Asian Games 2018 : गोल्ड मेडलिस्ट नीरज चोपड़ा से एक विदेशी ने कहा- 'तुम तो शाहरुख जैसे हैंडसम हो'

जेवलीन फेंकने के बाद इंडोनेशिया के एक आदमी ने नीरज से कहा, हेंडसम, भारत के शाहरुख खान की तरह.

Asian Games 2018 : गोल्ड मेडलिस्ट नीरज चोपड़ा से एक विदेशी ने कहा- 'तुम तो शाहरुख जैसे हैंडसम हो'
नीरज का कहना है कि पहली बार उन्होंने किसी बॉलीवुड हस्ती से अपनी तुलना सुनी है. (फोटो File/PTI)

जकार्ता: 18वें एशियन गेम्स में जेवलिन थ्रोअर नीरज चोपड़ा ने इतिहास रचते हुए भारत को 8वां गोल्ड मेडल दिलाया. खेलों के शुरू होने से पहले ही नीरज गोल्ड मेडल के मजबूत दावेदार थे. वे एशियन गेम्स के जेवलिन थ्रो में यह मेडल जीतने वाले पहले भारतीय हैं. 20 साल के नीरज चोपड़ा गेम्स की ओपनिंग सेरेमनी में भारत के फ्लैगबियरर थे. आज भारत में हर कोई उनका मुरीद है लेकिन इंडोनेशिया में भी उनके लुक्स को लोग काफी पसंद कर रहे हैं. 

नीरज ने सोमवार को 88.06 की थ्रो के साथ गोल्ड मेडल जीता. जब वे अपना थ्रो 80 मीटर से ज्यादा दूरी तक फेंक कर गोल्ड मेडल सुनिश्चित कर चुके थे. तब अचानक एक इंडोनेशिया का व्यक्ति उनके पास आया और उनकी तारीफ करते हुए कहा, “हैंडसम, लाइक शाहरुख खान फ्रॉम इंडिया.” हैंडसम, भारत के शाहरुख खान की तरह! नीरज का कहना है कि उन्होंने पहली बार इस तरह खुद की किसी बॉलीवुड हस्ती से तुलना सुनी है. 

एक ही रात में नीरज बन गए सेलिब्रीटी
नीरज के गोल्ड जीतते ही देशभर से सोशल मीडिया पर उनके लिए बधाईयों का तांता लग गया. प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति के अलावा खेल जगत से बॉलीवुड हस्तियों तक ने उन्हें सोशल मीडिया पर बधाई दी. एक ही रात में नीरज सेलिब्रिटी बन गए हैं. लोग उनके लुक और हेयरस्टाइल की तुलना कभी शाहरुख तो कभी धोनी से करते नजर आ रहे हैं. 

नीरज चोपड़ा शुरू से ही इस इवेंट के गोल्ड मेडल के दावेदार थे. उन्होंने शुरुआत भी चैंपियन वाले अंदाज में की. नीरज ने पहला थ्रो 83.46 मीटर का किया. उनका दूसरा थ्रो फाउल हो गया. भारतीय एथलीट ने इसकी भरपाई तीसरे थ्रो में की और 88.06 की थ्रो के साथ गोल्ड पक्का कर लिया. उन्होंने चौथे और पांचवें थ्रो क्रमश: 83.25 और 86.36 मीटर रहा. उनके अलावा कोई भी एथलीट 83 मीटर की दूरी तक जेवलिन थ्रो नहीं कर सका.

नीरज मिल्खा सिंह के बाद दूसरे ऐसे एथलीट हैं जिसने एक साल में कॉमनवेल्थ और एशियाई खेलों में गोल्ड मेडल जीता है

अपना सर्वश्रेष्ठ देना चाहते थे नीरज
नीरज ने एशियाई खेलों से पहले कहा था, "मैं किसी पदक के बारे में नहीं सोच रहा हूं, मैं सिर्फ यह चाहता हूं कि मैं अपना सर्वश्रेष्ठ दूं. हाल ही में यूरोप में बिताए गए तीन-चार महीने काफी अच्छे साबित हुए और मुझे कई टूर्नामेंट खेलने के मौके मिले. मैं अच्छा महसूस कर रहा हूं."