close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

हॉकी टीम में मनोचिकित्सक की जरूरत पर बोले कोच- इस शब्द में नकारात्मक झलक है

कोच हरेंद्र सिंह ने कहा, ‘‘मुझे वो शब्द नहीं पता. किसी भी टीम में सबसे बड़ा मनोचिकित्सक कोच होता है और आप खुद होते हैं. अगर मैं खुद को प्रेरित नहीं करूंगा तो कोई भी शब्द मुझे प्रेरित नहीं कर सकते.’’ 

हॉकी टीम में मनोचिकित्सक की जरूरत पर बोले कोच- इस शब्द में नकारात्मक झलक है
मनोचिकित्सक की जरूरत क्यों है? हरेंद्र सिंह ने पूछा (PIC : Hockey India)

मुंबई : भारतीय हॉकी टीम की आखिरी क्षणों में गोल गंवाने की समस्या ने चिंताएं खड़ी कर दी हैं, लेकिन पुरूष टीम के कोच हरेंद्र सिंह ने मनोचिकित्सक रखने के विचार को खारिज करते हुए कहा कि इस शब्द में ‘नकारात्मक झलक’ आती है. पुरुष टीम ने हाल में समाप्त हुए एशियाई खेलों में सेमीफाइनल में शूटआउट में मलेशिया से हारने के बाद ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया. भारत ने ब्रॉन्ज मेडल के प्लेऑफ में पाकिस्तान को हराया था. 

इससे टीम स्वर्ण पदक से तो चूकी ही, साथ ही 2020 ओलंपिक के लिए सीधे क्वालीफाई करने का मौका भी गंवा बैठी. यह पूछने पर कि टीम को दबाव भरे हालात से निपटने के लिए पेशेवर मदद की जरूरत है तो हरेंद्र ने इससे इनकार किया. उन्होंने पूछा, ‘‘आपको मनोचिकित्सक की जरूरत क्यों है.’’ 

उन्होंने टीम की जर्सी लॉन्च करने के मौके पर कहा, ‘‘अगर आत्मविश्वास हासिल करना ही लक्ष्य है तो आप एक सामान्य व्यक्ति से संपर्क कर सकते हैं और उससे प्रेरणा ले सकते हैं. मनोचिकित्सक शब्द में नकारात्मक झलक आती है और खिलाड़ियों को लगता है कि वे कुछ चीज गलत कर रहे हैं जिसके लिये उन्हें मनोचिकित्सक की जरूरत है. ’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे वो शब्द नहीं पता. किसी भी टीम में सबसे बड़ा मनोचिकित्सक कोच होता है और आप खुद होते हैं. अगर मैं खुद को प्रेरित नहीं करूंगा तो कोई भी शब्द मुझे प्रेरित नहीं कर सकते.’’ 

कोच हरेंद्र ने कहा कि कोच का काम यह सुनिश्चित करना है कि खिलाड़ियों की भावनात्मक जरूरतें समझी जाएं और उनका निवारण किया जाए. उन्होंने कहा, ‘‘मनोचिकित्सक के पास जाने और उससे मदद लेने के बजाय इन चीजों पर ध्यान दिया जाए क्योंकि उसे टीम और खेल के बारे में कोई जानकारी नहीं है, और यह भी नहीं पता कि खिलाड़ी किस तरह बर्ताव करते हैं.’’ 

भारतीय टीम की जर्सी मशहूर डिजाइनर नरेंद्र कुमार ने डिजाइन की है. इसे हॉकी के दिग्गजों अजीत पाल सिंह, अशोक कुमार, धनराज पिल्ले, दिलीप टिर्की, संदीप सिंह की उपस्थिति में हरेंद्र के साथ राष्ट्रीय पुरुष टीम ने प्रदर्शित किया.