्तानी बैट्समैन कोहली से तुलना के लायक नहीं'

पाकिस्तान क्रिकेट जगत भले ही उमर अकमल को बेहतरीन बल्लेबाजों में गिनता हो लेकिन पूर्व हरफनमौला मुदस्सर नजर का मानना है कि अकमल समेत कोई भी पाकिस्तानी बल्लेबाज भारतीय स्टार विराट कोहली से तुलना के लायक नहीं है ।

'कोई भी पाकिस्तानी बैट्समैन कोहली से तुलना के लायक नहीं'

पर्थ : पाकिस्तान क्रिकेट जगत भले ही उमर अकमल को बेहतरीन बल्लेबाजों में गिनता हो लेकिन पूर्व हरफनमौला मुदस्सर नजर का मानना है कि अकमल समेत कोई भी पाकिस्तानी बल्लेबाज भारतीय स्टार विराट कोहली से तुलना के लायक नहीं है ।

नजर ने कहा ,‘ विराट और अकमल में बहुत फर्क है । अकमल और अहमद शहजाद दोनों ने कुआलालम्पुर में अंडर 19 विश्व कप खेला था जिसमें विराट ने भारत की कप्तानी की थी । उस समय भी विराट अलग ही दर्जे का खिलाड़ी था ।’’ उन्होंने कहा ,‘ वह भले ही प्रतिभाशाली हो लेकिन विराट की श्रेणी का बल्लेबाज नहीं है । दोनों के बीच जमीन आसमान का फर्क है ।’ संयुक्त अरब अमीरात टीम के बल्लेबाजी सलाहकार नजर ने कहा कि विराट, एबी डिविलियर्स और डेविड वार्नर इस समय विश्व क्रिकेट के तीन सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज हैं ।

पाकिस्तानी क्रिकेट के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा ,‘ आप सभी को दिख रहा है कि पाकिस्तान क्रिकेट की क्या हालत है । मौजूदा जमात के खिलाड़ियों के जाने के बाद पता नहीं अगली जमात के खिलाड़ी कहां से आयेंगे ।’ नजर ने कहा,‘ मैं फिर भी एक सकारात्मक पहलू देखता हूं मसलन पाकिस्तान की तेज गेंदबाजी दूसरी टीमों से बहुत अच्छी है । विडंबना यह है कि पिछले कुछ अर्से में आये हमारे सभी तेज गेंदबाज चोटिल होते रहते हैं । हमारा सर्वश्रेष्ठ तेज गेंदबाज जुनैद खान भी चोटिल है ।’

पाकिस्तान की नाकामी के कारणों के बारे में नजर ने कहा ,‘ पाकिस्तान के लगातार अच्छा नहीं खेल पाने के कई कारण हैं । भारत की तुलना में पाकिस्तान की बेंच स्ट्रेंथ कुछ नहीं है । भारत का रणजी ट्राफी ढांचा हमेशा से मजबूत था और आईपीएल के आने से उसकी बेंच स्ट्रेंथ और मजबूत हुई है । भारत की आर्थिक ताकत से उसे अत्याधुनिक अकादमियों को सुचारू रूप से चलाने में मदद मिली है ।’ उन्होंने कहा कि पाकिस्तान क्रिकेट के सुनहरे दिन जा चुके हैं और जल्दी वापिस नहीं आने वाले।

उन्होंने कहा ,‘उस समय हमारी ताकत बेहतरीन खिलाड़ी थे । उस दौर में कैसे खिलाड़ी हुआ करते थे.. इमरान खान, जावेद मियांदाद, जहीर अब्बास, सलीम मलिक, वसीम अकरम । उस समय पाकिस्तान के शीर्ष खिलाड़ी काउंटी क्रिकेट खेलते थे ।’’ नजर ने कहा ,‘ पाकिस्तान में उस समय काफी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट होता था लेकिन अब हालात दीगर हैं । पाकिस्तान में घरेलू क्रिकेट का कोई उचित ढांचा नहीं है ।’