close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

VIDEO: मिलिए देश के नए 'खली' से, WWE में करेंगे भारत का नाम रोशन

उत्तर प्रदेश के रिंकू सिंह अब अमेरिका में अपनी ताकत दिखाकर भारत का नाम रोशन करेगा. 

VIDEO: मिलिए देश के नए 'खली' से, WWE में करेंगे भारत का नाम रोशन
6 फीट 3 इंच लम्बे और 102 किलोग्राम वजनी हैं रिंकू सिंह (PIC : Facebook)

नई दिल्ली: 'द ग्रेट खली', जिंदर महल और कविता देवी के बाद अब उत्तर प्रदेश के एक छोटे से गांव का नौजवान अब डब्ल्यूडब्ल्यूई (WWE) में अपना दमखम दिखाने की तैयारी कर रहा है. भदोही जिले के हौलपुर गांव का नौजवान रिंकू सिंह अब अमेरिका में अपनी ताकत दिखाकर भारत का नाम रोशन करेगा. दशक भर पहले बेसबॉल खलाड़ी के रूप में वैश्विक स्तर पर अपनी पहचान बनाने वाले रिंकू सिंह अब डब्ल्यूडब्ल्यूई में रेसलिंग करेगे. डब्ल्यूडब्ल्यूई से उनका करार होने के बाद वह WWE के परफॉर्मिंग सेंटर पहुंच गए है. 

रिंकू सिंह इन दिनों अमेरिका के WWE के परफॉर्मिंग सेंटर में पसीना बहाते दिख रहे हैं. रिंकू मूलरूप से भदोही जिले के हौलपुर गांव के निवासी है. रिंकू सिंह को दशक भर पहले तब पहचान मिली थी जब उन्होंने अमेरिका में बेसबॉल खेला, उस समय भारत में बेसबॉल के बारे में बहुत ही कम लोग जानते थे.

Wrestle Mania 33 : रोमन रेंस से हारने के बाद अंडरटेकर ने WWE से लिया संन्यास

रिंकू वही शख्स हैं जिनके जीवन पर डिज्नी ने 'द मिलियन डॉलर आर्म' नाम की फिल्म बनाई थी, लेकिन अब एक बार फिर रिंकू सिंह भारत का नाम पूरी दुनिया में ऊंचा करने जा रहे हैं. 

यूं तो WWE में भारत का नाम आते ही हर भारतीय के जेहन में सबसे पहले खली का नाम ही आ जाता है, लेकिन अब रिंकू भी बहुत जल्दी ही WWE में नजर आएंगे. बीती 13 जनवरी को WWE और रिंकू सिंह के बीच करार हुआ है, जिसके बाद अब रिंकू WWE की परफॉर्मिंग सेंटर में पहुंचकर प्रशिक्षण ले रहे है.

6 फीट 3 इंच लम्बे और 102 किलोग्राम वजनी रिंकू ने दुबई में अप्रैल 2017 में WWE चयन प्रशिक्षण में भाग लिया था. WWE में जाने की खबर जैसे ही रिंकू के परिजनों को मिली सभी बेहतर खुश है उनके परिजनों का कहना है की रिंकू की मेहनत अब रंग लाई है.

WWE रिंग में लड़ने वाली कविता देवी के वीडियो ने यूट्यूब पर मचाई धूम

बता दें कि रिंकू एक सामान्य से परिवार से आते हैं. रिंकू के पिता ब्रह्मदीन सिंह, जो पेशे से एक ट्रक ड्राइवर थे और उन्होंने ड्राइविंग कर रिंकू का पालन पोषण किया है. जब रिंकू बेसबॉल खेलने अमेरिका गए तब जाकर घर की माली हालत सुधरी.

अब एक बार फिर से रिंकू के नाम बड़ी उपलब्धि उपलब्धि दर्ज हुई है. आज रिंकू से प्रेरणा लेकर उनके गांव और आसपास के कई युवा अलग-अलग खेलों में मेहनत करते देखे जा सकते हैं.