close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: सेमीफाइनल में मिली हार पर मैरीकॉम ने उठाए सवाल, ट्विटर पर शेयर किया पूरा मैच

World Boxing championships: मैरी कॉम पहली पार 51 किलो वर्ग में अपनी किस्मत आजमा रही थीं, लेकिन सेमीफाइनल में उन्हें हार का सामना करना पड़ा जिसके फैसले का वे विरोध कर रही हैं.

VIDEO: सेमीफाइनल में मिली हार पर मैरीकॉम ने उठाए सवाल, ट्विटर पर शेयर किया पूरा मैच
एमसी मैरीकॉम सेमीफाइनल में अंक दिए जाने के तरीके संतुष्ट नहीं हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: 48 किग्रा वर्ग में छह बार विश्व चैंपियन रह चुकीं भारत की एमसी मैरीकॉम (MC Mary Kom) इस बार विश्व महिला मुक्केबाजी चैम्पियनशिप (World Boxing championships) के 51 किलोवर्ग में अपनी किस्मत आजमा रहीं थी. वे सफलता पूर्वक सेमीफाइनल में पहुंच भी गई थीं, लेकिन सेमीफाइनल का नतीज मैरी कॉम के खिलाफ गया. मैरी कॉम इस नतीजे से मैरीकॉम संतुष्ट नहीं थी. 

बीएफआई ने भी की थी अपील
 मैच में अधिकारियों ने जिस तरह से उन्हें अंक दिए उससे मैरी कॉम काफी हैरान नजर आईं. भारतीय बॉक्सिंग फेडरेशन (Boxing Federation of India) ने इस मामले में अपील की और यलो कार्ड दिया. लेकिन बीएफआई की इस अपील को खारिज कर दिया गया. इसके बाद मैरी कॉम ने पूरे मैच का वीडियो ही ट्विटर पर शेयर कर दिया और मैच में अंक दिए जाने पर सावल उठा दिए. मैरी ने ट्वीट में खेल मंत्री और प्रधानमंत्री को भी टैग किया. 

यह भी पढ़ें: World Boxing championships: सेमीफाइनल में हारीं मैरीकॉम, मिला नई कैटेगरी का पहला मेडल

मैरी ने अपने ट्वीट में कहा, "कैसे और क्यों, पूरी दुनिया तो जाने कि फैसला कितना सही और कितना गलत था...".

क्यों खारिज हुई अपील
वहीं बीएफआई के एक अधिकारी ने अपील के फैसले का नतीजा आने का इंतजार करने की बात की थी. एआईबीए के निर्देशों के अनुसार, एक खिलाड़ी तभी अपील कर सकता है जब वह 2:3 या 1:3 के अंतर से मैच हारा हो. मैरी 1:4 से मुकाबला हारी थी इसलिए तकनीकी समिति ने उनके पीले कार्ड को स्वीकार नहीं किया. मैरी का ट्वीट अपील खारिज होने के बाद ही आया है. 

किससे था मैरी का मुकाबला
 मैरीकॉम (MC Mary Kom) को  51 किलोग्राम भारवर्ग के सेमीफाइनल तुर्की की बुसेनांज कारिकोग्लू के खिलाफ हार झेलनी पड़ी. इस हार के साथ ही छह बार की विश्व चैम्पियन मैरी को इस बार ब्रॉन्ज मेडल से ही संतोष करना पड़ा. कारिकोग्लू ने भारतीय खिलाड़ी को 4-1 से शिकस्त दी.

क्या रहा नतीजा
बाउट खत्म होने के बाद पांच जजों ने कारिकोग्लू के पक्ष में 28-29, 30-27, 29-28, 29-28, 30-27 से फैसला सुनाया. इस हार से पहले उन्होंने केवल एक बार इस प्रतियोगिता में स्वर्ण के अलावा कोई और पदक जीता है. 2001 में टूर्नामेंट के फाइनल में उन्हें हार झेलनी पड़ी थी.
(इनपुट एएनआई/आईएएनएस)