close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अमेरिका में मेडिसन स्क्वायर गार्डन से डेब्यू करना चाहते हैं बॉक्सर विजेंद्र सिंह

ओलंपिक और विश्व चैंपियनशिप में पूर्व ब्रॉन्ज मेडल विजेता विजेंद्र 2015 में पेशेवर बनने के बाद से अजेय हैं, लेकिन इस साल उन्होंने एक भी मुकाबले में हिस्सा नहीं लिया.

अमेरिका में मेडिसन स्क्वायर गार्डन से डेब्यू करना चाहते हैं बॉक्सर विजेंद्र सिंह
विजेंद्र सिंह सुपरस्टार केनेलो अल्वारेज के खिलाफ रिंग में उतरना चाहते हैं (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: अमेरिकी पेशेवर सर्किट में भाग्य आजमाने जा रहे भारत के दिग्गज मुक्केबाज विजेंद्र सिंह मेडिसन स्क्वायर गार्डन में पदार्पण करना चाहते हैं और साथ ही उनकी इच्छा मैक्सिको के सुपरस्टार केनेलो अल्वारेज के खिलाफ रिंग में उतरने की भी है. अमेरिकी पेशेवर सर्किट की तैयारी के लिए विजेंद्र कोच फ्रेडी रोच के मार्गदर्शन में ट्रेनिंग करेंगे जो दिग्गज मुक्केबाजी मैनी पैकियाओ के कोच हैं. ओलंपिक और विश्व चैंपियनशिप में पूर्व ब्रॉन्ज मेडल विजेता विजेंद्र 2015 में पेशेवर बनने के बाद से अजेय हैं, लेकिन इस साल उन्होंने एक भी मुकाबले में हिस्सा नहीं लिया.

ब्रिटेन और भारत में 10 मुकाबलों के बाद अब विजेंद्र बाब आरुम के टाप रैंक प्रमोशंस के साथ करार के बाद अमेरिका में चुनौती पेश करने की तैयारी कर रहे हैं. अमेरिका में अगले साल फरवरी-मार्च में उनके पदार्पण की योजना बनाई जा रही है. विजेंद्र ने एक इंटरव्यू में कहा, ‘‘यह रिश्ता (बॉब के साथ) दो साल पुराना है और अंतत: अब यह औपचारिक अनुबंध बना है.’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘मैंने उन्हें (बॉब को) मेडिसन स्क्वायर गार्डन में पदार्पण के अपने सपने के बारे में बताया. ओलंपिक पदक जीतने के बाद मैंने एमएसजी एरेना में मुकाबले की इच्छा जाहिर की थी और जब मैंने बाब को इस बारे में बताया तो उन्होंने कहा ‘लड़के का मेडिसन स्क्वायर का सपना है. देखते हैं हम क्या कर सकते हैं.’’ 

डब्ल्यूबीओ एशिया प्रशांत और ओरिएंटल सुपर मिडिलवेट खिताब जीत चुके विजेंद्र रोच के साथ ट्रेनिंग करेंगे जो लंबे समय से फिलिपीन्स के दिग्गज मुक्केबाज पैकियाओ के कोच हैं. पैकियाओ आठ विभिन्न वजन वर्ग में विश्व चैंपियन रहे हैं.

पेशेवर सर्किट पर रोच का करियर प्रभावी रहा था और वह 53 में से 40 मुकाबले जीतने में सफल रहे थे, लेकिन पार्किंसन बीमारी के कारण 26 साल की उम्र में उन्हें फाइटिंग करियर छोड़ना पड़ा. विजेंद्र की एक और इच्छा केनलो के साथ मुकाबला है जो कई बार के विश्व चैंपियन हैं. भारतीय मुक्केबाज विश्व खिताब मुकाबले में इस 28 साल के मुक्केबाज से भिड़ना चाहता है.

विजेंद्र ने कहा, ''हमने केनेलो के साथ मुकाबले के बारे में चर्चा की. बाब ने मुझे बताया कि अगले साल हम शायद ऐसा कर सकते हैं. हां, अगले साल क्योंकि बॉब ने कहा कि अमेरिका में फाइटिंग में लगातार मुकाबले होते हैं.''

 
 
 
 

 
 
 
 
 
 
 
 
 

Signed with #toprank in LA(usa) with Bob arum 

A post shared by Vijender Singh (@singhvijender) on

उन्होंने कहा, ''मेरा मुख्य लक्ष्य केनेलो है, मेरी नजरें उसके साथ मुकाबले पर हैं और मैं विश्व खिताब मुकाबले को लेकर बेताब हूं.'' मौजूदा साल के संदर्भ में विजेंद्र ने कहा कि उन्होंने अधिकांश समय ट्रेनिंग और अमेरिका में करार को अंतिम रूप दिया और साथ ही अपने पांच साल के बेटे अबीर के साथ भी काफी समय बिताया.

विजेंद्र ने कहा, ''इस साल काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिले. हमने राष्ट्रमंडल खिताबी मुकाबले की योजना बनाई लेकिन किसी कारण से यह मुकाबले से एक हफ्ते पहले रद्द हो गई क्योंकि मेरा प्रस्तावित प्रतिद्वंद्वी चोटिल हो गया. इसके बाद क्वीन्सबेरी के साथ मेरा अनुबंध खत्म हो गया.''

विजेंद्र ने कहा कि बॉब के साथ अनुबंध उन्हें 2019 में कम से कम तीन मुकाबलों की गारंटी देता है और फिटनेस के आधार पर उन्हें पांच मुकाबले भी खेलने को मिल सकते हैं. बॉब पहली बार भारत में मुकाबले का आयोजन भी कर सकते हैं लेकिन अभी किसी चीज को अंतिम रूप नहीं दिया गया है. विजेंद्र ने कहा कि अगर भारत में मुकाबले होते हैं तो यह दिल्ली या मुंबई में हो सकते हैं.