विश्व जूनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप: लक्ष्य सेन पहुंचे सेमीफाइनल में, मेडल किया पक्का

लक्ष्य सेन ने मलेशिया के आदिल शोलेह अली सादकिन को सीधे सेटों में को हराकर विश्व जूनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में जगह बनाई. 

विश्व जूनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप: लक्ष्य सेन पहुंचे सेमीफाइनल में, मेडल किया पक्का
लक्ष्य सेन ने टूर्नामेंट में अब तक बेहतरीन खेल दिखाया है. (फोटो : Twiteer/@lakshya_sen)

मार्कहाम (कनाडा):  भारत के युवा बैडमिंटन खिलाड़ी लक्ष्य सेन का शानदार खेल जारी है. लक्ष्य ने विश्व जूनियर बैडमिंटन चैंपियनशिप के सेमीफाइनल में पहुंचकर मेडल पक्का कर लिया है. चौथी सीड सेन ने शुक्रवार को खेले गए चैंपियनशिप के क्वार्टर फाइनल में गैर वरीय मलेशिया के आदिल शोलेह अली सादकिन को सीधे सेटों में 21-8, 21-18 से मात देकर सेमीफाइनल में प्रवेश किया. 

वर्ल्ड नंबर-9 लक्ष्य ने महज 31 मिनट में क्वार्टर फाइनल जीत लिया. उसने पहले ही गेम में जबर्दस्त बढत बना ली और मलेशियाई खिलाड़ी मूक दर्शक ही नजर आया. दूसरे गेम में उसने वापसी की कोशिश की लेकिन लक्ष्य ने मौका नहीं दिया.  दोनों खिलाड़ियों के बीच करियर का यह पहला मुकाबला था जहां सेन ने बाजी मारी.

नंबर एक खिलाड़ी से होगा मुकाबला
सेमीफाइनल में लक्ष्य का सामना शीर्ष वरीयता प्राप्त थाईलैंड के कुनलावुत वितिदसर्न से होगा जिसने इंडोनेशिया के अलबर्टो आल्विन युलियांतो को 21. 14, 21. 17 से हराया. सेन का वितिदसर्न के खिलाफ उनका 1-0 का करियर रिकॉर्ड है. 17 वर्षीय सेन ने इस साल की शुरूआत में एशियाई जूनियर चैंपियनशिप के फाइनल में विदितसर्न को हराया था. सेन सेमीफाइनल में पहुंचने वाले एकमात्र खिलाड़ी हैं. लक्ष्य ने कहा, ‘‘वह बेहतरीन खिलाड़ी है और उसे हराने के लिये मुझे अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करना होगा. मैं इसके लिये तैयार हूं.’’ 

Lakshya Sen Enter into Semifinal

ऐसा रहा लक्ष्य का सफर
इससे पहले लक्ष्य सेन ने चीनी ताइपै के चेन शियाउ चेंग को हराकर चैम्पियनशिप के क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई थी. उन्होंने नौवी वरीयता प्राप्त चेन को 15. 21, 21. 17, 21. 14 से मात दी थी. अलमोड़ा के 17 बरस के सेन इस साल जुलाई में एशियाई जूनियर चैम्पियनशिप खिताब जीत चुके हैं. लक्ष्य को पहले दौर में बाय मिला था. उसने इसके बाद मैक्सिको के अर्मांडो गेटान और इटली के जियोवान्नी टोटी को सीधे गेम में हराया.

 केवल साइना नेहवाल ने जीता है भारत के लिए यह टूर्नामेंट
भारत की ओर से अभी तक जूनियर विश्व चैम्पियनशिप में एकमात्र स्वर्ण 2008 में साइना नेहवाल ने जीता था. पुरुष युगल में विष्णु वर्धन गौड़ और श्रीकृष्ण साई कुमार पोडिल की भारतीयय जोड़ी को 10वीं सीड कोरिया के ताए यांग शिन व चान वांग से 11-21, 8-21 से हार झेलनी पड़ी. कोरियाई जोड़ी ने 28 मिनट में यह मुकाबला जीता. 

(इनपुट आईएएनएस/भाषा)