US Open: चैंपियन बनने के बाद बोलीं बियांका, ‘आसान नहीं था, लेकिन मुझे विश्वास था’

कनाडा की बियांका एंड्रेस्‍क्‍यू ने सेरेना विलियम्स को यूएस ओपन के फाइनल में हराकर अपना पहला ग्रैंडस्लैम खिताब जीत लिया. 

US Open: चैंपियन बनने के बाद बोलीं बियांका, ‘आसान नहीं था, लेकिन मुझे विश्वास था’
बियांका एंड्रेस्क्यू का यह पहला ही ग्रैंड स्लैम टाइटल है. (फोटो : IANS)

न्यूयॉर्क (अमेरिका): केवल 19 साल की उम्र में ही अपने करियर का पहला ग्रैंड स्लैम जीतने वाली नई यूएस ओपन चैंपियन बियांका एंड्रेस्क्यू (Bianca Andreescu) का कहना है कि उनकी कड़ी मेहनत ने आखिरकार नतीजा दे ही दिया. एंड्रेस्क्यू ने शनिवार को ही 23 बार की ग्रैंड स्लैम चैंपियन सेरेना विलियम्स को 6-3-7-5 से मात देकर खिताब जीता. 

बहुत सारी बातें सोच रही थी
मैच के बाद एंड्रेस्क्यू ने कहा, “ मैं मैच से पहले बहुत सारी बातें सोच रही थी. ऐसा पहले किसी मैच में नहीं हुआ. फाइनल में सेरेना के खिलाफ खेलते हुए. जब से आज जागी, तब से मैं जितनी सांस ले सकती थी मैंने सांस लेने की कोशिश की. ऐसा मैंने पूरे मैच में करने की कोशिश की. यह आसान नहीं था, लेकिन मुझे लगता हैकि इस पूरे साल मैं यही कर रही थी.”

यह भी पढ़ें: US Open: बियांका एंड्रेस्‍क्‍यू ने रचा इतिहास, सेरेना को हराकर जीता पहला ग्रैंड स्लैम

सबसे कम उम्र की दूसरी ग्रैंड स्लैम चैंपियन
कनाडा की 19 साल की बियांका ने सभी को चौंकाते हुए सेरेना विलियम्स को यूएस ओपन के फाइनल में हराकर अपना पहला ग्रैंड स्लैम खिताब जीता. इस जीत के साथ ही वे ग्रैंडस्‍लैम जीतने वाली दूसरी सबसे कम उम्र की विजेता बन गई हैं. सबसे कम उम्र में ग्रैंड स्लैम जीतने का रिकॉर्ड रूस का मारिया शारापोवा के नाम है. वे 2006 में चैंपियन बनीं थी. बियांका ने सेमीफाइनल में स्विट्जरलैंड की बेनसिच को हराकर फाइनल में प्रवेश किया किया था. 

सेरेना की वापसी का डर था
बियांका ने कहा, ”मुझे कुछ संदेह थे क्योंकि मैंने उन्हें 5-0, 5-1 और 5-2 के स्कोर से वापसी कर सेट जीतते हुए देखा है, मैंने खुद को केवल अपने रणनीति पर कायम रहने को कहा. उन्होंने बहुत अच्छी शुरुआत की. मुझे लगता है कि उन्हें दर्शकों के समर्थन से भी मदद मिली. मैं दर्शकों की आवाज दबाने की कोशिश कर रही थी. मैं अपनी खुद की आवाज भी मुश्किल से सुन पा रही थी. आवाजें वाकई बहुत तेज थीं. लेकिन मुझे लगता है कि यही इस टूर्नामेंट को खास बनाता है.”

चैंपियन हैं सेरेना
एंड्रेस्क्यू ने कहा, “हालांकि यह बेशक आसान नहीं था, खासतौर पर जब वे दूसरे सेट में वापसी की कोशिश कर रही थी. यह अपेक्षित ही था. वे चैंपियन हैं. और चैंपियन यही करते भी हैं. ऐसा उन्होंने अपने करियर में अनेकों बार किया है. मैं खुद को पूरी तरह से काबू में रखने की कोशिश करती रही. सबकुछ रोक पाना बहुत मुश्किल है. लेकिन मुझे लगता है कि मैंने बढ़िया काम किया.”

यूएस ओपन फाइनल में सेरेना की यह लगातार दूसरी हार है. अपने घर में सेरेना 24वें ग्रैंडस्लैम की कोशिश में जुटी थी ताकि वह मारग्रेट कोर्ट के रिकार्ड की बराबरी कर लें लेकिन वह कामयाब नहीं हो पाईं. बियांका सबसे तेजी से कोई ओपन टूर्नामेंट जीतने वाली खिलाड़ी बन गई है. इससे पहले मोनिका सेलेस ने 1990 में अपने चौथे टूर्नामेंट मं रोनाल्ड गैरोस ट्रॉफी जीती थी.
(इनपुट आईएएनएस)