close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

साक्षी मलिक को बिना बताए नेशनल कैंप छोड़ने पर मिला नोटिस, बोलीं- 'रक्षाबंधन के लिए घर गई थी'

ओलंपिक मेडल विजेता साक्षी मलिक पर अनुशासन तोड़ने का आरोप था और इसके लिए उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया था.

साक्षी मलिक को बिना बताए नेशनल कैंप छोड़ने पर मिला नोटिस, बोलीं- 'रक्षाबंधन के लिए घर गई थी'
पहलवान साक्षी मलिक आगामी विश्व चैंपियनशिप के लिए पहले ही क्वालीफाई कर चुकी हैं. (फोटो साभार: Instagram/Sakshi Malik)

नई दिल्ली: भारतीय कुश्ती महासंघ (WFI) की ओर से मिले कारण बताओ नोटिस का जवाब देने के बाद ओलंपिक मेडल विजेता भारतीय महिला पहलवान साक्षी मलिक (Sakshi Malik) को लखनऊ स्थित भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) में जारी नेशनल कैंप में फिर से शामिल कर लिया गया है. साक्षी पर अनुशासन तोड़ने का आरोप था और इसके लिए डब्ल्यूएफआई ने उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया था. साक्षी के साथ साथ सीमा बिसला (50 किलो भारवर्ग), किरण (76 किलो भारवर्ग) उन तीन पहलवानों में शामिल हैं, जिन्हें डब्ल्यूएफआई ने राष्ट्रीय कैम्प से निलंबित कर दिया था.

डब्ल्यूएफआई के सह सचिव विनोद तोमर ने सोमवार को कहा कि ये तीनों पहलवान रक्षाबंधन त्योहार के अवसर पर अपने-अपने घर गई थीं. बता दें कि ये तीनों पहलवान आगामी विश्व चैंपियनशिप के लिए पहले ही क्वालीफाई कर चुकी हैं.

त्योहार के लिए घर गई थीं
तोमर ने कहा, "साक्षी ने बताया कि वह त्योहार के लिए घर गई थीं. उन्होंने अपनी गलती स्वीकार कर ली है और कहा है कि उन्हें इसके लिए इजाजत लेनी चाहिए थी. सीमा और किरण ने भी यही वजह बताई है. उन्होंने कारण बताओ नोटिस का जवाब दे दिया है और माफी मांग ली है. इसलिए अब वे दोबारा से कैम्प में हैं."

निलंबित कर दिया गया
लखनऊ के भारतीय खेल प्राधिकरण स्थित नेशनल कैंप से 45 में से 25 खिलाड़ी बिना इजाजत लिए ही वहां से चली गई. गौरहाजिर होने की वजह से के बारे में पता नहीं होने के बाद इन सभी को निलंबित कर दिया गया.

अब कैंप में शामिल हो सकती हैं
तोमर ने कहा कि सभी पहलवानों ने फेडरेशन को अपना जवाब दे दिया है और अब उनसे कहा गया है कि वे फिर से कैंप में शामिल हो सकती हैं.

(इनपुट-आईएएनएस)