close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

विजेंदर ने जताई 2017 के सकारात्मक अंत की उम्मीद

पेशेवर सर्किट में अब तक 9-0 का रिकार्ड रखने वाले विजेंदर ने कहा, ‘‘लगता है अमुजु ने मेरे बारे में पढ़ा नहीं है, अन्यथा वह मेरे बारे में इस तरह की बात करने की हिम्मत नहीं करता. समय ही बताएगा कि कौन किसे ध्वस्त करेगा.’

विजेंदर ने जताई 2017 के सकारात्मक अंत की उम्मीद
विजेंदर ने हंसी में टाल दिया अपने प्रतिद्वंद्वी का बयान (फाइल फोटो)

जयपुर: भारत के दिग्गज मुक्केबाज विजेंदर सिंह ने यहां शनिवार को घाना के अफ्रीकी चैंपियन अर्नेस्ट अमुजु के खिलाफ होने वाले मुकाबले से पहले साल का सकारात्मक अंत करने का भरोसा जताया. डब्ल्यूबीओ ओरिएंटल सुपर मिडिलवेट और डब्ल्यूबीओ एशिया पैसीफिक चैंपियन 32 साल के विजेंदर ने अपने प्रतिद्वंद्वी के हाल के इस बयान को हंसी में टाल दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि वह दर्शकों के पसंदीदा घरेलू मुक्केबाजों को ध्वस्त कर देंगे. पेशेवर सर्किट में अब तक 9-0 का रिकार्ड रखने वाले विजेंदर ने कहा, ‘‘लगता है अमुजु ने मेरे बारे में पढ़ा नहीं है, अन्यथा वह मेरे बारे में इस तरह की बात करने की हिम्मत नहीं करता. समय ही बताएगा कि कौन किसे ध्वस्त करेगा.’

उन्होंने कहा, ‘मैं यह भविष्यवाणी नहीं कर सकता कि मुकाबला कितना लंबा चलेगा लेकिन मैं आश्वस्त कर सकता हूं कि मुकाबले का पहला दौर उसकी लय तय करेगी. मैं अनुभवी मुक्केबाज हूं और मुझे पता है कि क्या और कैसे करना है. मैं लगभग दो महीने से कड़े ट्रेनिंग सत्र में हिस्सा ले रहा हूं. अपना खिताब बचाने के लिए मैं मानसिक और शारीरिक रूप से पूरी तरह से तैयार हूं और साल का अंत अपने देशवासियों के सामने जीत के साथ करना चाहता हूं.’’ अमुजु भी हालांकि विजेंदर से भिड़ने को लेकर आश्वस्त हैं.

यह भी पढ़ें: गुजराती था पाकिस्तान का 'लिटिल मास्टर', फैन ने रेजर से काट दिया था हाथ

अब तक 25 मुकाबलों में 23 जीत दर्ज करने वाले अमुजु ने कहा, ‘‘मैंने उसके रिकार्ड देखे हैं और मुझे पता है कि वह कितना अच्छा है. मैं पहली बार एशिया और भारत आया हूं तथा मुझे विजेंदर के खिलाफ अच्छे कड़े मुकाबले की उम्मीद है. मैं यहां अच्छा प्रदर्शन करने आया हूं.’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं दो खिताब का बचाव करने की उसकी उम्मीद तोड़ दूंगा. मैं उसके घरेलू दर्शकों के सामने उसका सामना करने को लेकर चिंतित नहीं हूं. मैं जहां भी जाता हूं उसे अपना घर बनाता हूं. मैं पहले ही यहां अपना घर बना चुका हूं.’’